India-China Face Off: भारत ने चीन को सबक सिखाने के लिए लद्दाख में तैनात की माउंटेन फोर्स, करगिल में दिखा चुके हैं कमाल

India-China Face Off: भारत ने चीन को सबक सिखाने के लिए लद्दाख में तैनात की माउंटेन फोर्स, करगिल में दिखा चुके हैं कमाल
माउंटेन फोर्स सेना की वो टुकड़ी है जो पहाड़ की ऊंचाइयों से दुश्मनों पर नजर रखती है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

India-China Face Off: 1999 के करगिल युद्ध में माउंटेन फोर्स (Mountain Force) ने पाकिस्तानी सैनिकों को मुंहतोड़ जवाब दिया था. खुद चीन भी इनकी तारीफ कर चुका है.

  • Share this:
नई दिल्ली. गलवान घाटी (Galwan Valley) में भारत के 20 सैनिकों की शहादत के बाद तनाव जैसा माहौल है. लद्दाख में भारत ने वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर सेना को अलर्ट कर दिया है. इस बीच भारत ने 3488 किलोमीटर लंबे LAC पर माउंटेन फोर्स को तैनात कर दिया है. ये सेना की वो टुकड़ी है जो पहाड़ की ऊंचाइयों से दुश्मनों पर नजर रखती है. कहा जा रहा है कि चीन की सेना को करारा जवाब देने के लिए इन्हें सीमा पर तैनात किया गया है.

क्या है माउंटेन फोर्स की ताकत
सीमा पर तैनात की गई माउंटेन फोर्स गुरिल्ला युद्ध में माहिर होते हैं. मुश्किल हालात में दुश्मनों को ये सबक सिखाने में माहिर हैं. खासतौर पर इन्हें पहाड़ों पर लड़ने के लिए स्पेशल ट्रेनिंग दी जाती है. 1999 के करगिल युद्ध में माउंटेन फोर्स ने पाकिस्तानी सैनिकों को मुंहतोड़ जवाब दिया था. खुद चीन के एक्सपर्ट ने पिछले दिनों कहा था कि इतनी मजबूत माउंटेन फोर्स न तो अमेरिकी के पास है और न ही रूस के पास बल्कि ये ताकत सिर्फ भारत के पास है.

सटीक निशाना साधने में माहिर
अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्स से बातचीत करते हुए एक पूर्व आर्मी चीफ ने कहा कि माउंटेन फोर्स का निशाना काफी सटीक होता है. इस फोर्स में उत्तराखंड, लद्दाख, अरुणाचल प्रदेश और सिक्किम के सैनिकों को जगह दी जाती है. चीन के हिस्से वाला इलाका थोड़ा समतल है लेकिन भारत की तरफ सीमा पर काफी मुश्किल भरी पहाड़ों की चोटियां हैं. ऐसे में इन पर आगे बढ़ना फौज के लिए आसान नहीं होता है. लेकिन माउंटेन फोर्स इस पर बड़े आराम से नियंत्रण कर सकती है.



ये भी पढ़ें:- चीन की चेतावनी- 'राष्ट्रवाद' के चक्कर में न करें 'बायकॉट चाइना', बड़ा नुकसान होगा

सीमा पर तनाव
लद्दाख की गलवान घाटीमें भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद से ही चीन लगातार शांति और बातचीत के जरिए मुद्दे को सुलझाने की बात कहता रहा है. हालांकि, तिब्बत बॉर्डर  पर लगातार चीनी सेना युद्ध की तैयारियों में व्यस्त है. यहां और ज्यादा सैनिकों की तैनाती की जा रही है. इस बीच भारत के डिफेंस एक्सपर्ट एसपी सिन्हा का कहना है कि ये विवाद इतनी जल्दी सुलझने वाला नहीं है. चीन को भारत के जवाब का डर है. लिहाजा वो लद्दाख बॉर्डर पर और ज्यादा सैनिकों की तैनाती कर रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज