• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • GOOD NEWS SANJEEVANI 28 METRIC TONS OF OXYGEN REACHED IN ADDITION TO THE PRESCRIBED QUOTA RJSR

Good News: कोटा संभाग के अस्पतालों के लिये निर्धारित कोटे के अतिरिक्त 28 मैट्रिक टन ऑक्सीजन पहुंची

कोटा पहुंचे टैंकर को न्यू मेडिकल कॉलेज अस्पताल स्थित टैंक में खाली कराया गया है. इसके बाद अस्पताल में ऑक्सीजन की पर्याप्त उपलब्धता हो गई है.

Good news for kota division: ऑक्सीजन की कमी से जूझ रहे कोटा संभाग के अस्पतालों को संजीवनी (Sanjeevani) मिल गई है. कोटा संभाग के अस्पतालों के लिये राज्य के निर्धारित कोटे के अलावा 28 मैट्रिक टन आक्सीजन और मिल गई है.

  • Share this:
कोटा. कोविड के कारण ऑक्सीजन की कमी (Oxygen crisis) के बीच लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला (Lok Sabha Speaker Om Birla) के प्रयास कोटा समेत समूची हाड़ौती के लिए बड़ी राहत लेकर आए हैं. बिरला की कोशिशों के चलते राजस्थान को आवंटित कोटे के अतिरिक्त 28 मैट्रिक टन आक्सीजन और मिल गई है. ऑक्सीजन लेकर जामनगर से एक टैंकर गुरुवार शाम कोटा पहुंचा. वहीं राजस्थान की पहली ऑक्सीजन स्पेशल ट्रेन भी 40 मैट्रिक टन ऑक्सीजन लेकर शुक्रवार सुबह कोटा पहुंच गई है.

कोटा ऑक्सीजन कंसंट्रेटर बैंक के संस्थापक सदस्य दीपक राजवंशी ने बताया कि ऑक्सीजन की कमी का कोटा संभाग के सभी अस्पताल सामना कर रहे हैं. हालात यह हैं कि ऑक्सीजन नहीं होने के कारण बेड होने पर भी अस्पताल प्रशासन को मरीजों को भर्ती करने से इनकार करना पड़ रहा था. बिरला ने इस संबंध में जामनगर रिफाइनरी के उच्च पदस्थ अधिकारियों से लगातार चर्चा की. इसका लाभ यह मिला कि एक तरफ कोटा और बूंदी के अस्पतालों की आवश्यकता की पूर्ति के लिए राज्य को आवंटित कोटे के अतिरिक्त 28 मैट्रिक टन ऑक्सीजन से भरा एक टैंक कोटा पहुंच गया है.

न्यू मेडिकल कॉलेज अस्पताल स्थित टैंक में खाली कराया
कोटा पहुंचे टैंकर को न्यू मेडिकल कॉलेज अस्पताल स्थित टैंक में खाली कराया गया है. इसके बाद अस्पताल में ऑक्सीजन की पर्याप्त उपलब्धता हो गई है. इसे देखते हुए लोकसभा अध्यक्ष बिरला ने अस्पताल प्रशासन को निर्देश दिए हैं कि अब किसी भी मरीज को भर्ती करने से इनकार नहीं किया जाए. वेंटीलेटर, आईसीयू और ऑक्सीजन बेड्स पर मरीजों को भर्ती कर उनको समुचित उपचार मुहैया कराया जाए.

920 किलोमीटर का सफर तय करके पहुंची ऑक्सीजन ट्रेन
कोटा रेल मंडल के वरिष्ठ वाणिज्य प्रबंधक अजय कुमार पाल ने बताया कि ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन में तीन टैंकर्स में 40 मैट्रिक टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन का परिवहन बड़ी सावधानी के साथ किया गया है. रोल ऑन रोल ऑफ यानि रो-रो पद्धति से इसका परिवहन किया गया. इसमें सीधे टैंकर्स को रेलवे की बोगी पर लोड कर दिया जाता है. यह डोर टू डोर सेवा होती है. यह ऑक्सीजन एक्सप्रेस लगभग 920 किलोमीटर का सफर तय करके शुक्रवार तड़के कोटा पहुंची.

बूंदी जिले के सभी सिलैंडर होंगे रिफिल
जामनगर से गुरुवार शाम कोटा पहुंचे ऑक्सीजन टैंकर से बूंदी जिले के सभी अस्पतालों के सिलेंडर भी रिफिल किए जाएंगे. इसके लिए संबंधित अधिकारियों को निर्देश दे दिए गए हैं. जिला कलक्टर आशीष गुप्ता के अनुसार सभी ऑक्सीजन सिलेंडर भरने के बाद कोविड रोगियों के उपचार में सहायता मिलेगी. वहीं अतिरिक्त मरीजों को भर्ती कर उनका उपचार कर पाना भी संभव हो सकेगा.
Published by:Sandeep Rathore
First published: