आर्मी चीफ बोले- जीतू फौजी के खिलाफ सबूत मिले तो पुलिस को सौंप देंगे

सेनाध्‍यक्ष बिपिन रावत ने कहा है कि मैं हुडा के शब्‍दों की इज्‍जत करता हूं. यह एक व्‍यक्‍ति की निजी धारणा है इसलिए इस पर मैं कोई टिप्‍पणी नहीं करना चाहता.

News18Hindi
Updated: December 8, 2018, 1:34 PM IST
आर्मी चीफ बोले- जीतू फौजी के खिलाफ सबूत मिले तो पुलिस को सौंप देंगे
आर्मी चीफ बिपिन रावत (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: December 8, 2018, 1:34 PM IST
पीओके में भारतीय सेना की सर्जिकल स्ट्राइक पर रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल डीएस हूडा की टिप्‍पणी के कुछ ही देर बाद अब सेनाध्‍यक्ष बिपिन रावत का बयान आया है. सेनाध्‍यक्ष बिपिन रावत ने कहा है कि वह हूडा के शब्‍दों की इज्‍जत करते हैं. उन्होंने कहा कि यह एक व्‍यक्‍ति की निजी धारणा है इसलिए इस पर वह कोई टिप्‍पणी नहीं करना चाहते.

इसी के साथ सेनाध्‍यक्ष बिपिन रावत ने बुलंदशहर हिंसा के आरोपी जीतेंद्र मलिक उर्फ जीतू फौजी के बारे में बोलते हुए कहा कि कहा कि यदि उसके खिलाफ कोई सबूत हैं और पुलिस को लगता है कि इस मामले में उसकी भूमिका है तो हम उसे पुलिस को सौंप देंगे और जांच में पूरी तरह से पुलिस का सहयोग करेंगे.



इसे भी पढ़ें :- आर्मी चीफ की पाकिस्तान को दो टूक- भारत से दोस्‍ती चाहिए तो बने सेकुलर
Loading...

मुंबई हमलों में लश्कर-ए-तैयबा की भूमिका को पाक द्वारा स्वीकारने पर आर्मी चीफ ने कहा, "हम जानते हैं कि यह किसने किया. मुझे नहीं लगता कि हमें अब किसी बयान की ज़रूरत है. अंतरराष्ट्रीय समुदाय जानता है कि इसमें कौन शामिल था. स्वीकार करना अच्छा है लेकिन इसके बिना भी हमें यह मालूम है."



हूडा ने सर्जिकल स्ट्राइक पर क्या कहा?
बता दें कि हूडा ने समाचार एजेंसी एएनआई से बातचीत में कहा, 'मुझे लगता है कि  सर्जिकल स्ट्राइक  को जरूरत से ज्यादा तूल दिया गया. सेना का ऑपरेशन जरूरी था और हमें यह करना था. अब इस पर इतनी राजनीति हुई, यह सही है या गलत... यह तो हमें राजनेताओं से पूछना चाहिए.'

वहीं नियंत्रण रेखा पर होने वाली किसी अप्रिय घटना से सीमा पर तैनात सैनिकों को कैसे निपटना चाहिए? इस सवाल के जवाब में हूडा कहते हैं, 'मुझे लगता है कि नियंत्रण रेखा पर जिस तरह की चीजें हो रही हैं, उस सूरत में जब तक पाकिस्तान तनाव कम करने या घुसपैठ रोकने के लिए कोई कदम नहीं उठाता है, तब तक हमें बेहद सक्रिय और अप्रत्याशित जवाबी कार्रवाई के लिए तैयार रहना चाहिए.'

इसे भी पढ़ें :- अब ऐसे हालात नहीं आएंगे कि 26/11 जैसे हमले का सामना न कर सके सेना: आर्मी चीफ
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर