मोदी सरकार के कदम का असर, IIT में बढ़ी लड़कियों की संख्या

News18Hindi
Updated: August 21, 2019, 10:10 PM IST
मोदी सरकार के कदम का असर, IIT में बढ़ी लड़कियों की संख्या
मोदी सरकार के कदम का असर, IIT में बढ़ी लड़कियों की संख्या

देशभर में इस साल इंजीनियरिंग (Engineering) की प्रतिष्ठित शैक्षणिक संस्था आईआईटी-जेईई ( IIT-JEE) में एडमिशन लेने वाली लड़कियों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है. आमतौर पर जिस स्ट्रीम में लड़कों की संख्या ज्यादा होती थी, जैसे मैकेनिकल, सिविल, माइनिंग में भी लड़कियों की संख्या में इज़ाफा हुआ है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 21, 2019, 10:10 PM IST
  • Share this:
देशभर में इस साल इंजीनियरिंग (Engineering) की प्रतिष्ठित शैक्षणिक संस्था आईआईटी-जेईई (IIT-JEE) में एडमिशन लेने वाली लड़कियों की संख्या में बढ़ोतरी हुई है. आमतौर पर जिस स्ट्रीम में लड़कों की संख्या ज्यादा होती थी, जैसे मैकेनिकल, सिविल, माइनिंग में भी लड़कियों की संख्या में इज़ाफा हुआ है. हाल ही में सरकार ने लड़कियों के लिए आईआईटी में सुपरन्यूमरेरी कोटा की शुरुआत की है, जिसका असर अब सीधा देखने को मिल रहा है.

आईआईटी दिल्ली (IIT-Delhi) के जेंडर इक्विटी और सेंसिटिविटी की मेंबर और प्रोफेसर रवींद्र कौर ने कहा, "लोगों के अंदर अब भी इंजीनियरिंग की कई ब्रांच को लेकर एक गलतफहमी बनी हुई है जैसे कि सिविल और मैकेनिकल ब्रांच के लिए लड़के ही ज्यादा सही होते हैं." हालांकि सरकार के इस पहल के बाद एक बड़ा बदलाव देखने को मिल सकता है.

IIT-Delhi की एक रिपोर्ट के अनुसार, इस साल कुल 189 लड़कियों ने एडमिशन लिया है. वहीं पिछले साल सिर्फ 144 लड़कियों ने दाखिला लिया था. इस साल 29 लड़कियों ने मैकेनिकल ब्रांच, 28 ने केमिकल, 24 ने कंप्यूटर और 20 लड़कियों ने टेक्सटाइल डिपार्टमेंट में एडमिशन लिया है.

इस वजह से भी बढ़ रही है लड़कियों की संख्या

IIT में जेंडर इक्विटी लाने के लिए कई सालों से काम कर रहे इस संस्थान के प्रोफेसर्स का मानना है कि इंजीनियरिंग के जिन स्ट्रीम से लड़कियां दूर रहती थींं, वहां काम करने के तरीकों में कई तरह के बदलाव आए हैं. जहां पहले फील्ड वर्क होने की वजह से यहां लड़कों की संख्या ज्यादा थी, अब कंप्यूटर और टेक्नोलॉजी में हो रहे नए-नए बदलाव की वजह से ऑफिस में बैठकर काम करने की भी आजादी है.

सरकार ने उठाया ये कदम
सरकार ने आईआईटी (IIT) जैसे संस्थानों में लड़कियों की संख्या में इ़ज़ाफा लाने के लिए सुपरन्यूमरेरी कोटा की शुरुआत की है. एक स्टडी में इस बात का खुलासा हुआ है कि ज्यादातार लड़किया जेईई (JEE) क्वालीफाई करने के बाद भी आईआईटी (IIT) में एडमिशन नहीं लेती हैं. इस समस्या को देखते हुए अब ऐसी छात्राओं के लिए काउंसलिंग सेशन भी रखा जाएगा.
Loading...

ये भी पढ़ें:

खुशखबरी! RBI ने RTGS का समय बढ़ाया, अब इतने बजे से कर सकते हैं ट्रांजैक्शन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 21, 2019, 10:10 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...