Assembly Banner 2021

COVID-19 2nd Wave: कोरोना की दूसरी लहर पर लगाम के लिए सरकार ने बनाया 5 प्वाइंट प्लान

देश में एक बार फिर कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ने लगे हैं.

देश में एक बार फिर कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ने लगे हैं.

कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के बढ़ते केस को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव (Union Health Secretary) ने शनिवार को 12 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के साथ एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की. इस बैठक में महाराष्ट्र, हरियाणा, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, पंजाब और दिल्ली शामिल थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 28, 2021, 10:11 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण (Corona infection) के मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार ने एक बार फिर राज्‍यों और केंद्र शासित प्रदेशों को दिशा-निर्देश जारी किए हैं. कोरोना (Corona) के बढ़ते केस को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव (Union Health Secretary) ने शनिवार को 12 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के साथ एक उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की. इस बैठक में महाराष्ट्र, हरियाणा, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, पंजाब और दिल्ली शामिल थे. बैठक में कोरोना के बढ़ते मामलों पर चर्चा की गई .

बैठक में कोरोना का हराने के लिए 5 चरणों की रणनीति तैयार की गई :-
1- कोरोना के बढ़ते मामलों को देखत हुए सरकार ने सभी राज्‍यों से कोरोना टेस्‍ट बढ़ाने को कहा है.
2- कोरोना संक्रमित मरीजों को क्वारंटाइन करना और ये भी देखना कि कोरोना संक्रमित व्‍यक्ति और कितने लोगों के संपर्क में आ चुका है.
3- कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए स्‍वास्‍थ्‍य कर्मचारियों का एक बार फिर उत्‍साह बढ़ाना, जिससे वह फिर अपनी पूरी क्षमता के साथ कोरोना मरीजों का इलाज कर सकें.
4- कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए लोगों को कोरोना गाइडलाइन का पालन करने के लिए जागरूक करना. मास्‍क और सोशलडिस्‍टेंसिंग का पालन कराने के लिए जोर देना.


5- कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच कोरोना टीकाकरण को बढ़ाना, जिससे ज्‍यादा से ज्‍यादा लोगों को कोरोना का टीका लगाया जा सके.

स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को बताया कि उन्‍होंने 46 जिलों की पहचान की है, जहां पर कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़े हैं. इस महीने यहां पर कोरोना के नए मामलों में 71 प्रतिशत तक बढ़े हैं, जबकि 69 प्रतिशत मरीजों की मौत हुई है. उन्‍होंने इन सभी राज्‍यों और केंद्र शासित प्रदेशों से कहा है कि वह अपने यहां कोरोना गाइडलाइन का पालन सख्‍ती से कराएं और टीकाकरण अभियान को तेजी लाएं.

इसे भी पढ़ें :- कोरोना वायरस के म्‍यूटेशन को लेकर आप भी जरूर जानें 5 सवालों के जवाब

स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि महाराष्ट्र के 36 जिले कोरोना से सबसे ज्‍यादा प्रभावित दिखाई दे रहे हैं, जिनमें से 25 जिले ऐसे हैं जहां पिछले एक सप्‍ताह में 59.8 प्रतिशत नए मामले सामने आए हैं. कोरोना वायरस को रोकने के लिए नए सिरे से किए गए प्रयासों के तहत, राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को परीक्षण बढ़ाने के लिए कहा गया है. सभी परीक्षणों के लिए अधिक विश्वसनीय RT-PCR किट की हिस्सेदारी बढ़ाकर 70 प्रतिशत कर दी गई है.

इसे भी पढ़ें :- अब 10 साल से कम उम्र के बच्चों को तेजी से शिकार बना रहा कोरोना, मासूम मरीजों की संख्या में इजाफा

देश में सिर्फ 44 फीसदी लोग पहन रहे हैं मास्क
समीक्षा बैठक में इस बात पर फोकस किया गया कि 90% लोगों को जानकारी है, लेकिन सिर्फ 44 % लोग ही मास्क पहनते हैं. कोरोना से संक्रमित व्यक्ति औसतन 30 दिनों में 406 दूसरे लोगों में संक्रमण फैला सकता है. इस बात पर भी जोर दिया गया कि कोरोना की दूसरी लहर में जमीनी स्तर पर कोविड से जुड़ी लापरवाही देखने को मिली है. यही वजह है कि अगले कम से कम 14 दिन इन 46 जिलों में कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग और कंटेनमेंट जोन पर ध्यान देने की जरूरत है. जिससे कि चेन ऑफ ट्रांसमिशन को तोड़ा जा सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज