Yaas Cyclone 10 Updates: यास तूफान के थपेड़ों से जूझता ओडिशा, बंगाल की नदियां उफान पर- 10 पॉइंट्स में समझें हालात

ओडिशा के तट से टकराया यास तूफान. (फाइल फोटो- AP)

ओडिशा के तट से टकराया यास तूफान. (फाइल फोटो- AP)

Cyclone Yaas 10 Updates: तूफान सुबह 11 बजे से दोपहर 1 बजे के आसपास धामरा तट से टकरा सकता है. इसके चलते कई इलाकों में अलर्ट जारी कर दिया गया है. इस समुद्री तूफान का आसर कई राज्यों में देखने को मिल रहा है.

  • Share this:

भुवनेश्वर. यास तूफान अगले दो घंटों में कोलकाता के दक्षिण में करीब 150 किमी दूर स्थिति बालासोर से गुजरेगा. इस दौरान हवा की गति 155 किमी प्रति घंटा तक रहेगी. तूफान के कारण परिवहन व्यवस्था पर काफी असर पड़ा है. कई अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर संचालन बंद है. वहीं, रेलवे ने करीब 38 गाड़ियों को नहीं चलाने का फैसला किया है.

तूफान से बचाव और राहत कार्य के लिए एनडीआरएफ की रिकॉर्ड 115 टीमें तैनात की हैं. एजेंसी के प्रमुख एसएन प्रधान ने तूफान की कुछ तस्वीरें साझा की थीं. इधर, खबर है कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी नजर बनाए हुए हैं. उन्होंने हालात पर निगरानी के लिए सचिवालय में ही रुकने का फैसला किया है.

10 पॉइंट्स में जानें कैसी है तैयारी-

भाषा के अनुसार, ओडिशा के विशेष राहत आयुक्त पी के जेना ने बताया, ‘चक्रवात के पहुंचने की प्रक्रिया शुरू हो गई है और इस प्रक्रिया को पूरा होने में तीन से चार घंटे का समय लगेगा. बालासोर और भद्रक जिले इससे सबसे अधिक प्रभावित होंगे.’ उन्होंने बताया कि करीब 5.80 लाख लोगों को सुरक्षित स्थलों पर पहुंचाया गया है.
तूफान को लेकर प्रशासन लगातार सतर्कता बरत रहा है. ओडिशा से करीब 30 लाख और बंगाल से 5 लाख लोगों को घरों से निकाला गया है. अधिकारियों का कहना है कि सोशल डिस्टेंसिंग के साथ रहने-खाने की व्यवस्था करना काफी चुनौती भरा है.
पूर्वी मिदनापुर के दीघा में 90 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से हवाएं चलीं, जबकि दक्षिण 24 परगना के फ्रेसरगंज में 68 किलोमीटर और कोलकाता में 62 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं. दक्षिण बंगाल में भी मंगलवार रात के बाद से काफी बारिश हुई है. ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने तटीय जिलों में हालात का जायजा लिया. वे मूसलाधार बारिश और तेज हवा से प्रभावित क्षेत्रों में पहुंचे. उन्होंने कहा, 'हर जान कीमती है. इसलिए जिंदगियां बचाने के लिए सभी मुमकिन कदम उठाएं.'
मौसम विभाग ने चक्रवात के दस्तक देने के दौरान पूर्वी मिदनापुर के निचले तटीय इलाकों में समुद्र में दो से चार मीटर और दक्षिण 24 परगना में दो मीटर ऊंची लहरें उठने का अनुमान जताया था.
भुवनेश्वर में क्षेत्रीय मौसम विज्ञान विभाग के वैज्ञानिक उमाशंकर दास ने बताया कि ओडिशा के अधिकतर हिस्सों में बारिश हुई. राज्य में पिछले 24 घंटे में सर्वाधिक बारिश भद्रक जिले के चांदबाली (273 मिमी) में हुई. इससे बाद पारादीप (197 मिमी), बालासोर (51 मिमी) और भुवनेश्वर (49 मिमी) में बारिश हुई.
सेना ने बंगाल में 17 कॉलम की तैनाती की है. हर कॉलम में करीब 100 जवान हैं. इनमें से 9 को कोलकाता में रखा गया है. अन्य को पुरुलिया, बीरभूम, बर्धमान, हावड़ा हुगली, नाडिया और नॉर्थ 24 परगना जिलों में तैनात किया गया है. इसके अलावा एनडीआरएफ टीमें, 54 हजार अधिकारी और राहत कार्यकर्ता, 2 लाख पुलिस और होमगार्ड जवान भी तैनात किए जाएंगे.
कोलकाता का नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा शाम 7:45 बजे तक बंद रहेगा. भुवनेश्वर में बीजू पटनायक इंटरनेशनल एयरपोर्ट को गुरुवार सुबह 5 बजे तक बंद रखने का फैसला लिया गया है. राज्य के झारसुगुड़ा में वीर सुरेंद्र साई एयरपोर्ट गुरुवार शाम 7:45 तक बंद रहेगा. जबकि, दुर्गापुर और राउरकेला हवाईअड्डों का संचालन बंद रहेगा.
भारतीय रेलवे ने कोलकाता और दक्षिण राज्यों में जाने वाली कम से कम 38 लंबी दूरी की पैसेंजर ट्रेनों को रद्द किए जाने की घोषणा की. ये रेल सेवाएं शनिवार तक जारी रहेगी. इन गाड़ियों से सफर करने वाले यात्रियों को टिकट का कीमत वापस की जाएगी.
कोलकाता में अधिकारियों ने बताया कि पश्चिम बंगाल में पूर्वी मिदनापुर और दक्षिण 24 परगना के तटीय इलाकों में चक्रवात के कारण पानी भर गया और नदियों में जलस्तर बढ़ गया.
नेशनल डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी के सदस्य कमल किशोर ने एनडीटीवी को बताया कि उन्होंने अस्पतालों और स्वास्थ्य सेवाओं को बिजली और ऑक्सीजन सप्लाई की व्यवस्था करने की सलाह दी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज