आयुष मंत्री ने पतंजलि के दावे पर कहा: अच्छी पहल लेकिन उचित प्रक्रिया का पालन जरूरी

आयुष मंत्री ने पतंजलि के दावे पर कहा: अच्छी पहल लेकिन उचित प्रक्रिया का पालन जरूरी
आयुष मंत्री श्रीपद नाइक ने कहा कि पतंजिल को पहले अनुमति लेनी चाहिए थी.

आयुष मंत्री श्रीपाद नाइक (Ayush Minister Shripad Naik) ने कहा‘‘ऐसे समय जब हर कोई कोविड-19 (Covid-19) के इलाज के लिए जूझ रहा है, इस तरह की पहल निश्चित रूप से अच्छी बात है लेकिन उचित प्रक्रिया का पालन किया जाना चाहिए.’’

  • Share this:
नई दिल्ली. आयुष मंत्री श्रीपाद नाइक (Ayush Minister Shripad Naik) ने बुधवार को कहा कि योग गुरु रामदेव (Yoga Guru Ramdev) की पतंजलि आयुर्वेद (Patanjali Ayurved) दवाइयां ला रही है और यह "अच्छी पहल" हैं लेकिन उचित प्रक्रिया का पालन किया जाना चाहिए. पतंजलि आयुर्वेद ने दावा किया है कि उनकी दवाइयां कोरोना वायरस (Coronavirus) के इलाज में प्रभावी हैं. एक दिन पहले आयुष मंत्रालय ने पतंजलि आयुर्वेद से कहा था कि वह इन दवाओं का ब्यौरा और अनुसंधान की जानकारी जल्द से जल्द उपलब्ध कराए और जब तक इस विषय पर गौर नहीं कर लिया जाता, इनका विज्ञापन बंद कर दें. नाइक ने कहा कि दवाओं और रामदेव की हर्बल दवा कंपनी द्वारा किए गए शोध परीक्षण से संबंधित दस्तावेज मंगलवार को मंत्रालय को भेज गए. उन्होंने कहा, "मंगलवार को मंत्रालय को जो रिपोर्ट भेजी गयी, उनकी जांच की जाएगी."

मंत्री ने कहा, ‘‘ऐसे समय जब हर कोई कोविड-19 के इलाज के लिए जूझ रहा है, इस तरह की पहल निश्चित रूप से अच्छी बात है लेकिन उचित प्रक्रिया का पालन किया जाना चाहिए.’’ इस बीच उत्तराखंड सरकार (Uttarakhand Govt) पतंजलि को कोरोना वायरस की कथित दवाई को लेकर नोटिस जारी कर रही है. एक अधिकारी ने यह जानकारी दी और कहा कि कंपनी ने केवल खांसी और बुखार के खिलाफ प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली दवाई के लिए आवेदन किया था. इससे पहले नाइक ने बुधवार को कहा कि पतंजलि आयुर्वेद ने कंपनी की उस औषधि के बारे में अपनी रिपोर्ट आयुष मंत्रालय को सौंप दी है जो उसने इस दावे के साथ पेश की है कि इससे सात दिन में कोरोना वायरस का इलाज किया जा सकता है. आयुष मंत्री ने कहा कि मंत्रालय रिपोर्ट पर गौर करेगा और उसके बाद कंपनी को औषधि के बारे में अंतिम अनुमति देने पर निर्णय करेगा.

ये भी पढ़ें- कोविड-19: गुजरात में संक्रमण के मामले 29,000 के पार, 25 और लोगों की मौत



पतंजलि आयुर्वेद ने सौंपी रिपोर्ट
नाइक नयी दिल्ली से फोन पर पीटीआई से बात कर रहे थे. एक दिन पहले नाइक के मंत्रालय ने पतंजलि आयुर्वेद से कहा था कि वह इस औषधि में मौजूद विभिन्न जड़ी-बूटियों की मात्रा एवं अन्य ब्योरा यथाशीघ्र उपलब्ध कराये. मंत्रालय ने साथ ही कंपनी को इस विषय की जांच-पड़ताल होने तक इस उत्पाद का प्रचार भी बंद करने का आदेश दिया था. उन्होंने कहा, ‘‘बाबा रामदेव ने एक नयी औषधि बनायी है. उन्होंने जो भी अनुसंधान किया है वह प्रमाणन के लिए आयुष मंत्रालय में आना चाहिए.’’

नाइक ने कहा, ‘‘हम इस बारे में तभी बोल पाएंगे जब हम दावों पर गौर करेंगे. मुझे बताया गया है कि उन्होंने (पतंजलि) एक रिपोर्ट मंत्रालय को सौंपी है. मंत्रालय रिपोर्ट पर गौर करेगा और अंतिम अनुमति उस पर गौर करने के बाद दी जाएगी.’’

पतंजलि आयुर्वेद ने किया था ये दावा
पतंजलि आयुर्वेद ने 'कोरोनिल’ दवा पेश करते हुए मंगलवार को दावा किया था कि उसने कोविड-19 का इलाज ढूंढ लिया है. कंपनी ने दावा किया था कि उसकी औषधि के कोविड-19 मरीजों पर क्लीनिकल ट्रायल के दौरान 100 प्रतिशत अनुकूल परिणाम आये, उन मरीजों को छोड़कर जो जीवन रक्षक उपकरणों पर हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading