• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • 'गलवान के बलवान' : शहीदों की याद में तैयार होगा गार्डन, ITBP ने लगाए 1000 पौधे

'गलवान के बलवान' : शहीदों की याद में तैयार होगा गार्डन, ITBP ने लगाए 1000 पौधे

आईटीबीपी के अनुसार इस स्थान पर खास पौधों को लगाया गया है जो -30 डिग्री में जीवित रह सकें.

आईटीबीपी के अनुसार इस स्थान पर खास पौधों को लगाया गया है जो -30 डिग्री में जीवित रह सकें.

Garden dedicating martyrs: आईटीबीपी के एक अधिकारी ने कहा, "हमने एक वृक्षारोपण अभियान शुरू किया है और अब तक हमने उस विशेष क्षेत्र में 1,000 पौधे लगाए हैं. हमने स्थानीय पौधों को चुना है, जो इस तरह के प्रतिकूल मौसम में भी आसानी से जीवित रह सकते हैं."

  • Share this:
    नई दिल्ली. भारत-चीन सीमा (India-China Border) के उस इलाके जहां पर जून में भारतीय और चीनी सेना का आमान-सामना आया हुआ था. वो जगह अब गलवान के बलवान (Galwan ke Balwan) के नाम से जानी जाएगी. भारत-तिब्बत सीमा पुलिस (Indo-Tibetan Border Police) ने इस जगह को गार्डन बनाने का खास अभियान शुरू किया है. इस कड़ी में यहां पर 1 हजार से भी ज्यादा पौधे लगाए जाएंगे. आईटीबीपी द्वारा -30 डिग्री सेल्सियस तापमान वाले इस क्षेत्र में शहीदों के सम्मान में एक उद्यान का निर्माण किया जा रहा है.

    आईटीबीपी के अनुसार, यह क्षेत्र पूरी तरह से बंजर था और यहां पर कोई भी पौधा नहीं था. अधिकारियों का कहना है कि इतने प्रतिकूल मौसम में भी पौधे लगाए जा रहे हैं और उन्हें सुरक्षित रखा जा रहा है ताकि -30 डिग्री सेल्सियस में भी वो उग सकें. आईटीबीपी के एक अधिकारी ने कहा, "हमने एक वृक्षारोपण अभियान शुरू किया है और अब तक हमने उस विशेष क्षेत्र में 1,000 पौधे लगाए हैं. हमने स्थानीय पौधों को चुना है, जो इस तरह के प्रतिकूल मौसम की स्थिति में भी आसानी से जीवित रह सकते हैं."

    वक्त के साथ क्षेत्र में बढ़ेगी हरियाली
    जल्द ही, ITBP शहीदों को समर्पित एक उद्यान बनाएगा जिसमें सभी शहीदों के लिए समर्पित स्थान होगा. हालांकि, इस साल की शुरुआत में चीन के साथ आमने-सामने होने के दौरान किसी भी आईटीबीपी जवान की मौत नहीं हुई. यह अभियान अगले साल भी जारी रहेगा और जल्द ही इस क्षेत्र में और अधिक हरियाली होगी.

    ये भी पढ़ेंः- 4 करोड़ छात्रों को होगा सरकार की स्कॉलरशिप योजना का लाभ, सीधा खाते में आएंगे पैसे

    चीनी और भारतीय सैनिक पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर मई की शुरुआत से ही आमने-सामने हैं. एलएसी पर स्थिति जून में खराब हो गई थी, जिसके कारण गलवान घाटी में टकराव हुआ, जिसमें दोनों पक्षों के सैनिक हताहत हुए थे. 15-16 जून को हिंसक हड़प में बीस भारतीय सैनिकों ने अपनी जान गंवा दी. यह चीनी सैनिकों द्वारा पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में एकतरफा रूप से यथास्थिति को बदलने के प्रयास के परिणामस्वरूप हुआ.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज