होम /न्यूज /राष्ट्र /

जर्मनी ने 'कोवैक्सीन' को दी मंजूरी, 1 जून से यात्रा करने वालों को नहीं दिखाना होगा सर्टिफिकेट

जर्मनी ने 'कोवैक्सीन' को दी मंजूरी, 1 जून से यात्रा करने वालों को नहीं दिखाना होगा सर्टिफिकेट

कोवैक्सीन को पिछले साल ही डब्लूएचओ ने आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दी थी (फाइल फोटो)

कोवैक्सीन को पिछले साल ही डब्लूएचओ ने आपातकालीन इस्तेमाल की मंजूरी दी थी (फाइल फोटो)

1 जून से जर्मनी की यात्रा करने वाले भारतीय नागरिकों को अब वैक्सीनेशन सर्टिफिकेट देने की जरूरत नहीं पड़ेगी, क्योंकि जर्मनी ने भारत बायोटेक की वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ को मंजूरी दे दी है. इससे जर्मनी की यात्रा करने वाले लोगों को बड़ी राहत मिलेगी.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. जर्मनी ने गुरुवार को भारत बायोटेक की कोरोना वैक्सीन ‘कोवैक्सीन’ को अपनी मंजूरी दे दी है. यह मंजूरी 1 जून से लागू होगी. इसका मतलब है कि अब जर्मनी की यात्रा करने वालों को टीकाकरण के प्रमाण की जरूरत नहीं होगी. भारत में जर्मन राजदूत वाल्टर जे. लिंडनर ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी. उन्होंने कहा कि वह बेहद खुश हैं कि उनकी सरकार ने 1 जून से जर्मनी की यात्रा करने के लिए WHO द्वारा सूचीबद्ध कोवैक्सीन को मान्यता देने का फैसला किया है.

गौरतलब है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) ने पिछले साल नवंबर में ही कोवैक्सीन को आपातकालीन इस्तेमाल के लिए मंजूरी दे दी थी. डब्लूएचओ से मान्यता मिलने के फौरन बाद ही दुनिया के बहुत से देशों ने कोवैक्सीन को मान्यता दे दी थी, जिसमें कनाडा, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन जैसे देश भी शामिल थे.

क्लिनिकल ट्रायल से हटी रोक
इससे पहले अप्रैल में भारत बायोटेक को अमेरिकी फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने जोर का झटका दिया था. ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने कोवैक्सीन के 3 में से दूसरे चरण के क्लिनिकल ट्रायल पर रोक लगा दी थी. मगर बीते सोमवार को यह रोक हटा ली गई है. भारत बायोटेक ने इस बात पर खुशी जाहिर की है और कहा कि अब वह कोवैक्सीन के लिए अपने ट्रायल को आगे बढ़ा सकते हैं.

2-6 साल तक के बच्चों को वैक्सीन देने की तैयारी
अप्रैल में ही ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने 6-12 साल के आयु वर्ग के लिए कोवैक्सीन की मंजूरी दी थी. अब 2 से 6 साल तक के बच्चों को वैक्सीन देने की तैयारी चल रही है. कुछ दिन पहले भारत बायोटेक ने अपने एक बयान में कहा था कि कोवैक्सीन को खास तौर से तैयार किया गया है ताकि वयस्कों और बच्चों को समान डोज दी जा सके.

Tags: Bharat Biotech vaccines, Coronavirus, Covaxin, Germany

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर