होम /न्यूज /राष्ट्र /सरकार ने रेमडेसिवीर इंजेक्शन और इसमें उपयोग होने वाले रसायनों के निर्यात पर पाबंदी हटाई

सरकार ने रेमडेसिवीर इंजेक्शन और इसमें उपयोग होने वाले रसायनों के निर्यात पर पाबंदी हटाई

सरकार ने रेमडेसिवीर के निर्यात पर पाबंदी हटा ली है.

सरकार ने रेमडेसिवीर के निर्यात पर पाबंदी हटा ली है.

केंद्र सरकार (central government) ने बृहस्पतिवार को रेमडेसिवीर (Remdesivir) इंजेक्शन और इसमें उपयोग होने वाले प्रमुख रस ...अधिक पढ़ें

नयी दिल्ली.  केंद्र सरकार (central government) ने बृहस्पतिवार को रेमडेसिवीर (Remdesivir) इंजेक्शन और इसमें उपयोग होने वाले प्रमुख रसायनों (एपीआई) के निर्यात पर रोक हटा ली है. कोविड-19 के घटते मामलों के बीच यह कदम उठाया गया है. इसके अलावा, केंद्र ने ‘आर्गेनिक’ एलईडी (लाइट एमिटिंग डॉयोड) और लिक्विड क्रिस्टल के निर्यात पर भी पाबंदी को समाप्त कर दिया है. एक समय देश के कई हिस्सों से रेमडेसिविर की कालाबाजारी और जमाखोरी की खबरें आई थीं.  घरेलू बाजार में इसकी कमी न हो, इसे देखते हुए केंद सरकार ने इसके निर्यात पर बैन लगा दिया था.

विदेश व्यापार महानिदेशालय ने अधिसूचना में कहा, ‘रेमडेसिवीर इंजेक्शन और रेमडेसिवीर एपीआई, एम्फोटेरिसिन-बी इंजेक्शन, एनोक्सापारिन (फॉर्मूलेशन और एपीआई) और इंट्रा-वेनस इम्युनोग्लोबुलिन (आईवीआईजी) (फॉर्मूलेशन और एपीआई) … की निर्यात नीति को तत्काल प्रभाव से मुक्त कर दिया गया है.’  पिछले साल अप्रैल में देश में महामारी की स्थिति सुधरने तक कोविड-19 के इलाज में प्रभावी माने जाने वाले रेमडेसिवीर इंजेक्शन और उसके रसायन के निर्यात पर पाबंदी लगा दी गयी थी.

कोरोना की दूसरी लहर के दौरान देश भर में रेमडेसिविर की मांग अपने शिखर पर पहुंच गई थी. सरकारी व निजी अस्पतालों के डॉक्टरों ने कोरोना संक्रमितों के इलाज रेमडेसिविर पर भरोसा जताया था. इसके एक-एक वॉयल इंजेक्शन को लेकर मरीजों के परिजनों को भटकना तक पड़ा था और इसकी कालाबाजारी में इसकी कीमतें 50 हजार रुपये से अधिक तक हुई थीं.  राज्‍य सरकारों को भी इसकी रोकथाम के लिए नई नीति अपनानी पड़ी थी. हालांकि तीसरी लहर में डॉक्‍टर्स ने इस दवा को बहुत कम लिखा और कई अस्‍पतालों के स्‍टोर में ये दवा रखे-रखे एक्‍सपायर हो गईं.

एंटी वायरल दवा रेमडेसिविर को हेपटाइटिस सी के इलाज के लिए विकसित किया गया था. इसे इबोला वायरस के इलाज में उपयोग में लाया गया.  कोरोना के इलाज में भी शुरुआती दवाओं में रेमडेसिविर शामिल थी. इसके बारे में डब्‍ल्‍यूएचओ ने चेतावनी देते हुए कहा था कि कोरोना मरीजों के इलाज में डॉक्टरों को रेमडेसिविर के इस्तेमाल से बचना चाहिए.

Tags: Central government, Remdesivir injection

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें