नॉर्थ ईस्ट के विधानसभा चुनाव नतीजों पर जानिए किसने क्या कहा...

कैराना के परिणाम ने खासतौर पर यूपी में बीजेपी की चुनौती बढ़ा दी है
कैराना के परिणाम ने खासतौर पर यूपी में बीजेपी की चुनौती बढ़ा दी है

पूर्वोत्तर के चुनावी नतीजे आते ही अलग-अलग दलों के नेता अपने-अपने बयानों से इस जीत को सही और गलत बताने में लगे हुए हैं.

  • News18.com
  • Last Updated: March 3, 2018, 11:50 PM IST
  • Share this:
पूर्वोत्तर चुनावी नतीजो के बाद हर राजनितिक खेमे में उथल-पुथल नज़र आ रही है. इन नतीजो के बाद से ही अलग-अलग प्रतिक्रियाएं आ रही हैं.

त्रिपुरा में बीजेपी के हाथों मिली करारी हार के बाद भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्‍सवादी) के महासचिव सीताराम येचुरी ने तीखी प्रतिक्रया दी है. उन्‍होंने कहा कि त्रिपुरा विधानसभा चुनाव बीजेपी ने मनी पॉवर और मसल पॉवर के दम पर जीता है. बीजेपी ने त्रिपुरा में जनादेश के बल पर नहीं ताकत के बल पर सत्ता हासिल की है.

येचुरी ने 45 फीसदी से ज्यादा वोट लेफ्ट को मिलने पर जनता का आभार व्यक्त किया है. उन्‍होंने कहा कि उनकी पार्टी आदिवासी और गैर आदिवासी एकता के लिए काम करती रहेगी. उन्होंने कहा, "लाखों कार्यकर्ताओं को हमारा लाल सलाम. सत्‍ता से बाहर रहते हुए भी हम लोगों के भले के लिए काम करते रहेंगे. हम हार का एनालिसिस करेंगे." उन्‍होंने कहा कि बीजेपी का एजेंडा देश के लिए खतरनाक है. देश की जनता की बेहतरी के लिए लेफ्ट काम कर रही है. उन्‍होंने कहा कि रामायण में भगवान राम ने अश्वमेघ यज्ञ कराया था जिसे लव कुश ने रोका था. हाशिया और हथौड़ा जुड़वे भाई हैं जो अश्वमेघ यज्ञ रोकेंगे.



पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि क्या एजेंसियों के डर से सीपीएम डरी हुई थी. कुछ तो हुआ है जो रहस्य है, उन्होंने कहा कि मैं त्रिपुरा में नए सिरे से शुरुआत करूंगी क्योंकि यह हमारे लिए एक चैलेंज है. अगर राहुल मेरी बात मान लेते तो मैं वहां 3-4 सभाएं कर देती.  ऐसा होता तो आज चुनावी नतीजे कुछ और ही होते. त्रिपुरा के लोग हमें चाहते हैं. 25 लाख लोगों के वोट पर कब्ज़ा कर लेने से 100 करोड़ लोगों पर कब्ज़ा नही किया जा सकता. यह आसान नहीं है.
पूर्वोत्तर राज्यों के नतीजो पर रविशंकर प्रसाद बोले- " हमें 'कांग्रेस मुक्त भारत' के साथ 'वामपंथ मुक्त भारत' भी कहना चाहिए." पूर्वोत्तर के चुनावी नतीजो पर बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि 'हिदुत्ववादी पार्टी को मिल रही जीत बताती है कि लोग भारत के साथ मिलना चाहते हैं.'

त्रिपुरा व नगालैंड के नतीजों के बीच केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि 'कोई नेता अपने कार्यकर्ताओं को छोड़कर ऐसे समय में नहीं भागता. उन्होंने राहुल को नॉन-सीरियस नेता बताया. आगे उन्होंने कहा, "राहुल गांधी नेचुरल लीडर नहीं है. ये परिस्थितियों की देन हैं. वे रानी की कोख से पैदा हुए हैं. 56 दिन के लिए एक बार भाग गए. वे स्ट्रेस नहीं झेल सकते. इनको पता है कि इन्हें कब भागना है. ये नेचुरल नेता नहीं है फिर भी कांग्रेस के लोग इन्हें नेता बनाए हुए हैं.'

ये भी पढ़ें...
'त्रिपुरा में वामपंथी किला ध्वस्त कर बीजेपी ने रचा इतिहास'
सत्‍ता से बाहर हुआ सबसे गरीब मुख्यमंत्री, जानें कौन है देश सबसे अमीर सीएम
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज