देश भर में बाढ़ के हालात पर केंद्र की नज़र, लोगों की मदद पहली प्राथमिकता

देश के कई राज्यों में बाढ़ (Floods) के हालात हैं. इनमें केरल (Kerala), कर्नाटक (Karnataka), गुजरात (Gujarat), महाराष्ट्र (Maharashtra) और उत्तराखंड (Uttarakhand) की स्थिति ज्यादा खराब है. गृह मंत्रालय (Ministry of Home) लगातार बैठकें लेकर प्रभावित राज्यों को हरसंभव मदद पहुंचाने का काम कर रहा है. गृह मंत्रालय में इसके लिए एक केंद्रीय कंट्रोल रूम बनाया गया है.

अमित पांडेय | News18India
Updated: August 12, 2019, 12:10 PM IST
देश भर में बाढ़ के हालात पर केंद्र की नज़र, लोगों की मदद पहली प्राथमिकता
देश भर में बाढ़ के हालात पर केंद्र की नज़र
अमित पांडेय
अमित पांडेय | News18India
Updated: August 12, 2019, 12:10 PM IST
देशभर में बने बाढ़ (Floods) के हालात से लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य हैं केरल (Kerala), कर्नाटक (Karnataka), गुजरात (Gujarat), महाराष्ट्र (Maharashtra) और उत्तराखंड (Uttarakhand). इसे लेकर गृह मंत्रालय समय-समय पर अधिकारियों के साथ बैठ कर रहा है और प्रभावित राज्यों को हर संभव मदद पहुंचाने की रणनीति पर काम कर रहा है. गृह मंत्रालय में एक केंद्रीय कंट्रोल रूम बनाया गया है, जहां पर हर राज्यों से बाढ़ प्रभावित जिलों की सूचना मिल रही है. जिसके बाद एनडीआरएफ और अन्य एजेंसियों को हालात के बारे में सूचित किया जाता है और प्रभावित लोगों को मदद पहुंचाई जाती है.

लोगों की मदद पहली प्राथमिकता
पिछले 3 दिनों में 4 अहम बैठकें बाढ़ के हालात को लेकर हुई हैं. इसी कड़ी में गुरुवार को गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय ने एक उच्चस्तरीय बैठक गृह मंत्रालय में की जिसमें एनडीआरएफ डीजी एसके प्रधान, डिज़ास्टर विभाग के अधिकारी, एयरफोर्स और सेना के प्रतिनिधि शामिल हुए. बाढ़ में फंसे लोगों को सुरक्षित जगह ले जाना और जरूरतमंद लोगों को खाद्य पदार्थ पहुंचना फिलहाल सरकार की प्राथमिकता है. पहले बुधवार को कैबिनेट सचिव ने नेशनल क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की उच्चस्तरीय बैठक की थी.

Floods - कंट्रोल रूम से बाढ़ प्रभावित राज्यों की मदद के लिए आदेश जारी कर रहा केंद्र
कंट्रोल रूम से की जा रही बाढ़ प्रभावित राज्यों की मदद


कर्नाटक में 71 की मौत, केरल में 100 लोगों को बचाया गया
कर्नाटक जहां बाढ़ की वजह से भारी नुकसान पहुंचा है वहां के हालात पर गृह मंत्रालय में आई रिपोर्ट के मुताबिक अब तक 71 लोगों ने जान गंवाई है. कर्नाटक में बाढ़ के चलते 3531 लोगों के घरों को नुकसान पहुंचा है, 3148 मवेशियों की मौत हुई है. 71 लोगों की मौत हुई है. इनमें से 35 की मौत बिजली गिरने, 25 की मौत घर और पेड़ गिरने की वजह से, 12 की मौत बाढ़ में बह जाने से और एक व्यक्ति की मौत लैंड स्लाइड से हुई है. अब तक बाढ़ से प्रभावित 32748 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है.

केरल के तमाम बाढ़ प्रभावित ज़िलों में राहत कार्य चल रहे हैं. इनमें अकेले वायनाड से NDRF के बचाव अभियान में करीब 100 लोगों को बचाया जा चुका है. इनमें से 55 लोग भूस्खलन में फंस गए थे, जहां से उन्हें सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है. इस बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने केन्द्र सरकार और राज्य सरकार के अधिकारियों से राहत कार्यों में तेजी लाने की गुजारिश की है.
Loading...

Floods - बाढ़ राहत में लगी एजेंसियों के संपर्क में हैं केंद्र
बाढ़ राहत में लगी एजेंसियों के संपर्क में हैं केंद्र


राहत में लगी एजेंसियों के संपर्क में हैं केंद्र
महाराष्ट्र और गुजरात के हालात की भी इसी तरीके से समय समय पर समीक्षा की जा रही है. NDRF की 55 टीमें प्रभावित राज्यों में तैनात हैं. एनडीआरएफ की 19 और टीमें इन राज्यों में तैनात जाएंगी. इसके अलावा आर्मी की 16 और नेवी कोस्टगार्ड की 30 टीमें अलग अलग जगहों पर तैनात हैं. हालात से निपटने के लिए सरकार लगातार हर संबधित एजेंसियों के संपर्क में है और प्रभावित राज्यों को ये भी साफ कर दिया गया है कि जरूरत पड़ने पर बचाव दल के सदस्यों की तैनाती में और बढ़ोत्तरी होगी.


ये भी पढ़ें -
पिता ने जगुआर लेकर नहीं दी तो बेटे ने नहर में बहाई BMW कार
उन्नाव रेप केस: MLA कुलदीप सेंगर पर गैंगरेप और पॉस्को एक्ट में आरोप तय
PM मोदी के 'आर्टिकल 370' वाले मास्टरस्ट्रोक से तालिबान भी करने लगा शांति की बातें
First published: August 9, 2019, 3:00 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...