लाइव टीवी

राज्यपाल धनखड़ बोले- छात्रों के विरोध से मैं दुखी, इस तरह के व्यवहार की नहीं थी उम्मीद

News18Hindi
Updated: January 29, 2020, 5:25 PM IST
राज्यपाल धनखड़ बोले- छात्रों के विरोध से मैं दुखी, इस तरह के व्यवहार की नहीं थी उम्मीद
राज्यपाल धनखड़ बोले- कलकत्ता यूनिवर्सिटी में छात्रों के विरोध से मुझे दुख हुआ

राज्यपाल जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankhar) ने कहा, 'मैं राज्य की जनता से पूछना चाहता हूं कि क्या मैंने राजनीतिक या पक्षपातपूर्ण तरीके से काम किया है?

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 29, 2020, 5:25 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल (West Bengal) के राज्यपाल जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankhar) ने कहा कि कलकत्ता यूनिवर्सिटी में उनके खिलाफ हुए विरोध प्रदर्शन से वह दुखी हैं. उन्होंने कहा, 'मुझे छात्रों के इस विरोध प्रदर्शन से बहुत पीड़ा हुई है. मैं अंदर से हिल गया हूं और मुझे इस तरह के व्यवहार की कतई उम्मीद नहीं थी.'

राज्यपाल धनखड़ (Jagdeep Dhankhar) ने बुधवार को कहा, 'मैं राज्य की जनता से पूछना चाहता हूं कि क्या मैंने राजनीतिक या पक्षपातपूर्ण तरीके से काम किया है? क्योंकि अब तक किसी ने मुझसे ऐसा नहीं कहा है. धनखड़ ने कहा, 'राज्य में स्थिति नियंत्रण से बाहर हो रही है. मैं चाहता था कि विश्वविद्यालय के कुलपतियों की एक बैठक हो. लेकिन छात्रों को विरोध-प्रदर्शन के कारण उसे पूरी नहीं होने दिया. लेकिन मैं कहना चाहता हूं कि मुझे ऐसा करने से कोई नहीं रोक सकता.

दीक्षांत समारोह के दौरान छात्रों ने किया था विरोध
 बता दें कि, कलकत्ता विश्वविद्यालय के सालाना दीक्षांत समारोह में मंगलवार को छात्रों ने राज्यपाल धनखड़ का विरोध किया था. जिसके बाद राज्यपाल परिसर से चले गए थे. उन्होंने कहा था, ‘जिन लोगों ने संस्कृति और शिष्टाचार से समझौता किया है, उन्हें विचारशील होने की जरूरत है.’ राज्यपाल ने कहा, 'मैं राजनीतिक पार्टियों के सदस्यों के साथ धरने पर बैठे कुलपति की सराहना नहीं करता'

लगे गो-बैक के नारे
प्रदर्शनकारियों ने आरोप लगाया था कि धनखड़ (भाजपा नीत) केंद्र के प्रतिनिधि हैं, जो कलकत्ता विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह के लिए मंच पर उपस्थित होने के हकदार नहीं हैं. इस दौरान छात्रों ने काले झंडे लहराते हुए ‘वापस जाओ’ के नारे भी लगाए थे. कुछ छात्रों के हाथों में ‘सीएए नहीं’ और ‘एनआरसी नहीं’ के पोस्टर भी थे. हालांकि, कुलपति सोनाली चक्रवर्ती बंदोपाध्याय अपनी ओर से छात्रों को इस बात के लिए मनाती हुई नजर आईं कि वे अपना विरोध बंद कर दें. बाद में उन्होंने घोषणा की कि राज्यपाल आयोजन स्थल से चले गए.

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 29, 2020, 5:20 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर