चिराग के सामने बड़ी चुनौती-NDA के साथ रहें या बजाएं 'एकला चलो रे' का बिगुल

चिराग पासवान के राजनीतिक तेवरों की इस वक्त हर तरफ चर्चा हो रही है.
चिराग पासवान के राजनीतिक तेवरों की इस वक्त हर तरफ चर्चा हो रही है.

जल्द ही यह बात स्पष्ट हो जाएगी कि चिराग (Chirag Paswan) एनडीए के पाले में ही रहेंगे या फिर एकला चलो रे का बिगुल फूकेंगे. इसके पहले उन्हें अपनी राजनीतिक जमीन का अंदाजा भी लगाना पड़ेगा. ये अभी उनके सामने सबसे बड़ा चैलेंज है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 2, 2020, 5:48 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Election) में पहले चरण के लिए प्रत्याशियों के नॉमिनेशन की प्रक्रिया गुरुवार से शुरू हो गई. चुनाव आयोग (Election Commission) के सूत्रों के मुताबिक तीन प्रत्याशियों ने पहले दिन अपना पर्चा दाखिल भी कर दिया लेकिन अगर दोनों बड़े राजनीतिक गठबंधनों (NDA-GRAND ALLIANCE) की बात करें तो 'फाइनल सेटलमेंट' होता नहीं दिख रहा.

एक तरफ, सत्ताधारी नेशनल डेमोक्रेटिक अलायंस (NDA) में सीटों को लेकर सहमति नहीं बन पा रही है तो वहीं चिराग पासवान (Chirag Paswan) अब भी जेडीयू के खिलाफ मोर्चा खोले हुए हैं. दूसरी तरफ, महाठबंधन के भीतर भी सीटों का तालमेल बनता नहीं दिख रहा है. राज्य में महाठबंधन की सबसे बड़ी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (RJD) और कांग्रेस (Congress) के बीच सीटों पर समन्वय नहीं हो पा रहा है. आरएलएसपी के उपेंद्र कुशवाहा तो मायावती के साथ गठबंधन भी कर चुके हैं.

एलजेपी के जनरल सेक्रेटी के बयान को लेकर कयासबाजी
हालांकि इन सबके बीच चिराग पासवान की अगुवाई वाली लोक जनशक्ति पार्टी को लेकर सबसे ज्यादा चर्चा है. तेजी से बदलते राजनीतिक घटनाक्रमों के बीच बीते मंगलवार को एलजेपी के जनरल सेक्रेटरी शहनवाज अहमद कैफी ने यह कहकर सबको हतप्रभ कर दिया कि चिराग पासवान उनकी पार्टी के सीएम उम्मीदवार हैं.
अब एलजेपी का यह बयान बीजेपी के ताजा बयान से बिल्कुल उलट है. गौरतलब है कि बीजेपी की तरफ से साफ किया जा चुका है कि चुनाव नीतीश कुमार की अगुवाई में ही लड़ा जाएगा. और वो ही राज्य के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार हैं.



एएनआई से कैफी ने बातचीत में कहा था कि पार्टी सदस्यों का भी यही मानना है कि हमें कम से कम 143 सीटों पर चुनाव लड़ना चाहिए. मैं भी पार्टी से यही गुजारिश करूंगा.

चिराग पासवान ने बीजेपी अध्यक्ष से की दो बार मुलाकात
रिपोर्ट के मुताबिक मंगलवार को चिराग पासवान ने भी भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात कर सीटों के बंटवारे पर जल्द ही फैसला लेने की मांग की. पिछले दो हफ्तों में पासवान की भाजपा नेतृत्व के साथ यह दूसरी मुलाकात थी. इससे पहले 15 सितंबर को पासवान ने जेपी नड्डा से मुलाकात कर भाजपा को जेडीयू से ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ने की बात कही थी. पासवान ने पीएम नरेंद्र मोदी को भी इस पूरे मामले पर पत्र लिखकर अवगत कराया था. पत्र में आगामी चुनाव में मौजूदा मुख्यमंत्री के खिलाफ सत्ता विरोधी लहर होने की बात का जिक्र भी प्रमुखता के साथ किया गया था.

चिराग के कदमों पर सबकी नजर
चिराग पासवान के राजनीतिक तेवरों को देखते हुए यह भी कयासबाजी की जा रही है कि वो अकेले भी मैदान में उतर सकते हैं. हालांकि जल्द ही यह बात स्पष्ट हो जाएगी कि चिराग एनडीए के पाले में ही रहेंगे या फिर एकला चलो रे का बिगुल फूकेंगे. इसके पहले उन्हें अपनी राजनीतिक जमीन का अंदाजा भी लगाना पड़ेगा. ये अभी उनके सामने सबसे बड़ा चैलेंज है.

(राजीव कुमार की स्टोरी से इनपुट्स के साथ. पूरी स्टोरी यहां क्लिक कर पढ़ी जा सकती है)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज