अपना शहर चुनें

States

कोरोना के बीच एक और खतरनाक बीमारी की दस्तक, अहमदाबाद में अब तक 9 की मौत

दिल्ली, मुंबई और गुजरात में म्यूकोरमिकोसिस का संक्रमण बढ़ता जा रहा है.
दिल्ली, मुंबई और गुजरात में म्यूकोरमिकोसिस का संक्रमण बढ़ता जा रहा है.

'म्यूकोरमिकोसिस' (Mucormycosis) को पहले 'जिगोमिकोसिस' कहा जाता था. ये बीमारी फंगल संक्रमण से होती है. अहमदाबाद (Ahmedabad) में हाल ही में म्यूकोरमिकोसिस के 44 मामले सामने आए हैं जिनमें से 9 मरीजों की मौत हो गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 18, 2020, 5:13 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में कोरोना (Corona) के संक्रमण के बीच एक और जानलेवा बीमारी ने दस्तक दे दी है. कोरोना के बाद देश में तेजी से बढ़ रहे 'म्यूकोरमिकोसिस' (Mucormycosis) ने विशेषज्ञों को परेशानी में डाल दिया है. आमतौर पर इस बीमारी से जुड़े मामले काफी कम आते हैं लेकिन इसे काफी गंभीर बीमारियों की श्रेणी में रखा गया है. इंडिया टुडे की एक रिपोर्ट के मुताबिक, अहमदाबाद (Ahmedabad) में हाल ही में म्यूकोरमिकोसिस के 44 मामले सामने आए हैं जिनमें से 9 मरीजों की मौत हो गई है. संक्रमण से कुछ लोगों की आंखों की रोशनी भी चली गई है.

'म्यूकोरमिकोसिस' को पहले 'जिगोमिकोसिस' कहा जाता था. ये बीमारी फंगल संक्रमण से होती है. 'म्यूकोरमिसेट्स' नाम की फफूंदी से होने वाली इस बीमारी के मामले वैसे तो काफी कम आते हैं लेकिन इसे काफी गंभीर माना गया है. इन दिनों दिल्ली, मुंबई और गुजरात के अहमदाबाद में इसके कई मामले सामने आए हैं. म्यूकोरमिकोसिस के बारे में बताते हुए सर गंगाराम अस्पताल के ईएनटी सर्जन ने बताया म्यूकोरमिकोसिस कोई नया संक्रमण नहीं है. पहले भी इसके कई मामले सामने आ चुके हैं.

म्यूकोरमिकोसिस चिंताजनक तो हैं लेकिन इसे नया कहा जाए तो गलत होगा. म्यूकोरमिकोसिस काफी समय से उन लोगों पर अपना असर दिखाता है जो किसी बीमारी में ट्रांसप्लांट कराते हैं या फिर जिनका इलाज आईसीयू में हो रहा है. कोरोना संक्रमण के इस दौर में काफी संख्या में लोग आईसीयू में भर्ती है इसलिए इसके संक्रमण का खतरा पहले से काफी ज्यादा हो गया है. ये एक गंभीर चिंता का विषय है.
इसे भी पढ़ें :- सावधान! कोरोना वायरस की वैक्सीन को लेकर फैल रही है ये झूठी अफवाह





सर गंगाराम अस्ताल के ईएनटी सर्जन ने बताया कि पिछले 15 दिनों में कोरोना संक्रमित मरीजों में से 13 में म्यूकोरमिकोसिस का पता चला है. इन मरीजों में आंख की रो​शनी कम हाने की शिकायत मिली है. बता दें कि 'म्यूकोरमिकोसिस' बीमारी में जैसे-जैसे संक्रमण फैलता है, ये आंखों की पुतली के आसपास की मांसपेशियों को पैरालाइज कर देता है. इसका सही समय पर इलाज नहीं किया गया तो अंधापन भी हो सकता है. अगर फंगल संक्रमण ब्रेन तक पहुंचा तो मरीज को मस्तिष्क ज्वर भी हो सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज