भारत-चीन सीमा पर चल रही तनातनी को लेकर सरकार सतर्क

भारत-चीन सीमा पर चल रही तनातनी को लेकर सरकार सतर्क
बैठक में चीन की सीमा पर चल रही रस्साकशी की समीक्षा की गयी. (प्रतीकात्‍मक फोटो)

पिछले कुछ दिनों से भारत और चीन की सीमा (Indo-China Border) पर तनातनी और चीनी घुसपैठ की खबरें लगातार आ रहीं हैं. भारत (India) जानता है कि अभी अमरीकी दबाव के आगे चीन की बोलती बंद है.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारत-चीन की सीमा (Indo-China Border) पर चल रहे तनाव को लेकर केन्द्र सरकार सक्रिय है. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defence Minister Rajnath Singh) खुद इससे निबटने के लिए आगे बढ़कर तमाम व्यूह रचना को अंतिम रूप देने में लगे हैं ताकि सीमा पर हमारे जवानों को पीछे नहीं हटना पड़े. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के घर पर मंगलवार की सुबह एक उच्च स्तरीय बैठक हुई. इस बैठक में सीडीएस जनरल बिपिन रावत (CDS General Bipin Rawat) और तीनों सेना प्रमुख मौजूद रहे. इस बैठक में चीन की सीमा पर चल रही रस्साकशी की समीक्षा की गयी. रक्षा मंत्रालय (Defence Ministry) और केन्द्र सरकार इस विवाद को सुलझाने औऱ अपनी पोजीशन से पीछे न हटने के लिए कितनी गंभीर है इसका अंदाजा भी इस बात से लगाया जा सकता है कि तीन दिन पहले भी राजनाथ सिंह के घर पर ऐसी ही उच्चस्तरीय बैठक हुई थी.

बैठक में बनी ये राय
सूत्र बताते हैं कि चर्चा इस बात पर भी हुई की एक और जहां डिप्लोमेटिक रास्ते यानी कूटनीति के जरिए बातचीत कर इस विवाद को सुलझाने के प्रयास तो चल ही रहे हैं लेकिन बैठक में राय यही बनी कि सीमा पर अपनी पोजिशन को बनाए रखने के साथ-साथ उसे और मजबूत करते रहना चाहिए. देर शाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के घर भी रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, सीडीएस जनरल रावत, तीनो सेना प्रमुख भी जुटे. सूत्र बताते हैं मंत्रणा भी चीन की घुसपैठ की कोशिशों पर ही हुई.

कांग्रेस ने कहा- चीन को उसी की भाषा में जवाब दे भारत
लोकसभा में कांग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी (Adhir Ranjan Chowdhury) ने भी कह दिया कि चीन की सेना भारत की जमीन हड़पने का षडयंत्र कर रही है. उन्होंने कहा कि भारत को उसी भाषा में जवाब देना चाहिए जो चीन समझता है. हमें अपनी सेना पर भरोसा है और हमे उसे सक्रिय करना चाहिए ताकि वह किसी भी दुस्साहस का जवाब दिया जा सके.



बौखलाया हुआ है चीन
पिछले कुछ दिनों से भारत और चीन की सीमा पर तनातनी और चीनी घुसपैठ की खबरें लगातार आ रहीं हैं. भारत जानता है कि अभी अमरीकी दबाव के आगे चीन की बोलती बंद है. ऐसे में वो भारत के खिलाफ इक्का दुक्का मोर्चे खोलकर पूरे मसले को दूसरी दिशा में मोड़ना चाहता है. पीएम मोदी ने भी कोरोना संकट (Corona Crisis) के बाद चीन से बोरिया बिस्तर समेट रही बड़ी कंपनियों को भारत में निवेश के मौके देने के बात कर चीन की नींद भी उड़ा दी है. ऐसे में चीन की बौखलाहट चंद दिनों की रस्साकशी ही नजर आ रही है.

ये भी पढ़ें-
चीन से तनाव पर PM मोदी ने की मीटिंग, NSA, CDS और तीनों सेना प्रमुख हुए शामिल

लद्दाख के पास चीन ने किया एयरबेस का विस्तार, टरमैक पर दिखे लड़ाकू विमान
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading