अपना शहर चुनें

States

गृह मंत्रालय ने जारी की देश के टॉप-10 पुलिस स्टेशनों की लिस्ट, देखिए कौन-कौन से राज्यों को मिली जगह

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2015 में थाने की लिस्ट निकलवाने की शुरुआत की थी.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2015 में थाने की लिस्ट निकलवाने की शुरुआत की थी.

10 best performing police stations: पुलिस थानों की ग्रेडिंग के लिए प्राप्त जानकारी के आधार पर उनके कार्य प्रदर्शन के मूल्यांकन के लिए मानक निर्धारित किया जाता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 3, 2020, 4:09 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय गृह मंत्रालय (Home Ministry) ने देश के टॉप-10 पुलिस स्टेशनों (police stations) की लिस्ट जारी की है. गृह मंत्रालय ने चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में सर्वश्रेष्ठ पुलिस स्टेशनों के लिए इस साल भी सर्वेक्षण किया था. इसमें इस बार कोरोना प्रोटोकॉल के पालन को भी एक श्रेणी में रखा गया है. सर्वेक्षण सरकार के दिशानिर्देशों के अनुसार किया गया था.

देश के टॉप-10 पुलिस स्टेशनों की लिस्ट में हर स्टेशन अलग-अलग राज्य से हैं. इस लिस्ट में मणिपुर (Manipur) में थौबल का नोंगपोक सेमकई पुलिस स्टेशन नंबर वन पर है. वहीं, दूसरे और तीसरे स्थान पर तमिलनाडु व अरुणाचल प्रदेश के पुलिस स्टेशनों ने जगह बनाई है.

यहां देखिए देश के टॉप-19 पुलिस स्टेशनों की लिस्ट

  1. नोंगपोक सेमकई (थौबल, मणिपुर)



  2. एडब्ल्यूपीएस सुरमंगलम (सालेम, तमिलनाडु)

  3. खरसांग (चांगलांग, अरुणाचल प्रदेश)

  4. झिलमिल (सुरजापुर, छत्तीसगढ़)

  5. संगुएम (दक्षिण गोवा, गोवा)

  6. कालीघाट (उत्तर और मध्य अंडमान, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह)

  7. पॉकयोंग (पूर्वी जिला, सिक्किम)

  8. कांठ (मुरादाबाद, उत्तर प्रदेश)

  9. खानवेल (दादरा और नागर हवेली, दादरा और नागर हवेली)

  10. जम्मीकुंटा टाउन (करीमनगर, तेलंगाना)


कैसे हुई थी टॉप-10 थानों का चयन करने की शुरुआत?
उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2015 में थाने की लिस्ट निकलवाने की शुरुआत की थी. पीएम मोदी ने कहा था कि पुलिस स्टेशनों की ग्रेडिंग के लिए प्राप्त जानकारी के आधार पर उनके कार्य प्रदर्शन के मूल्यांकन के लिए मानक निर्धारित होना चाहिए.

किस आधार पर बनाई गई है लिस्ट
जानकारी के मुताबिक, केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा ये लिस्ट निम्‍नलिखित अपराधों के समाधान के आधार पर बनाई गई:

  1. सम्‍पत्ति अपराध

  2. महिलाओं के विरूद्ध अपराध

  3. कमजोर वर्गों के विरूद्ध अपराध

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज