Weather Forecast: 2021 में पूरे रंग में होगा मानसून! जून से सितंबर तक अच्छी बारिश की संभावना

उत्तर भारत के मैदानी भागों और देश के उत्तर-पूर्व के कुछ क्षेत्रों में बारिश कम हो सकती है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Shutterstock)

उत्तर भारत के मैदानी भागों और देश के उत्तर-पूर्व के कुछ क्षेत्रों में बारिश कम हो सकती है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: Shutterstock)

Weather Update: स्काईमेट के आंकड़े बताते हैं कि जून में 166.9 मिमी के मुकाबले 106 फीसदी बारिश (Rain) हो सकती है. एजेंसी के अनुमान के अनुसार, इस दौरान 70 फीसदी संभावना सामान्य बारिश की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 13, 2021, 6:09 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. फिलहाल देश के कई हिस्से भीषण गर्मी (Extreme Heat) का सामना कर रहे हैं. ऐसे में मौसम की जानकारी देने वाली एजेंसी स्काईमेट की खबर राहत देने वाली है. एजेंसी ने साल 2021 में मानसून (Monsoon) के बेहतर प्रदर्शन का अनुमान लगाया है. कहा जा रहा है कि सितंबर में अच्छी बारिश हो सकती है. इसके अलावा चार महीनों- जून-जुलाई-अगस्त-सितंबर में अच्छी बारिश बने रहने की संभावना है. एजेंसी ने अनुमान लगाया है कि औसत वर्षा 880.6 मिमी की तुलना में 103 प्रतिशत बारिश हो सकती है.

खास बात है कि मानसून के शुरुआती महीनों में ही बेहतर बारिश हो सकती है. स्काईमेट ने कहा है कि जून और सितंबर में व्यापक वर्षा के संकेत नजर आ रहे हैं. वहीं, कहा गया है कि उत्तर भारत के मैदानी भागों और देश के उत्तर-पूर्व के कुछ क्षेत्रों में बारिश कम हो सकती है. एजेंसी ने कहा है कि आंतरिक कर्नाटक में भी जुलाई-अगस्त में मानसून कमजोर रहेगा. खास बात है कि इन दोनों महीनों को मानसून का प्रमुख समय माना जाता है.

यहां समझते हैं कि इस बार जून-जुलाई-अगस्त और सितंबर में मानसून के कैसे प्रदर्शन की संभावना है-

स्काईमेट के आंकड़े बताते हैं कि जून में 166.9 मिमी के मुकाबले 106 फीसदी बारिश हो सकती है. एजेंसी के अनुमान के अनुसार, इस दौरान 70 फीसदी संभावना सामान्य बारिश की है. जबकि, 20 फीसदी संभावना है कि सामान्य से अधिक बारिश हो सकती है. वहीं, सामान्य से कम बारिश होने की संभावना केवल 10 प्रतिशत ही है.
जून के मुकाबले जुलाई में मानसून के प्रदर्शन पर असर पड़ सकता है. कहा जा रहा है कि 289 मिमी के मुकाबले 97 फीसदी बारिश हो सकती है. इस दौरान 75 प्रतिशत संभावना है कि सामान्य से ज्यादा बारिश होगी. जबकि केवल 10 प्रतिशत संभावना सामान्य से ज्यादा बारिश की है. इसके बाद अगस्त में बारिश के हालात कुछ सुधरेंगे और 258 मिमी के मुकाबले 99 प्रतिशत वर्षा हो सकती है. इस दौरान 80 फीसदी संभावना सामान्य बारिश की है.



स्काईमेट के आंकड़े बताते हैं कि सितंबर में बारिश ज्यादा हो सकती है. एजेंसी ने अनुमान लगाया है कि इस दौरान 170.2 मिमी के मुकाबले 116 प्रतिशत बारिश हो सकती है. इतना ही नहीं मानसून के तीनों प्रमुख महीनों के मुकाबले सितंबर में सामान्य से ज्यादा बारिश हो सकती है. एजेंसी के आंकड़े बताते हैं कि इस दौरान 60 फीसदी संभावना सामान्य से ज्यादा बारिश होने की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज