खालिस्तानी संगठन सिख फॉर जस्टिस पर एक और बड़ी कार्रवाई की तैयारी में भारत सरकार

खालिस्तानी संगठन सिख फॉर जस्टिस पर एक और बड़ी कार्रवाई की तैयारी में भारत सरकार
सिख फॉर जस्टिस का नेता गुरपतवंत सिंह पन्नू की फाइल फोटो

सिख फॉर जस्टिस (Sikh for Justice) के खिलाफ भारत सरकार एक और बड़े एक्शन की तैयारी में है. रेफरेंडम 2020 के नाम पर ऑनलाइन कैम्पेन और वॉइस कॉल की पहचान कर एजेंसियां उसे ब्लॉक करने की तैयारी में हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 17, 2020, 12:42 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. खालिस्तानी संगठन सिख फॉर जस्टिस (Sikh for Justice)के खिलाफ भारत सरकार एक और बड़े एक्शन की तैयारी में है. रेफरेंडम 2020 के नाम पर सिख फ़ॉर जस्टिस के ऑनलाइन कैम्पेन और वॉइस कॉल की पहचान कर एजेंसियां उसे ब्लॉक करने की तैयारी में हैं. गौरतलब है कि पिछले महीने भारत सरकार की सख्त कार्रवाई के बाद आम लोगों के फोन पर रेफरेंडम 2020 के नाम पर भारत विरोधी कॉल आने शुरू हो गए हैं जिसे भारत सरकार ने बेहद गंभीरता से लिया है.

राष्ट्र विरोधी खलिस्तानी मूbमेंट को लगातार देश के बाहर बैठे लोग हवा देने की कोशिश कर रहते हैं, इसमें प्रमुख किरदार निभा रहा है सिख फार जस्टिस संस्था. हालांकि भारत सरकार ने इसे और उससे जुड़ी चालीस वेबसाइट, उसके नेता गुरपतवंत सिंह पन्नू पर प्रतिबंध लगा रखा है. इन सबके बावजूद ये संस्था वॉयस कॉल के जरिए पिछले कुछ हफ्तों से रेफरेंडम ट्वंटी ट्वंटी को लेकर भारत में आम लोगों को फोन कर रही है.

भारत सरकार ने बनाई टीम
भारत सरकार ने अब इस वॉयस काल को ब्लाक करने की पूरी तैयारी कर ली है. इसके लिए गृह मंत्रालय और सूचना प्रौद्यौगिकी मंत्रालय ने संयुक्त टीम बनाई है. इसी तरीके की टीम ने भारत सरकार की ओर से सिख फॉर जस्टिस के पहले के मामलों में भी कार्यवाही की है.
पिछले कई सालों से लगातार खुफिया एजेंसियों को जानकारी मिलती रही है कि पाक की खुफिया एजेंसी ISI सिख फॉर जस्टिस संगठन की मदद करता है. ऐसे कदम से सिर्फ भारत विरोधी संस्था की गतिविधियों पर लगाम तो लगेगा ही लेकिन अब जरूरत है कि इस संस्था को अंतरराष्ट्रीय मंच पर इसे अलग-थलग किया जाए
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज