कल से इस शहर में अब सूखे कचरे के बदले मिलेंगी- दूध, ब्रेड, अंडे जैसी चीजें

नगर निकाय प्रमुख ने बताया कि यह अभियान केवल पणजी के दुकानदारों के लिए है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)
नगर निकाय प्रमुख ने बताया कि यह अभियान केवल पणजी के दुकानदारों के लिए है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

गोवा की राजधानी पणजी में 2 अक्टूबर से शॉप विद योर वेस्ट कैंपेन’ (Shop With Your Waste Campaign) की शुरुआत हो रही है. इस कैंपेन के तहत लोगों को कचरे के बदले मुफ्त में आवश्यक वस्तुएं दी जाएंगी.

  • Share this:
पणजी. गोवा (Goa) की राजधानी पणजी (Panji) में नागरिक निकाय दो अक्टूबर से बिना किसी कीमत के आवश्यक वस्तुएं (Essentials) देगा. इन वस्तुओं को लेने के लिए आपको सिर्फ सूखा कचरा (Dry Waste) देने की जरूरत होगी. दरअसल पणजी नागरिक निकाय शुक्रवार से ‘शॉप विद योर वेस्ट कैंपेन’ (Shop With Your Waste Campaign) की शुरुआत करने जा रहा है. इसके तहत लोगों को सूखे कचरे के बदले आवश्यक वस्तुएं दी जाएंगी.

पणजी के निगम आयुक्त संजीथ रोड्रीग्स ने बताया कि गांधी जयंती (Gandhi Jayanti) और स्वच्छ भारत अभियान (Swachch Bharat Abhiyan) की छठी वर्षगांठ के मौके पर इस पहल को शुरू किया जाएगा. उन्होंने कहा, ‘वेस्ट एनएएनए’ (Waste NAANA) परियोजना के तहत इस अभियान को जर्मन सरकार विकास निगम (GIJZ) और राष्ट्रीय थिंक-टैंक ऊर्जा एवं संसाधन संस्थान द्वारा कार्यान्वित किया जा रहा है.’’

ये भी पढ़ें- पीएम, राष्ट्रपति को मिलेगी फौलादी सुरक्षा, भारत पहुंचा पहला VVIP विमान 'एयर इंडिया वन'



दुकानदारों के लिए ये योजना
नगर निकाय प्रमुख ने बताया कि यह अभियान केवल पणजी के दुकानदारों के लिए है. उन्होंने कहा कि इस अभियान को 21वीं सदी के पॉलिमर प्राइवेट लिमिटेड (21st Century Polymers Private Limited) का भी समर्थन प्राप्त है, जो कि बड़े पैमाने पर रिसाइकिलर्स का खरीदार है.

मिलेगा ये सामान
लोगों को सामान लेने के लिए दोबारा इस्तेमाल हो सकने वाला कचरा अपने घर से ले जाना होगा. मसलन कि दूध के खाली पैकेट, कार्डबोर्ड, टूटी हुई बोतलें. ऐसे सामानों के बदले आपको ब्रेड, दूध, अंडे, चावल, दालें आदि मिलेगा. बता दें इससे पहले कचरे या बोतल के बदले सामान देने की कई पहल की जा चुकी हैं लेकिन कचरे के बदले खाने-पीने की वस्तुएं देने की ये मुहिम पहली बार सामने आई है.

स्वच्छ भारत मिशन के तहत हुए हैं ये बदलाव
आवास एवं शहरी विकास मामलों के मंत्रालय ने गुरुवार को कहा कि स्वच्छ भारत मिशन-शहरी के तहत देश में अब तक 4,327 नगर निकायों को ‘खुले में शौचमुक्त’ (ओडीएफ) घोषित किया जा चुका है. मंत्रालय ने कहा कि यह घरों में 66 लाख से अधिक व्यक्तिगत शौचालयों तथा छह लाख से अधिक सार्वजनिक और सामुदायिक शौचालयों के निर्माण की वजह से संभव हुआ है.

ये भी पढ़ें- सरकार को मिली एक और राहत! सितंबर में जीएसटी कलेक्शन बढ़कर 95,480 करोड़ हुआ

इसने एक बयान में कहा, ‘‘2014 में इसकी शुरुआत से स्वच्छ भारत मिशन-शहरी (एसबीएम-यू) ने स्वच्छता और ठोस कचरा प्रबंधन दोनों क्षेत्रों में महत्वपूर्ण प्रगति की है. अब तक कुल 4,327 नगर निकायों को खुले में शौचमुक्त घोषित किया जा चुका है.’’

मंत्रालय ने बयान में यह भी कहा कि वह ‘स्वच्छता के छह साल, बेमिसाल’ शीर्षक से दो अक्टूबर को एक वेबिनार का आयोजन कर एसबीएम-यू की छठी वर्षगांठ मना रहा है. दो अक्टूबर को ही महात्मा गांधी की 151वीं जयंती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज