अपना शहर चुनें

States

वैक्सीन निर्माताओं को कानूनी मुकदमों से बचाए सरकार: अदार पूनावाला

सीरम इंस्‍टीट्यूट के सीईओ हैं अदार पूनावाला. (फाइल फोटो)
सीरम इंस्‍टीट्यूट के सीईओ हैं अदार पूनावाला. (फाइल फोटो)

Vaccine Update: अदार पूनावाला ने कहा 'हमें जरूरत है कि सरकार निर्माताओं और खासतौर से वैक्सीन निर्माताओं को सभी कानूनी मुकदमों से बचाए. यहां तक कि कोवावैक्स और दूसरे देशों ने तो इसके बारे में बात करना भी शुरू कर दिया है.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 19, 2020, 12:57 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India) के सीईओ अदार पूनावाला (Adar Poonawalla) का कहना है कि सरकार को वैक्सीन निर्माता कंपनियों को कानूनी मुकदमों से बचाने के लिए कानून लाना चाहिए. पूनावाला ने दावा किया है कि इससे कंपनियों और वैक्सीन लगवाने वालों को भी मदद मिलेगी. सीरम इंस्टीट्यूट दुनिया का सबसे बड़ा वैक्सीन निर्माता है. यहां ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी-एस्ट्राजैनेका (Oxford-Astrazeneca) की वैक्सीन तैयार हो रही है. गौरतलब है कि कुछ समय पहले कंपनी पर एक व्यक्ति ने कंपनी से 5 करोड़ का मुआवजा मांगा था.

वैक्सनी निर्माण में आ रही चुनौतियों को लेकर की जा रही एक वर्चुअल चर्चा में अदार पूनावाला भी शामिल हुए थे. यहां उन्होंने कहा कि सरकार को किसी दुष्प्रभाव और दूसरे दावों को लेकर हुए मुकदमों पर वैक्सीन निर्माता कंपनियों की रक्षा करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि ऐसे मुद्दों से वैक्सीन लगवाने में लोगों के बीच डर बढ़ सकता है. इसके अलावा यह कंपनियों को भी दिवालिया या वैक्सीन बनाने के मकसद से भटका सकता है. उन्होंने बताया कि उनकी कंपनी इस प्रस्ताव को सरकार के सामने रखने पर विचार कर रही है.

यह भी पढ़ें: सावधान! कोरोना वायरस की वैक्सीन को लेकर फैल रही है ये झूठी अफवाह



शुक्रवार को उन्होंने कहा 'हमें जरूरत है कि सरकार निर्माताओं और खासतौर से वैक्सीन निर्माताओं को सभी कानूनी मुकदमों से बचाए. यहां तक कि कोवावैक्स और दूसरे देशों ने तो इसके बारे में बात करना भी शुरू कर दिया है.' पूनावाला ने कहा 'केवल महामारी के दौरान वैक्सीन निर्माताओं को गंभीर दुष्प्रभाव या दूसरे खराब दावों के खिलाफ कानूनी मुकदमों से बचाना जरूरी है. क्योंकि इससे वैक्सीन को लेकर डर बढ़ेगा.' पूनावाला ने इस दौरान अमेरिका के एक कानून का भी हवाला दिया.

उन्होंने कहा कि सरकार को एक कानून लाना चाहिए. क्योंकि यह कानूनी मुकदमों से निपटने के बजाए कंपनियों का ध्यान वैक्सीन के विकास और निर्माण में लगाए रखने में मदद करेगा. पूनावाला ने कहा कि तुच्छ दावों से वैक्सीन का विरोध कर रहे लोगों का ही नहीं, बल्कि आम जनता का विश्वास भी प्रभावित होता है. उन्होंने कहा 'किसी को भी यह विचार आ सकता है कि वैक्सीन की वजह से कुछ हो सकता है. इसे हटाने के लिए सरकार को सही जानकारी देने वालों के साथ भी आगे आना होगा.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज