भारत में गुजर गया कोरोना संक्रमण का पीक, सर्दियों में दूसरी लहर की आशंका नहीं कर सकते खारिज: सरकारी पैनल

वैज्ञानिकों के मुताबिक,  फरवरी 2021 में भारत में कोरोना संक्रमित की संख्या 1.06 करोड़ से अधिक होने की आशंका है. (प्रतीकात्मक)
वैज्ञानिकों के मुताबिक, फरवरी 2021 में भारत में कोरोना संक्रमित की संख्या 1.06 करोड़ से अधिक होने की आशंका है. (प्रतीकात्मक)

Covid 19 in India: सरकार की ओर से गठित वैज्ञानिकों की इस कमेटी का कहना है कि अगर भारत में मार्च में कोरोना के बढ़ते मामलों पर रोक लगाने के लिए लॉकडाउन न लगाया जाता तो देश में अब तक कोविड 19 से होने वाली मौतों का आंकड़ा 25 लाख पार कर जाता.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 18, 2020, 3:23 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. भारत में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) के नए मामलों और ताजा मौतों में पिछले कुछ दिनों से कमी देखने को मिल रही है. इस बीच सरकार की ओर से नियुक्‍त वैज्ञानिकों की एक कमेटी ने रविवार को देश में कोविड-19 महामारी (Covid 19 in India) को लेकर प्रतिक्रिया दी. कमेटी का अनुमान है कि भारत में अब कोरोना वायरस संक्रमण का पीक गुजर चुका है. हालांकि इसके साथ ही कमेटी ने कहा कि देश में महामारी की दूसरी लहर की आशंका को खारिज नहीं किया जा सकता है और इस कारण फरवरी 2021 में भारत में कोरोना के सक्रिय केस 1.06 करोड़ से अधिक होने की आशंका है. कमेटी का कहना है कि ऐसे में देश में कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ बचाव वाले जरूरी कदम ऐसे ही चालू रहने चाहिए.

कमेटी में शामिल नीति आयोग के सदस्‍य पॉल ने कहा कि पिछले तीन हफ्ते से देश में भले ही कोरोना वायरस संक्रमण के नए मामलों और इससे होने वाली मौतों में कमी आ रही है. लेकिन सर्दियों के कोरोना की दूसरी लहर से इनकार नहीं किया जा सकता है. सरकार की ओर से गठित वैज्ञानिकों की इस कमेटी का कहना है कि अगर भारत में मार्च में कोरोना के बढ़ते मामलों पर रोक लगाने के लिए लॉकडाउन न लगाया जाता तो देश में अब तक कोविड 19 से होने वाली मौतों का आंकड़ा 25 लाख पार कर जाता. लेकिन लॉकडाउन के कारण फायदा मिला और अब तक देश में 1.14 लाख मौतें हुई हैं. हालांकि सर्दियों में कोरोना वायरस संक्रमण को लेकर भी चिंता व्‍यक्‍त की गई है.

सरकार की ओर से गठित की गई वैज्ञानिकों की इस कमेटी में केंद्र सरकार के प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार विजय राघवन भी शामिल हैं. इस कमेटी के प्रमुख आईआईटी हैदराबाद के प्रोफेसर एम विद्यासागर हैं. पॉल का कहना है कि हम सर्दी के मौसम में भारत में कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर की आशंका से इनकार नहीं कर सकते. एक बार टीका आ जाए, उसके बाद उसे नागरिकों को उपलब्ध कराने के लिए पर्याप्त संसाधन हैं.



बता दें कि भारत में कोविड-19 का इलाज करा रहे रोगियों की संख्या रविवार को लगातार दूसरे दिन आठ लाख से कम रही. यह संख्या देश में कुल मामलों का 10.45 फीसदी है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने रविवार को यह जानकारी दी. आंकड़ों के अनुसार फिलहाल देश में कोविड-19 के 7,83,311 मरीजों का इलाज चल रहा है. संक्रमण से उबर चुके लोगों की संख्या 65,97,209 है, जो इलाज करा रहे रोगियों की संख्या से 58,13,898 अधिक है.
मंत्रालय ने कहा कि देश में संक्रमण से उबरने की दर 88.03 प्रतिशत है. मंत्रालय के अनुसार मध्य प्रदेश, गुजरात, बिहार, झारखंड, पंजाब, अरुणाचल प्रदेश और चंडीगढ़ समेत लगभग 22 राज्य और केन्द्र शासित प्रदेशों में 20 हजार से भी कम कोविड-19 रोगियों का इलाज चल रहा है.

मंत्रालय ने कहा कि तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, असम, छत्तीसगढ़, दिल्ली, तेलंगाना, राजस्थान और ओडिशा में कोविड-19 का इलाज करा रहे रोगियों की संख्या 20 हजार से 50 हजार के बीच है. वहीं तीन राज्यों महाराष्ट्र, कर्नाटक और केरल में रोगियों की संख्या 50 हजार से अधिक है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज