Home /News /nation /

Explained: जलवायु परिवर्तन अब लोगों को कर रहा बीमार, लेकिन क्या होगा इसका इलाज?

Explained: जलवायु परिवर्तन अब लोगों को कर रहा बीमार, लेकिन क्या होगा इसका इलाज?

बढ़ रही है ग्‍लोबल वॉर्मिंग. (File pic)

बढ़ रही है ग्‍लोबल वॉर्मिंग. (File pic)

Climate Change: इस साल उत्तरी गोलार्ध की गर्मियों में प्रशांत उत्तरीपश्चिमी इलाका अभूतपूर्व गर्म हवाओं में भुन गया था. यह वो इलाका है जहां हल्की फुल्की गर्मी पड़ती है और यहां पर रहने वालों के दिमाग में कभी एयरकंडीशनर लगाने का विचार भी नहीं आता है, ना ही उन्हें इसे लगाने की कभी ज़रूरत पड़ी. लेकिन इस बार दिन में चलने वाली लपट की वजह से तापमान ने ऐसी उछाल मारी की लोगों को ऐसा लगा कि वो या तो भुन जाएंगे या पिघल जाएंगे.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्‍ली. आपने वो कहानी तो सुनी होगी, जिसमें घाट पर पैर फिसल जाने की वजह से रानी की कमर टूट जाती है, जब दोषी की ढुंढाई मचती है, तो सबसे पहले पानी डालने वाले पर इल्जाम मढ़ा जाता है, वो दोष मशक (चमड़े का बर्तन जिसमें पानी भरा जाता है) बनाने वाले पर लगा देता है, मशक बनाने वाला दोष बकरी बेचने वाला पर लगाता है, तो बकरी बेचने वाला बकरी पर यह कह कर दोष लगाता है कि वो उसे इतना खाने को देता था लेकिन वो खाती ही नहीं थी. इस तरह राजा इस निर्णय पर पहुंचता है कि बकरी ही दोषी है और उसे फांसी पर चढ़ा दिया जाता है.

    हाल ही में पेरिस में जलवायु परिवर्तन (Climate Change) पर शिखर सम्मेलन हुआ, जिसका नतीजा कुछ इसी दोष मढ़ने की तरह किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सका. और नौ दिन चले अढ़ाई कोस की तर्ज पर सारे देश अपने-अपने घर लौट गए. इस पूरे मामले में इस बार भी फांसी बकरी (आम जनता) को ही चढ़नी है. कनाडा में ऐसा ही एक मामला सामने आया है. जो संभवत: पहला ऐसा मामला जिसमें एक बुजुर्ग महिला के सिरदर्द और डिहाइड्रेशन (पानी की कमी) की शिकायत के लिए जलवायु परिवर्तन पर इल्जाम लगाया है. चिकित्सक का कहना है कि जलवायु संकट पर दोष लगाना ठीक वैसा ही जैसे किसी कुल्हाड़ी को कुल्हाड़ी कहना. तमाम तरह के सबूत और बता रहे हैं कि लोगों के बीमार होने की वजह जलवायु परिवर्तन है और दिक्कत यह है कि हम लक्षणों का इलाज कर रहे हैं, बीमारी का नहीं क्योंकि हमने जलवायु परिवर्तन या ग्लोबल वार्मिंग को अभी तक बीमारी के तौर पर लेना शुरू नहीं किया है.

    क्या था रोग का निदान
    इस साल उत्तरी गोलार्ध की गर्मियों में प्रशांत उत्तरीपश्चिमी इलाका अभूतपूर्व गर्म हवाओं में भुन गया था. यह वो इलाका है जहां हल्की फुल्की गर्मी पड़ती है और यहां पर रहने वालों के दिमाग में कभी एयरकंडीशन लगाने का विचार भी नहीं आता है, ना ही उन्हें इसे लगाने की कभी ज़रूरत पड़ी. लेकिन इस बार दिन में चलने वाली लपट के कारण तापमान ने ऐसी उछाल मारी की लोगों को ऐसा लगा कि वो या तो भुन जाएंगे या पिघल जाएंगे. इन गर्मी ने सैकड़ों लोगों की जान ले ली. कनाडा के ब्रिटिश कोलंबिया प्रांत के एक अस्पताल के आपातकाल विभाग में लोगों की भीड़ बढ़ने लगी. डॉ. कायल मैरिट ने देखा कि घुटन और डिहाइड्रेशन के लक्षण वाले मरीजों की भीड़ लगी हुई थी. यहां तक जंगल में लगी आग के धुएं ने लोगों में सांस संबंधी दिक्कतें खड़ी कर दी थी. उन्होंने मीडिया को बताया कि 70 साल की एक बुजुर्ग महिला को देखकर साफ लग रहा था कि उसके आसपास की घटनाओं से उसकी दिक्कतें बढ़ रही हैं.

    डॉ. मैरिट ने देखा कि वह मरीज जिसे डायबिटीज और दिल की बीमारी थी, उसकी हालत बिगड़ती जा रही थी और वो खुद को हाइड्रेट (पानी की कमी पूरी करना) रखने में संघर्ष कर रही थी. उन्होंने पाया कि वह मरीज एक ट्रेलर में रहती थीं. उनके पास एयर कंडीशनर जैसा कुछ नहीं था. इसी दौरान डॉ. मैरिट ने फैसला किया कि महिला की स्वास्थ्य समस्याओं के पीछे जलवायु परिवर्तन है. इन्होंने स्थानीय मीडिया को बताया कि इस बात को सामने लाने के पीछ बस यही विचार था कि जितना इसे समझा जा रहा है या बात उससे कहीं ज्यादा गंभीर है.

    डॉक्टर ने इस मामले को जलवायु परिवर्तन में क्यों रखा
    डॉ. मैरिट ने मीडिया को बताया कि अगर हम वजह को नहीं देखें और सिर्फ लक्षणों का इलाज करें तो हम लगातार पिछड़ते जाएंगे. साथ ही यह इस बात की ओर भी इशारा करता है कि जिसका इलाज हो रहा था वह एक गरीब महिला थी जिससे यह साफ हो जाता है कि जलवायु परिवर्तन का बुरा असर गरीबों और गरीब देशों पर ज्यादा पड़ेगा.

    आधिकारिक तौर पर उत्सर्जन, प्रदूषण और वैश्विक जलवायु संकट पर आरोप लगाकर सरकारों पर दबाव बनाया जा सकता है कि वो इस मुद्दे को नजरअंदाज नहीं करें.

    2020 में लंदन में इसी तरह का एक मामला सामने आया था जब एक 9 साल के बच्चे ऐल्ला रोबर्टा की 2013 में मौत हो गई थी. उसकी मृत्यु के पीछे वायु प्रदूषण को वजह बताया गया था. वह बच्चा सांस की दिक्कत को लेकर दो साल तक लगातार अस्पतालों के चक्कर काटता रहा. डॉक्टर का मानना था कि वायु प्रदूषण ने उसके अस्थमा की हालत को और बिगाड़ दिया था. विशेषज्ञों का कहना है कि जलवायु परिवर्तन को लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन में नियामकों को सख्त करने की बात की जानी चाहिए.

    स्वास्थ्य जर्नल के संपादक ने मेडिकल जर्नल बीएमजे में एक खुला पत्र लिखा है जिसमें कहा गया है कि वैश्विक तापमान के बढ़ने और प्राकृतिक दुनिया के नष्ट होने से पहले ही स्वास्थ्य में गिरावट आ रही है, यह बात स्वास्थ्य विशेषज्ञ कई दशकों से सामने लाने की कोशिश कर रहे हैं.

    जलवायु परिवर्तन से स्वास्थ्य को खतरा कितना असली
    बीएमजे में लिखे गए खुले पत्र में बताया गया है कि ऐसे लोग जिनकी उम्र 65 वर्ष से अधिक है, उनमें गर्मी की वजह से होने वाली मृत्यु की दर पिछले 20 सालों में 50 फीसद से अधिक बढ़ गई है, यही नहीं जलवायु परिवर्तन का नकारात्मक प्रभाव बच्चों, बड़ों सहित, कमजोर लोगों और तबके को भी पड़ रहा है. उच्च तापमान की वजह से डिहाइड्रेशन, किडनी की परेशानी, त्वचा से जुड़ी दिक्कतें, मानसिक सेहत, गर्भावस्था, दिल की परेशानियां बढ़ी हैं.

    यूएन की रिपोर्ट विश्व स्वास्थ्य संगठन के डेटा के हवाले से बताती है कि जलवायु परिवर्तन की वजह से हर साल 1.5 लाख लोग जान गंवा देते हैं. और इस आंक़ड़े के 2030 तक दोगुना होने का अनुमान है. यही नहीं तापमान बढ़ने से अफ्रीका जैसे देशों में मच्छरों की आबादी बढ़ेगी जिससे मलेरिया, डेंगू और अन्य वेक्टर जनित बीमारियों के फैलने का खतरा बढ़ेगा.

    अगर यह पता भी चल जाए कि बीमारी की वजह जलवायु परिवर्तन, तब भी क्या लाभ, दवा तो है नहीं. विशेषज्ञों के मुताबिक जिस तरह से डॉ. मैरिट ने इसे जलवायु परिवर्तन की वजह से होने वाला मान कर अपने मरीज की दिक्कतों पर ध्यान दिया, इस तरह से तत्काल लिए गए फैसलों से गंभीर परिणामों से बचा जा सकता है.

    रिपोर्ट बताती है कि डॉ. मैरिट ने एक समझदारी भरा कदम उठाया, दुनियाभर के दूसरे स्वास्थ्य पेशेवरों को भी इसी तरह की सोच के साथ काम करना होगा. और यह सोचना होगा कि जलवायु परिवर्तन गंभीर स्वास्थ्य दिक्कतों की वजह हो सकता है. अध्ययन से हम इसके अन्य नतीजों पर भी जल्दी ही पहुंच जाएंगे, लेकिन साथ ही दुनियाभर की सत्ताओं को भी इस बात पर गंभीरता से विचार करना होगा कि दोष लगाने के बजाए कदम उठाना ही एकमात्र उपाय रह गया है.

    Tags: Climate Change, Global warming

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर