गूगल सर्च ने कन्नड़ को बताया 'सबसे बदसूरत भाषा', बढ़ती आलोचना के बाद माफी मांगी

इंटरनेट और सरकार के स्तर पर आलोचना का सामना करने के बाद गूगल ने माफी मांग ली थी. (सांकेतिक तस्वीर)

इंटरनेट और सरकार के स्तर पर आलोचना का सामना करने के बाद गूगल ने माफी मांग ली थी. (सांकेतिक तस्वीर)

Google Kannada Search: कर्नाटक सरकार (Karnataka Government) टेक कंपनी को इसके संबंध में कानूनी नोटिस भेजेगी. इस बात की जानकारी संस्कृति मंत्री अरविंद लिंबावली ने दी थी. उन्होंने कहा था कि यह गूगल का 'कन्नड़ भाषियों के सम्मान का अपमान करने का प्रयास था.

  • Share this:

बेंगलुरु. गूगल सर्च ने कन्नड़ को भारत (India) की सबसे बदसूरत भाषा बता दिया था. हालांकि, कर्नाटक सरकार और इंटरनेट यूजर्स के कड़े विरोध के बाद कंपनी ने माफी मांग ली थी. साथ ही गूगल ने सर्चिंग के नतीजों में भी बदलाव किया था. सोशल मीडिया (Social Media) पर इससे जुड़े स्क्रीनशॉट बड़े स्तर पर शेयर किए जाने लगे थे. खबर है कि 'ugliest language in India' यानि भारत की सबसे बदसूरत भाषा सर्च करने पर नतीजों में कन्नड़ का नाम सामने आ रहा था.

स्क्रोल के मुताबिक, कर्नाटक सरकार ने गुरुवार को कहा था कि वे टेक कंपनी को इसके संबंध में कानूनी नोटिस भेजेंगे. इस बात की जानकारी संस्कृति मंत्री अरविंद लिंबावली ने दी थी. उन्होंने कहा था कि यह गूगल का 'कन्नड़ भाषियों के सम्मान का अपमान करने का प्रयास था.' साथ ही उन्होंने कंपनी से इस मामले पर माफी की मांग की थी. उन्होंने कहा, '2500 साल पहले अस्तित्व में आई कन्नड़ भाषा का अपना इतिहास है. यह ढाई सहस्राब्दियों से कन्नड़ लोगों का गौरव रहा है.'

गूगल ने माफी मांगी

इंटरनेट और सरकार के स्तर पर आलोचना का सामना करने के बाद गूगल ने माफी मांग ली थी. गुरुवार शाम गूगल ने ट्विटर पर एक बयान जारी किया था. भाषा के अनुसार, गूगल के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘सर्च हमेशा पूरी तरह परिपूर्ण नहीं होती. कई बार इंटरनेट पर उल्लेखित सामग्री के विशेष सवालों के लिए आश्चर्यजनक परिणाम हो सकते हैं.’


प्रवक्ता ने कहा, ‘हम जानते हैं कि यह आदर्श नहीं है, लेकिन जब हमें किसी मुद्दे से अवगत कराया जाता है तो हम तत्काल सुधारात्मक कार्रवाई करते हैं और अपने अल्गोरिद्म को सुधारने के लिए लगातार काम करते हैं. स्वाभाविक रूप से इनमें गूगल की अपनी राय नहीं होती और हम इस गलतफहमी के लिए और किसी की भी भावनाओं को आहत करने के लिए खेद जताते हैं.’

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज