धर्म और शिक्षा के जरिए सीमापार से कश्मीर में घोला जा रहा कट्टरपंथ का जहर

जम्मू-कश्मीर में बढ़ रहा कट्टरपंथ का असर (तस्वीर news18.com)
जम्मू-कश्मीर में बढ़ रहा कट्टरपंथ का असर (तस्वीर news18.com)

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में पाकिस्तान (Pakistan) की नापाक हरकतें अब भी जारी हैं. सीमापार से आतंकी धर्म और विचाराधारा के नाम पर लोगों को बरगला रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 12, 2020, 9:06 AM IST
  • Share this:
श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के करीब 33 फीसदी क्षेत्रों में कट्टरपंथी संगठनों की गतिविधियों में तेजी दर्ज की घई है. दक्षिण कश्मीर समेत राज्य के अलग-अलग इलाकों में कट्टरपंथ फैलाने और लोगों के दिमाग में जहर घोलने की कोशिश की जा रही है. हाल ही में एक खुफिया रिपोर्ट के आधार पर अब सुरक्षा सुरक्षा एजेंसियां कट्टरपंथ निरोध अभियान चला रही हैं.

सूत्रों ने कहा कि कट्टरपंथ फैलाने के लिए उन इलाकों को निशाना बनाया जा रहा है जहां आतंकी संगठनों की गतिविधियां ज्यादा होती हैं. पुलवामा, अनंतनाग और कुलगाम में कट्टरपंथियों और आतंकियों के बीच संबंध भी खोजे जा रहे हैं.

यह भी पढ़ें: 2021-22 में तेजी से बढ़ेगी भारत की GDP, गोल्डमैन सैक्स ने लगाया 10 फीसदी ग्रोथ का अनुमान



अगर नहीं सुधरे तो अंजाम बुरा हो सकता है...
हिन्दी अखबार हिन्दुस्तान की एक रिपोर्ट के अनुसार कट्टरपंथियों के निशाने पर धार्मिक और शिक्षण संस्थान हैं. सूत्रों के हवाले से रिपोर्ट में दावा किया गया है कि जिहाद और कट्टरपंथ के जरिए एक बड़ा वर्ग राज्य को अशांत करने की कोशिश में लगा रहता है. ये लोग अक्सर पर्दे के पीछे काम करते हैं और तभी सामने आते हैं जब उनके हिसाब से मौका सही होता है.  जांच एजेंसियां ऐसे सभी लोगों को चेतावनी दे रही हैं. इन सभी को आगाह किया जा रहा है कि अगर वे नहीं सुधरे तो अंजाम बुरा हो सकता है.

रिपोर्ट में एक अधिकारी के हवाले से बताया गया है कि दक्षिण कश्मीर के साथ ही मध्य और उत्तर कश्मीर में भी कट्टरपंथ एक खतरा है. ये वह इलाके हैं जहां जमात का असर है. अधिकारी ने कहा कि इस मामले में अधिकतर संदिग्ध लोगों सो सुधरने का मौक दे रहे हैं. हम उन्हें बता रहे हैं कि उनके खिलाफ हर तरह के सबूत हैं फिर भी उनके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है. अगर वे सुधरेंगे नहीं तो उन्हें गिरफ्तार करना होगा और फिर न्यायिक प्रक्रिया चलेगी.

बताया गया कि सीमा से सटे कश्मीर के इलाकों में कट्टरपंथी पड़ोसी मुल्क से आदेश पाकर धर्म और विचारधारा के पर्दे के पीछे लोगों में जहर घोल रहे हैं और इनका अच्छा खासा नेटवर्क है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज