Home /News /nation /

ओमिक्रॉन वेरिएंट से पूरी दुनिया खौफ में, लेकिन WHO ने दी ये राहत भरी खबर

ओमिक्रॉन वेरिएंट से पूरी दुनिया खौफ में, लेकिन WHO ने दी ये राहत भरी खबर

दुनियाभर के देशों में कोरोना के नए वैरिएंट को लेकर चिंता है. (तस्वीर-AP)

दुनियाभर के देशों में कोरोना के नए वैरिएंट को लेकर चिंता है. (तस्वीर-AP)

Good News on Omicron Variant: WHO के प्रवक्ता क्रिस्चियन लिंडमियर ने कहा-मैंने अभी तक ओमिक्रॉन से जुड़ी मौत की खबर नहीं पढ़ी है. देश लगातार लोगों की टेस्टिंग कर रहे हैं. ओमिक्रॉन वैरिएंट पर निगाहें बनी हुई हैं. आशा है कि जल्द ही हम इसके बारे में और ज्यादा जानकारी हासिल कर पाएंगे.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन (Omicron Variant) ने इस वक्त दुनियाभर में हड़कंप मचा रखा है. इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि अभी तक इस नए वैरिएंट से किसी भी व्यक्ति की मौत की खबर नहीं (no death) सामने आई है. WHO ने कहा है कि वो वैरिएंट ऑफ कंसर्न ओमिक्रॉन को लेकर और डेटा जुटा रहा है. संयुक्त राष्ट्र की स्वास्थ्य एजेंसी ने कहा कि कई देशों में फैलने के बावजूद अभी तक ओमिक्रॉन के कारण मौत की खबर नहीं प्रकाश में आई है.

    WHO के प्रवक्ता क्रिस्चियन लिंडमियर (Christian Lindmeier) ने कहा-मैंने अभी तक ओमिक्रॉन से जुड़ी मौत की खबर नहीं पढ़ी है. देश लगातार लोगों की टेस्टिंग कर रहे हैं. ओमिक्रॉन वैरिएंट पर निगाहें बनी हुई हैं. आशा है कि जल्द ही हम इसके बारे में और ज्यादा जानकारी हासिल कर पाएंगे.

    डेल्टा वैरिएंट के खिलाफ किया सचेत
    ओमिक्रॉन के खौफ के बीच लिंडमियर ने लोगों को डेल्टा वैरिएंट (Delta Variant) के खिलाफ भी सचेत किया है. उनके मुताबिक अब भी दुनिया में 99.8 फीसदी कोरोना केस डेल्टा वैरिएंट से जुड़े हुए हैं. यानी अब भी दुनिया में कोरोना का प्रभावी वैरिएंट डेल्टा ही बना हुआ है. उन्होंने कहा-हो सकता है कि ओमिक्रॉन के मामले तेजी से बढ़ें और एक वक्त ये प्रभावी वैरिएंट भी बन सकता है लेकिन इस वक्त सबसे ज्यादा प्रभावी डेल्टा वैरिएंट ही है.

    ये भी पढ़ें: ओमिक्रॉन के खतरे के बीच बड़ी लापरवाही, अफ्रीकी देशों से आए 10 यात्री बेंगलुरु में ‘लापता’

    स्पाइक प्रोटीन में गंभीर म्यूटेशन
    बता दें कि कोरोना वायरस के हर वेरिएंट में उसके SPIKE प्रोटीन में फर्क होता है. डेल्टा वेरिएंट के SPIKE प्रोटीन में 2 म्यूटेशन थे जबकि ओमिक्रॉन वेरिएंट में उससे कई गुणा ज्यादा म्यूटेशन है. यही वजह है कि ओमिक्रॉन ज्यादा संक्रमण फैला सकता है. एक इंसान से दूसरे इंसान में फैलने की इसकी रफ्तार पहले वेरिएंट से बहुत ज्यादा तेज है.

    क्या शुरू होंगे बूस्टर डोज?
    इस बीच एक टॉप अमेरिकी एक्सपर्ट ने ओमिक्रॉन के खिलाफ बूस्टर डोज की जरूरत पर जोर दिया है. साथ ही उनका कहना है कि ट्रैवल बैन से ओमिक्रॉन की रफ्तार पर बहुत ज्यादा फर्क नहीं पड़ेगा. उन्होंने कहा कि अभी ओमिक्रॉन के कारण माइल्ड केस ही ज्यादा सामने आ रहे हैं इसलिए बूस्टर डोज को लेकर विचार किया जा सकता है.

    Tags: COVID 19, Omicron variant

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर