Home /News /nation /

कांग्रेस की मौजूदा पीढ़ी सुझाव मानने को तैयार नहीं, उन्हें सलाह देना अपराध करने जैसा: गुलाम नबी आजाद

कांग्रेस की मौजूदा पीढ़ी सुझाव मानने को तैयार नहीं, उन्हें सलाह देना अपराध करने जैसा: गुलाम नबी आजाद

गुलाम नबी आजाद ने दी अपनी प्रतिक्रिया. (File pic)

गुलाम नबी आजाद ने दी अपनी प्रतिक्रिया. (File pic)

Congress Leader Ghulam Nabi Azad Exclusive Interview: कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने पार्टी में नेतृत्व परिवर्तन की मांग पर अपनी बात रखी है. News18 से खास बातचीत में उन्होंने कहा कि अब पार्टी को आत्ममंथन, साथ में काम करने और नई रणनीति बनाने की जरुरत है ताकि हम एक ताकत बनकर उभर सकें. उन्होंने कहा कि कांग्रेस की मौजूदा पीढ़ी सुझावों को मानने के लिए तैयार नहीं. यदि कोई वरिष्ठ पार्टी नेता उन्हें सुझाव देने की कोशिश करता है तो उसे अपराध समझा जाता है. जब हमारी सलाह पर ध्यान नहीं दिया जाता है तो दुख होता है. हम सभी मोर्चों पर पार्टी को मजबूत करने के लिए सुझाव देते हैं.

अधिक पढ़ें ...

    (मुफ्ती इस्लाह)

    श्रीनगर: कांग्रेस (Congress) में नेतृत्व संकट, नेतृत्व परिवर्तन और घटते जनाधार से चिंतित पार्टी के सीनियर नेता कभी दबी जुबान में तो कभी खुलकर अपनी बात रख रहे हैं. जम्मू-कश्मीर से तालुक रखने वाले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद (Ghulam Nabi Azad) ने फिर से पार्टी की मौजूदा लीडरशिप पर सवाल उठाए हैं. आमतौर पर विवादित बयानों से दूर रहने वाले गुलाम नबी आजाद को लगता है कि चुनावों में लगातार कांग्रेस की हार के बाद अब पार्टी को नेतृत्व परिवर्तन के मुद्दे पर चिंतन करने की जरुरत है.

    जम्मू-कश्मीर के रामबान इलाके में जनसभा को संबोधित करने के बाद News18 को दिए एक खास इंटरव्यू में उन्होंने पार्टी के अंदर लोकतंत्र की कमी, राहुल गांधी (Rahul Gandhi) और प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Wadra) का नाम लेते हुए मौजूदा नेतृत्व के बारे में बात की. उन्होंने कहा कि कांग्रेस की मौजूदा पीढ़ी सुझावों को मानने के लिए तैयार नहीं. यदि कोई वरिष्ठ पार्टी नेता उन्हें सुझाव देने की कोशिश करता है तो उसे अपराध समझा जाता है. गुलाम नबी आजाद ने कहा कि पार्टी के सीनियर नेताओं की सलाह को अपमान या चुनौती के रूप में नहीं लेना चाहिए.

    ‘युवा पीढ़ी हमारी बात सुनने को तैयार नहीं’
    गुलाम नबी आजाद उन 23 कांग्रेस नेताओं के समूह में शामिल हैं जिन्हें मीडिया द्वारा G23 कहा जाता है. इन नेताओं ने पिछले साल कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखकर चुनावों में मिल रही लगातार हार पर आत्ममंथन और नई रणनीति बनाने का सुझाव दिया था. इन नेताओं ने पार्टी के अंदर लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं की आवश्यकता पर जोर दिया था और कहा था कि पार्टी अध्यक्ष चुनने के लिए संगठनात्मक चुनाव कराए जाएं.

    गुलाम नबी आजाद ने News18 से कहा कि पार्टी नेताओं के सोनिया गांधी से अच्छे संबंध हैं लेकिन युवा पीढ़ी वरिष्ठ नेताओं की बात सुनने को तैयार नहीं है. हाल ही में दिए गए बयान जिसमें उन्होंने कहा था कि उन्हें नहीं लगता है कि कांग्रेस लोकसभा में 300 सीट जीत पाएगी. इस बयान पर सफाई देते हुए गुलाम नबी आजाद ने कहा कि वह उस समय का जिक्र कर रहे थे जब इंदिरा जी के दौर में पार्टी 300 से अधिक सीटें जीतती थी और पी वी नरसिम्हा राव के समय में 250 से अधिक सीटें जीती थीं. लेकिन पिछले कुछ दशकों में हमने बहुत कम सीटें जीती हैं यह सभी जानते हैं.

    यह भी पढ़ें: बिना कांग्रेस के गठबंधन पर विचार कर रही हैं ममता बनर्जी- शिवसेना नेता संजय राउत का दावा

    ‘हम कांग्रेस को मजबूत करना चाहते हैं, पार्टी में पद की कोई लालसा नहीं’
    कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि जब हमारी सलाह पर ध्यान नहीं दिया जाता है तो दुख होता है. हम सभी मोर्चों पर पार्टी को मजबूत करने के लिए सुझाव देते हैं और हम में से किसी को पार्टी में कोई पद नहीं चाहिए. हम सभी चाहते हैं कि पार्टी का प्रदर्शन बेहतर होना चाहिए. यह वह समय है जब सत्तारूढ़ पार्टी मजबूत और विपक्ष कमजोर है और विपक्षी की कमजोरियों का फायदा सत्ताधारी पार्टी को मिल रहा है.

    कांग्रेस में संगठनात्मक चुनावों के सवाल पर गुलाम नबी आजाद ने कहा कि, शुरुआत में हर साल पार्टी के अध्यक्ष का चुनाव होता था, जिसकी अवधि को बढ़ाकर 2 से 5 साल कर दिया लेकिन अब कोई सीमा नहीं है. इसलिए कांग्रेस नेतृत्व अब पहले की तरह लचीला नहीं रहा. गुलाम नबी आजाद ने कहा कि मैं एक कट्टर कांग्रेसी हूं लेकिन अब पार्टी को आत्ममंथन, साथ में काम करने और नई रणनीति बनाने की जरुरत है ताकि हम एक ताकत बनकर उभर सकें.

    वहीं गुलाम नबी आजाद ने कांग्रेस की जम्मू-कश्मीर इकाई में कलह की बात को स्वीकार किया. हालांकि उन्होंने इससे खुद को दूर रखा और कहा कि मेरा इससे कोई लेना-देना नहीं है और मेरी जनसभा को इससे देखकर न जोड़ा जाए.

    Tags: All India Congress Committee, Gulam Nabi Azad, Priyanka gandhi, Rahul gandhi, Sonia Gandhi

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर