सरकार ने सिख अलगाववादी संगठन SFJ से जुड़ी 40 वेबसाइट पर रोक लगाई

सरकार ने सिख अलगाववादी संगठन SFJ से जुड़ी 40 वेबसाइट पर रोक लगाई
अमेरिका के न्यूयॉर्क में प्रदर्शन करते खालिस्तान समर्थक प्रदर्शनकारियों की फाइल फोटो

गृह मंत्रालय (Home Ministry) के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘‘ग़ैर क़ानूनी गतिविधि (निरोधक) अधिनियम (UPA), 1967 के तहत सिख्स फॉर जस्टिस (SFJ) एक गैरकानूनी संगठन है. उसने अपने उद्देश्य के लिए समर्थकों के पंजीकरण (Registration) करने के वास्ते एक अभियान शुरू किया था.

  • Share this:
नई दिल्ली. प्रतिबंधित संगठन सिख्स फॉर जस्टिस (SFJ) से जुड़ी 40 वेबसाइट पर अलगाववादी गतिविधियों (Separatist activities) का समर्थन करने के लिए सरकार द्वारा रोक लगा दी गई है. यह जानकारी गृह मंत्रालय (Home Ministry) ने रविवार को दी. अमेरिका (American) स्थित सिख्स फॉर जस्टिस (SFJ) एक खालिस्तान समर्थक समूह (Pro-Khalistan group) है.

गृह मंत्रालय (Home Ministry) के एक प्रवक्ता ने कहा, ‘‘ग़ैर क़ानूनी गतिविधि (निरोधक) अधिनियम (UPA), 1967 के तहत सिख्स फॉर जस्टिस (SFJ) एक गैरकानूनी संगठन है. उसने अपने उद्देश्य के लिए समर्थकों के पंजीकरण (Registration) करने के वास्ते एक अभियान शुरू किया था. गृह मंत्रालय की सिफारिश पर इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (MEITY) ने सूचना प्रौद्योगिकी कानून, 2000 के सेक्शन 69 ए के तहत एसएफजे की 40 वेबसाइट पर रोक लगाने के आदेश जारी किये.’’

पिछले साल ही गृह मंत्रालय ने SFJ को किया था प्रतिबंधित
इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (MEITY) भारत में साइबर स्पेस (Cyber Space) की निगरानी करने के लिए नोडल एजेंसी है.
पिछले वर्ष गृह मंत्रालय (Home Ministry) ने एसएफजे (SGJ) को कथित राष्ट्रविरोधी गतिविधियों के लिए प्रतिबंधित कर दिया था.



SFJ खुले तौर पर खालिस्तान के उद्देश्य का करता है समर्थन, रेफरेंडम 2020 पर देता है जोर
एसएफजे ने अपने अलगाववादी एजेंडे के तहत सिख जनमत संग्रह 2020 (Sikh Referendum 2020) पर जोर दिया था.

एक अन्य अधिकारी ने बताया कि यह संगठन खालिस्तान (Khalistan) के उद्देश्य का खुले तौर पर समर्थन करता है और ऐसा करके भारत की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता को चुनौती देता है. गृह मंत्रालय ने अलगाववादी खालिस्तानी संगठन से जुड़े नौ लोगों को एक जुलाई को यूएपीए के तहत आतंकवादी घोषित कर दिया था. इनमें से चार लोग पाकिस्तान में हैं. ये लोग विभिन्न आतंकी संगठनों से जुड़े हुए हैं.

अलगाववादी संगठनों के चारों सरगना पाक में
उनमें बब्बर खालसा इंटरनेशनल का सरगना वाधवा सिंह बब्बर, इंटरनेशनल सिख यूथ फेडरेशन का नेतृत्व संभाल रहा लखबीर सिंह, खालिस्तान ज़िंदाबाद फोर्स का नेतृत्वकर्ता रंजीत सिंह और खालिस्तान कमांडो फोर्स का नेतृत्व कर रहा परमजीत सिंह शामिल है. चे चारों पाकिस्तान में हैं.

यह भी पढ़ें: दिल्ली- 106 साल के बुजुर्ग ने कोरोना को दी मात, स्पेनिश फ्लू के समय 4 साल के थे

गृह मंत्रालय ने कहा ये नौ लोग पाकिस्तान और अन्य देशों से संचालित हो रहे हैं तथा आतंकवाद की विभिन्न गतिविधियों में संलिप्त हैं. मंत्रालय के मुताबिक, ‘‘वे लोग अपनी राष्ट्र विरोधी गतिविधियों और खालिस्तान समर्थक गतिविधयों में संलिप्त हो कर पंजाब में आतंकवाद का सिर फिर से उठाने की कोशिश कर देश को अस्थिर करने के लिये अपने नापाक मंसूबों में अनवरत लगे हुए हैं.’’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading