गगनयान के यात्रियों के खाने का मैन्यू तैयार, परीक्षण के लिए भेजे गए सैंपल

गगनयान के यात्रियों के खाने का मैन्यू तैयार, परीक्षण के लिए भेजे गए सैंपल
मैसूरु स्थित रक्षा खाद्य अनुसंधान प्रयोगशाला ने गगनयान के यात्रियों के खाने का मैन्यू किया तैयार.

मैसूरु स्थित रक्षा खाद्य अनुसंधान प्रयोगशाला (डिफेन्स फूड रिसर्च लेब्रोटरी-DFRL) को भारत (India) के अं​तरिक्ष मिशन गगनयान (Gaganyaan) में दिए जाने वाले भोजन (Food) को तैयार करने का जिम्मा सौंपा गया है. मार्च 2021 तक बनकर तैयार हो जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 30, 2020, 8:11 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत (India) के अं​तरिक्ष मिशन गगनयान (Gaganyaan) के यात्रियों के लिए अंतरिक्ष में रहने के दौरान दिए जाने वाले भोजन (Food) का मैन्यू तैयार कर लिया गया है. मैसूरु स्थित रक्षा खाद्य अनुसंधान प्रयोगशाला (डिफेन्स फूड रिसर्च लेब्रोटरी- DFRL) को अंतरिक्ष में दिए जाने वाले भोजन को तैयार करने का जिम्मा सौंपा गया है. खबर है कि खाने का मैन्यू तैयार करने के बाद भोजन का सैंपल वायुसेना को परीक्षण के लिए भेजा जा चुका है.

भोजन का सैंपल पास होने के बाद इसे तैयार करने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी. अंतरिक्ष में दिया जाने ये स्वादिष्ट 'पैक्ड फूड' मार्च 2021 तक बनकर तैयार हो जाएगा. बता दें कि 70 सदस्यों की वैज्ञानिकों की टीम ने गगनयान मिशन के लिए फिलहाल 7 दिनों का मैन्यू तैयार कर लिया है. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) मिशन गगनयान को अंतिम रूप देते समय इस स्वादिष्ट और पौष्टिक भोजन का परीक्षण करेगा और उसके बाद ही इस पर मुहर लगेगी.

इसे भी पढ़ें : गगनयान: PM मोदी का सपना होगा पूरा, रूस में भारतीय अंतरिक्ष यात्रियों ने पूरी की ट्रेनिंग



जांच के दौरान देखा जाएगा कि अंतरिक्ष के हिसाब से ये भोजन कितने दिन टिके रह सकेंगे. इसी के साथ इसकी पौष्टिकता और इसके स्वाद को भी परखा जाएगा. डीएफआरएल पहले भी अंतरिक्ष यात्रियों के लिए भोजन तैयार कर चुका है. यही कारण है कि यहां के वैज्ञानिकों को एक बार फिर इस मिशन में साथ जोड़ा गया है. बता दें कि डीएफआरएल ने साल 1984 में जब भारत के अंतरिक्ष यात्री राकेश शर्मा (जो कि रूस के अंतरिक्ष मिशन के दौरान रूसी अंतरिक्ष यात्रियों के साथ सात दिन से ज्यादा अंतरिक्ष में रहे थे) के लिए भी भोजन तैयार किया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज