टूलकिट वाले ट्वीट को 'मैनिपुलेटेड' बताने पर सरकार को आपत्ति, ट्विटर को लिखा पत्र

केंद्र सरकार ने ट्विटर की कार्रवाई पर आपत्ति जताई है. (सांकेतिक तस्वीर)

केंद्र सरकार ने ट्विटर की कार्रवाई पर आपत्ति जताई है. (सांकेतिक तस्वीर)

Toolkit Dispute: मंत्रालय ने लिखा है भारत के कुछ राजनेताओं के टूलकिट पर किए ट्वीट (Tweet) को ऐसे टैग करना गलत है क्योंकि वो केन्द्र सरकार की कोरोना के खिलाफ की जा रही तमाम कोशिशों को बदनाम करने की कोशिश कर रहे थे.

  • Share this:

नई दिल्ली. सरकार ने ट्विटर (Twitter) द्वारा भारत सरकार की कोरोना थामने की कोशिशों को बदनाम करने वाली टूलकिट पर किए चंद नेताओं के ट्वीट को मैनिपुलेटेड मीडिया (Manipulated Media) टैग देने पर आपत्ति जतायी है. केंद्र सरकार ने ट्विटर से कहा है कि वो मैनिपुलेटेड मीडिया का टैग हटा लें क्योंकि इस मामले की जांच चल रही है. सरकार ने कहा कि ये ट्विटर को तय करने का हक नहीं कि क्या सही या फिर क्या गलत. बल्कि ये एजेंसियो की जांच से ही पता चलेगा कि ये कंटेट सही है या गलत. इसलिए मामले की जब जांच चल रही हो तो ट्विटर अपना फैसला नहीं सुना सकता है.

आईटी मंत्रालय ने ट्विटर ग्लोबल टीम को आपत्ति जताते हुए एक कड़ी चिठ्ठी भेजी है. मंत्रालय ने आरोप लगाया है कि कंटेट को इस तरह से पेश करना ट्विटर के मध्यस्थ और न्यूट्रल होने की भूमिका पर ही सवाल खडे़ कर रहा है. मंत्रालय ने लिखा है भारत के कुछ राजनेताओं के टूलकिट पर किए ट्वीट को ऐसे टैग करना गलत है क्योंकि वो केन्द्र सरकार की कोरोना के खिलाफ की जा रही तमाम कोशिशों को बदनाम करने की कोशिश कर रहे थे.


आईटी मंत्रालय ने अपनी चिठ्ठी में आरोप लगाया है कि ट्विटर ने आगे बढ़ते हुए एकतरफा फैसला लिया है. और उनका ये कदम उनके इस दावे को नकारता है कि वो इस्तेमाल करने वाले सभी लोगों को अपने विचार व्यक्त करने की आजादी देते हैं. इससे यह भी साफ हो जाता है कि ट्विटर न्यूट्रल नहीं है. इसलिए सरकार ने ट्विटर को कहा है कि अपनी विश्वसनियता बनाए रखने के लिए वे मैनिपुलेटेड मीडिया टैग को जल्दी हटाएं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज