होम /न्यूज /राष्ट्र /केन्‍द्र सरकार के कर प्रबंधन पर फोकस से अकाउंटिंग प्रोफेशनल्‍स की मांग बढ़ी

केन्‍द्र सरकार के कर प्रबंधन पर फोकस से अकाउंटिंग प्रोफेशनल्‍स की मांग बढ़ी

नौकरी के लिए डिग्री के साथ कौशल विकास भी महत्‍वपूर्ण.

नौकरी के लिए डिग्री के साथ कौशल विकास भी महत्‍वपूर्ण.

आज देश में केन्‍द्र सरकार द्वारा कर प्रबंधन पर विशेष फोकस से इनकम टैक्स और जीएसटी रिटर्न फाइलिंग की अनिवार्यता बढ़ती ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्‍ली. केन्‍द्र सरकार द्वारा कर प्रबंधन पर विशेष फोकस से इनकम टैक्स और जीएसटी रिटर्न फाइलिंग की अनिवार्यता बढ़ती जा रही है. यही वजह है कि देश में आज भारी मात्रा में अकाउंटिंग प्रोफेशनल्स की मांग है.इस तरह रोजगार के अवसर भी बढ़ रहे हैं. एक्सपर्ट प्रोफेशनल्स को तैयार करने के लिए स्तरीय और सुनियोजित ट्रेनिंग की विशेष तौर पर आवश्यकता होती है.

    सामान्य तौर पर देखा जाता रहा है कि स्टूडेंट्स डिग्री को बहुत ज्यादा महत्व देते रहते हैं. निश्चित तौर पर डिग्री महत्वपूर्ण होता है. लेकिन आज के कॉरपोरेट वर्ल्ड में जब आप जॉब के लिए जाते हैं तो नियोक्ता आपसे डिग्री के साथ आपके कौशल के बारे में भी जानना चाहते हैं. अकाउंटिंग क्षेत्र में कौशल के विकास के लिए ट्रेनिंग की विशेष आवश्यकता होती है. यदि आप सुनियोजित और सुव्यवस्थित तरीके से अकाउंटिंग स्किल के विकास के लिए ट्रेनिंग प्राप्त कर लेते हैं तो आपके अकाउंटिंग सेक्टर में कैरियर को बहुत ऊंची छलांग मिलना मुमकिन है. यह बात दिल्‍ली में आयोजित एक कार्यक्रम में टैक्स4वेल्थ के सीईओ हिमांशु कुमार ने कही. उन्‍होंने कहा कि अगर कोई अकाउंटिंग प्रोफेशनल सुव्यवस्थित ट्रेनिंग के माध्यम से समर्पित प्रयास द्वारा अपने अकाउंटिंग स्किल को विकसित कर लेता है तो उसके लिए रोजगार और स्वरोजगार के भरपूर अवसर उपलब्ध हो सकते हैं.

    इस मौके पर सीए अनिरुद्ध कुमार ने कहा कि कई शैक्षणिक संस्थान अकाउंटिंग स्किल को बेहतर करने के लिए ट्रेनिंग मॉड्यूल को विकसित कर रहे हैं. इस तरह के ट्रेनिंग पाठ्यक्रम तैयार किए जा रहे हैं जिसके माध्यम से कैंडिडेट्स को अकाउंटिंग स्किल के बारे में बहुत अच्छी प्रैक्टिकल नॉलेज प्राप्त हो सके.

    Tags: Income tax

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें