राज्यपाल मलिक बोले- कल का पता नहीं, लेकिन आज की चिंता न करें

राज्यपाल ने कहा कि 'कल के बारे में मुझे कुछ पता नहीं. यह मेरे वश में नहीं लेकिन आज चिंता करने की कोई बात नहीं है'.

News18Hindi
Updated: August 4, 2019, 8:51 AM IST
राज्यपाल मलिक बोले- कल का पता नहीं, लेकिन आज की चिंता न करें
राज्यपाल ने कहा कि कल के बारे में मुझे कुछ पता नहीं. यह मेरे वश में नहीं लेकिन आज चिंता करने की कोई बात नहीं है.
News18Hindi
Updated: August 4, 2019, 8:51 AM IST
जम्मू-कश्मीर में बीते कुछ दिनों से सैन्य मूवमेंट और फिर अमरनाथ यात्रा को रोके जाने के बाद अफवाहों का दौर शुरू बदस्तूर जारी है. यहां तक कि खुद राज्यपाल सत्यपाल मलिक को भी स्पष्टीकरण देना पड़ रहा है. राज्य की स्थिति के बारे में अफवाहों पर जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल ने कहा कि 'मैंने दिल्ली में सभी से बात की है और किसी ने भी मुझे कोई संकेत नहीं दिया है कि हम ऐसा करेंगे या वह करेंगे. किसी का कहना है कि ट्राइफर्सेशन होगा, कोई कहता है आर्टिकल 35 ए, 370 हटेगा.... पीएम मोदी या गृह मंत्री अमित शाह ने या किसी ने भी मेरे साथ इन बातों की चर्चा नहीं की.'

राज्यपाल ने कहा कि 'कल के बारे में मुझे कुछ पता नहीं. यह मेरे वश में नहीं लेकिन आज चिंता करने की कोई बात नहीं है'. मलिक ने कहा कि संवैधानिक प्रावधानों में किसी तरह के बदलाव के बारे में राज्य को कोई जानकारी नहीं है और इसलिए सैनिकों की तैनाती के इस सुरक्षा मामलों को अन्य सभी प्रकार के मामलों के साथ जोड़ कर बेवजह भय नहीं पैदा किया जाना चाहिए.

यह भी पढ़ें: कश्मीर मामला: साध्वी प्राची का दावा, हिंदुस्तान में कुछ बड़ा होने वाला है

एहतियाती तौर पर लौटने के लिए कहा गया

मलिक ने कहा कि यह राज्य की जिम्मेदारी है कि वह अपने सभी नागरिकों को सुरक्षा प्रदान करें. इसलिए, एहतियाती उपाय के तौर पर यत्रियों और पर्यटकों को लौटने के लिए कहा गया है. राज्यपाल ने राज्य के राजनीतिक दलों के नेताओं से कहा है कि वे अपने समर्थकों से शांत रहने और घाटी में ‘बढ़ा-चढ़ा कर फैलाई गई अफवाहों’ पर विश्वास न करने के लिए कहें.

मलिक से मिलने पहुंचे राज्य के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला राज्यपाल ने पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला की अगुवाई में मिलने प्रतिनिधिमंडल को बताया कि सुरक्षा स्थिति इस तरह से पैदा हुई है जिस पर तत्काल कार्रवाई की आवश्यकता थी.

यह भी पढ़ें: जम्‍मू कश्‍मीर में हालात तनावपूर्ण, PDP और NC ने बुलाई इमरजेंसी मीटिंग
Loading...

राज्यपाल ने प्रतिनिधिमंडल को बताया, ‘अमरनाथ यात्रा पर आतंकवादी हमलों के संबंध में सुरक्षा एजेंसियों को विश्वसनीय जानकारी मिली थी. नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान की ओर से गोलाबारी बढ़ा दी गई जिसका सेना ने प्रभावी ढंग से जवाब दिया गया.’

एजेंसी इनपुट के साथ
First published: August 4, 2019, 8:27 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...