अपना शहर चुनें

States

GHMC चुनाव: महज 0.25% वोट ने बदला गणित, वरना बीजेपी होती सबसे बड़ी पार्टी

हैदराबाद में अपने प्रदर्शन से बीजेपी काफी उत्साहित दिखाई दे रही है. सांकेतिक तस्वीर
हैदराबाद में अपने प्रदर्शन से बीजेपी काफी उत्साहित दिखाई दे रही है. सांकेतिक तस्वीर

ग्रेटर हैदराबाद निगम चुनाव (GHMC) के नतीजों पर गौर करें तो महज 0.25 फीसदी मतों के चलते तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) सबसे बड़ी पार्टी बनी जब​कि बीजेपी (BJP) को दूसरे नंबर पर आना पड़ा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 6, 2020, 12:09 PM IST
  • Share this:
हैदराबाद. ग्रेटर हैदराबाद निगम चुनाव (GHMC) के नतीजे सामने आने के बाद बीजेपी (BJP) कम सीट हासिल करने के बावजूद जहां उत्साहित दिख दे रही है, वहीं तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) और ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) की चिंता बढ़ गई है. ग्रेटर हैदराबाद निगम चुनाव के नतीजों पर गौर करें तो महज 0.25 फीसदी मतों के चलते टीआरएस सबसे बड़ी पार्टी बनी जब​कि बीजेपी को दूसरे नंबर पर आना पड़ा.

ग्रेटर हैदराबाद निगम चुनाव के वोट शेयरिंग पर नजर दौड़ाने पर पता चलता है कि चुनाव में टीआरएस का वोट शेयर 35.81 फीसदी था जबकि बीजेपी 35.56 प्रतिशत के साथ ज्यादा पीछे नहीं रही. ऐसे में अगर बीजेपी को 0.25 फीसदी वोट और मिल जाते तो चुनावी समी​करण काफी बदले हुए दिखाई देते.

छोटे से दिखने वाले इस अंतर ने चुनाव परिणाम में अपनी बड़ी भूमिका निभा दी है. इस बार के चुनाव में टीआरएस ने 150 उम्मीदवारों को मैदान में उतारा था ​ज​बकि उसे 55 में जीत हासिल हुई जबकि ​बीजेपी ने बीजेपी के 149 उम्मीदवारों में से 48 ने जीत हासिल की. दरअसल, नेरेडमेट का चुनाव परिणाम अभी नहीं आया है. इसी तरह असदुद्दीन ओवैसी के नेतृत्व वाली ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन को इस चुनाव से काफी उम्मीद थी लेकिन उसे 44 सीटों पर जीत हासिल हुई है.
इसे भी पढ़ें :- हैदराबाद इलेक्‍शन रिजल्ट 2020: TRS ने 55 तो बीजेपी ने 48 सीटों पर कब्जा जमाया, AIMIM के खाते में 44 सीटें



बीजेपी के वोट शेयर में दिखा बड़ा उछाल
ग्रेटर हैदराबाद निगम चुनाव में ​बीजेपी ने जिस तरह की उम्मीद की थी उसका परिणाम भी उसी तरह से देखने को मिला. चुनाव में बीजेपी के वोट शेयर में बड़ा सुधार हुआ है. पिछले चुनावों में महज 10.34 फीसदी वोट हासिल करने वाली पार्टी का वोट शेयर अब 35.56 फीसदी पर पहुंच गया है. वहीं टीआरएस के वोट शेयर में 8 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है. टीआरएस का वोट शेयर पहले जहां 43.85 फीसदी था वहीं इस चुनाव में वह 35.81 फीसदी हो चुका है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज