अपना शहर चुनें

States

एथलीट की नौकरी को लेकर राज्यपाल कोश्यारी ने की महाराष्ट्र सरकार की आलोचना

महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी (फाइल फोटो: PTI)
महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी (फाइल फोटो: PTI)

Maharashtra: राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी (Bhagat Singh Koshyari) ने कहा कि लेकिन राउत कह रही हैं कि उन्हें अभी तक नौकरी नहीं मिली. कोशियारी ने कहा, ‘राज्यपाल ने इस बारे में बात की, मंत्री ने भी इस बारे में कहा. लेकिन अब तक उन्हें नौकरी नहीं मिली है.'

  • Last Updated: February 4, 2021, 4:01 PM IST
  • Share this:
मुंबई. महाराष्ट्र (Maharashtra) के राज्यपाल भगत सिंह कोशियारी ने लंबी दूरी की धाविका और एशियाई खेलों (Asian Games) में पदक जीतने वाली कविता राउत (Kavita Raut) को नौकरी नहीं देने के लिए राज्य सरकार पर निशाना साधा और कहा कि कहीं न कहीं कुछ गड़बड़ है. कुछ मुद्दों पर पहले भी महा विकास आघाडी (Maha Vikas Aghadi) सरकार की आलोचना कर चुके राज्यपाल ने नासिक (Nashik) जिले में बुधवार को एक कार्यक्रम के दौरान यह टिप्पणी की.

नासिक की रहने वाली राउत उन आठ खिलाड़ियों में शामिल हैं जिन्हें राज्य सरकार ने 2016 में नौकरी की पेशकश की थी. कोशियारी ने कहा कि राउत के पास देहरादून में ऑयल एंड नेचुरल गैस कॉरपोरेशन में नौकरी है. राज्यपाल ने कहा, ‘लेकिन वह अपने गांव में रहना चाहती हैं और वहां सेवा देना चाहती हैं. मैंने खेल मंत्री सुनील केदार को पत्र लिखा. उन्होंने मुझसे कहा कि वह कविता को नौकरी देंगे.’

यह भी पढ़ें: महाराष्‍ट्र: पोलियो ड्रॉप की जगह पिला दिया सैनिटाइजर, 12 बच्‍चों की तबीयत बिगड़ी



उन्होंने कहा कि लेकिन राउत कह रही हैं कि उन्हें अभी तक नौकरी नहीं मिली. कोशियारी ने कहा, ‘राज्यपाल ने इस बारे में बात की, मंत्री ने भी इस बारे में कहा (नौकरी देने के लिए). लेकिन अब तक उन्हें नौकरी नहीं मिली है. इसलिए कहीं न कहीं कुछ गड़बड़ है.’ उन्होंने राउत को आश्वासन दिया कि उन्हें नौकरी मिलेगी.

राज्यपाल कोश्यारी ने बीते बुधवार को आदिवासियों से उनके फायदे के लिए लागू योजनाओं का लाभ लेने की अपील की थी. नाशिक जिले की कालवान तहसील के गुलाबी गांव में ट्राइबल कल्चरल बिल्डिंग के उद्घाटन समारोह में पहुंचे कोश्यारी ने कहा कि यहां के आदिवासी विकास के मौके तलाश रहे हैं. उन्होंने कहा कि इन मौकों को उन तक कानूनों के जरिए पहुंचाया गया है. इसके अलावा वे जंगल की जमीनों पर खेती कर सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज