• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • GOVERNMENT IS READY TO TALK WITH FARMERS ASSURES AGRICULTURE MINISTER NARENDRA SINGH TOMAR

किसानों द्वारा सरकार का प्रस्ताव नहीं मानना दुर्भाग्यपूर्ण, वार्ता के लिए हमेशा तैयार: कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर का कहना है कि सरकार हमेशा बातचीत के लिए तैयार है (फाइल फोटो)

Farm Laws: कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा है कि एमएसपी हमेशा रहेगा. तोमर का कहना है कि पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में 7 साल में लगातार कृषि के क्षेत्र में इतने काम हुए जिससे किसानों को फ़ायदा हुआ.

  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Agriculture Minister Narendra Singh Tomar ने बुधवार को कहा कि वह कृषि कानूनों (Farm Laws) के मुद्दे पर किसानों से चर्चा के लिए हमेशा तैयार हैं. तोमर का कहना है कि वह किसानों से इस मुद्दे पर बातचीत करने के लिए हमेशा तैयार हैं. केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसानों द्वारा सरकार के प्रस्ताव को नहीं मानने को दुर्भाग्यपूर्ण बताया. तोमर का कहना है कि किसानों के साथ 11 दौर की वार्ता हुई और इस वार्ता में किसान कृषि कानूनों की कोई तर्कपूर्ण कमी नहीं बता पाए.

कृषि मंत्री का कहना है कि इस वार्ता के दौरान सरकार की ओर से कई प्रस्ताव दिए गए और आखिरी प्रस्ताव में कृषि कानूनों को डेढ़ साल तक स्थगित करने की बात कहीं गई और इन कानूनों पर विभिन्न समूहों के साथ चर्चा की बात कही गई थी. लेकिन यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि किसानों ने इस प्रस्ताव को भी नहीं माना.

ये भी पढ़ें- घरों में बिना मास्क बातचीत से कोरोना वायरस के फैलने का खतरा अधिक: अध्ययन

एमएसपी हमेशा रहेगा
कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा है कि एमएसपी हमेशा रहेगा. तोमर का कहना है कि पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में 7 साल में लगातार कृषि के क्षेत्र में इतने काम हुए जिससे किसानों को फ़ायदा हुआ. कैबिनेट के फैसले की जानकारी देते हुए तोमर ने कहा कि धान सामान्य स्तर का MSP 1868 से बढ़कर 1940 करने का फैसला कैबिनेट ने लिया है. जबकि बाज़ार का MSP 2150 रुपये से 2250 रुपया हो गया. आज किसानों को उनकी लागत का लगभग 62 फ़ीसदी अधिक एमएसपी के तौर पर मिल रहा है.

राहुल गांधी के किसानों को लेकर के किए गए ट्वीट पर चुटकी लेते हुए कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि उन्हें उनकी पार्टी के लोग ही गंभीरता से नहीं लेते इसीलिए इस पर उन्हें कुछ नहीं कहना है.

गौरतलब है कि किसान पिछले साल नवंबर से तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन कर रहे हैं.