लाइव टीवी

गाजियाबाद: 70 साल के बुजुर्ग ने रची अपनी ही Mercedes Benz लूट की साज़िश, जानिए क्यों ?

News18 Uttar Pradesh
Updated: October 25, 2019, 3:22 PM IST
गाजियाबाद: 70 साल के बुजुर्ग ने रची अपनी ही Mercedes Benz लूट की साज़िश, जानिए क्यों ?
बुजुर्ग ने खुद ही रची अपनी मर्सिडीज़ लूट की साज़िश, पुलिस ने पकड़ कर पहुंचाया जेल

बुजुर्ग हनुमानशरण की योजना इंश्योरेंस के पैसे को हड़पने के साथ ही साथ गाड़ी को बेचकर मुनाफा कमाने की भी थी. मगर पुलिस ने पूरे मामले को खोलकर रख दिया और वो अपने तीन साथियों समेत पुलिस के हत्थे चढ़ गया...

  • Share this:
गाजियाबाद. एक बुजुर्ग ने रुपयों के लालच में अपनी ही मर्सिडीज़ (Mercedes)कार की लूट की रिपोर्ट लिखवा दी लेकिन जनपद की निवाड़ी पुलिस ने बुजुर्ग के इस हैरतंगेज कारनामे का खुलासा 24 घंटे के भीतर ही कर दिया फिलहाल पुलिस ने उन्हें साज़िश में शामिल चार लोगों समेत गिरफ्तार करके सलाखों के पीछे पहुंचा दिया है.

पैसों के लालच में रची साज़िश
पूरा मामला कुछ इस प्रकार बताया जा रहा है कि ये पूरी साज़िश इंश्योरेंस के पैसे हड़पने के लिए रची गई थी लेकिन एक गलती ने साज़िशकर्ताओं को सलाखों के पीछे पहुंचा दिया. थाना निवाड़ी पुलिस ने मामले का खुलासा करते हुए बताया कि आरोपी सत्तर साल के बुजुर्ग हनुमानशरण दिल्ली के लक्ष्मी नगर इलाके में रहते हैं. वो एक नामी कंपनी से मैनेजर के पद से रिटायर हैं.

पकड़े गए अपनी ही कार लूटने के आरोपी आरोपी


मगर पैसों के लालच में उन्होंने ये शर्मनाक हरकत कर डाली. इंश्योरेंस के पैसे हड़पने के लिए उन्होंने अपनी ही मर्सडीज़ कार की लूट की साजिश की. अपनी साज़िश में ये सफल भी हो जाते लेकिन उनके ड्राइवर का फ़ोन गाड़ी में ही छूट गया और इसी भूल के चलते पुलिस ने इन्हें इनके साथियो सहित धर दबोचा. इन लोगों ने साज़िश के तहत दिल्ली से निकल कर गाजियाबाद के निवाड़ी थाना क्षेत्र में एक सुनसान जगह पर पहुंच कर खुद ही कार अपने साथी विशाल अरुण को सौंप दी इसके बाद लूट की फर्जी सूचना पुलिस को भी दे डाली.

डबल मुनाफा कमाने की थी साज़िश
चूंकि मामला हाई प्रोफाइल था साथ ही बुजुर्ग व्यक्ति से हथियारों के बल पर लूट हुई थी तो पुलिस फ़ौरन ही मामले की तफ्तीश में जुट गई. मगर जैसे ही पुलिस की पड़ताल में कड़ी से कड़ी जुड़ती गई खुद पुलिस भी हैरान रह गई. बुजुर्ग हनुमानशरण ने अपने ड्राइवर और साथियों के साथ मिलकर खुद ही पूरी साज़िश रची थी. बुजुर्ग का ड्राइवर सैंकी, विशाल और अरुण नाम के शख्श इस पूरी साज़िश में शामिल थे. इनकी योजना इंश्योरेंस के पैसे को हड़पने के साथ ही साथ गाड़ी को बेचकर मुनाफा कमाने की भी थी. मगर पुलिस ने पूरे मामले को खोलकर रख दिया और हनुमानशरण की साजिश से पर्दा उठ गया.अब हनुमानशरण अपने तीन साथियों के साथ सलाखों के पीछे पहुंच गया है.
Loading...

ये भी पढ़ें - उल्लुओं की जान पर आई आफत, बली देने के लिए लाखों में खरीद रहे लोग

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 25, 2019, 3:22 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...