अपना शहर चुनें

States

बंगाल में जुबानी जंग: राज्यपाल का सरकार पर निशाना तो ममता बोलीं-बाहरी गुंडों को मनमर्जी नहीं करने देंगे

पश्चिम बंगाल में राज्यपाल और मुख्यमंत्री के बीच जुबानी जंग जारी है.
पश्चिम बंगाल में राज्यपाल और मुख्यमंत्री के बीच जुबानी जंग जारी है.

West Bengal: बाहरी लोगों को ‘‘विभाजनकारी ताकत’’ बताते हुए ममता बनर्जी ने कहा कि उन्हें हराने की आवश्यकता है. बनर्जी ने इससे पहले भी कई मौकों पर भाजपा को ‘‘बाहरी लोगों की पार्टी’’ बताया है.

  • भाषा
  • Last Updated: November 18, 2020, 11:51 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल में जैसे जैसे विधानसभा चुनाव का समय नजदीक आ रहा है, वैसे वैसे सियासी जंग भी तेज होती जा  रही है. खासकर राज्यपाल धनखड़ और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बीच जुबानी जंग जारी है. कानून व्यवस्था को लेकर जहां राज्यपाल ने ममता बनर्जी सरकार पर हमला बोला है, वहीं, मुख्यमंत्री ने बिना किसी का नाम लिए तीखी भाषा में जवाब दिया है. 

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ (West Bengal Governor Jagdeep Dhankhar) ने सुरक्षा मुहैया कराने को लेकर कथित तौर पर राजनीति करने पर सतारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress Government) सरकार की बुधवार को आलोचना की. राज्य सरकार ने हाल ही में तृणमूल कांग्रेस के मंत्री सुवेंदु अधिकारी के तीन करीबी सहयोगियों को दी गई सुरक्षा वापस ले ली है. अधिकारी ने हाल ही में एक रैली में पार्टी के खिलाफ बोला था. धनखड़ ने यह भी दावा किया कि तृणमूल कांग्रेस के इशारे पर स्थानीय अधिकारियों ने शहीद सैनिक के परिवार से मिलने नदिया जा रहे भाजपा सांसद जगन्नाथ सरकार (BJP MP Jagganath Sarkar) की यात्रा में रुकावट डाली.

राज्यपाल ने कहा कि बार-बार चेतावनी के बावजूद कुछ अधिकारी राजनीतिक कार्यकर्ताओं की तरह काम कर रहे हैं. मुर्शिदाबाद यात्रा के दौरान धनखड़ ने पत्रकारों से कहा, ‘‘सुरक्षा मुहैया कराने जैसे मुद्दे पर राजनीतिक दबाव में आकर काम करना लोकतंत्र की धज्जियां उड़ाने जैसा है.’’ उन्होंने यह जानना चाहा कि क्या राज्य की स्थिति ऐसी हो गई है कि किसी व्यक्ति को सुरक्षा देने के लिए उसकी राजनीतिक आस्था पर ध्यान दिया जा रहा है.



ये भी पढ़ें- TMC के खिलाफ आक्रामक हुई BJP तो ममता ने की 600 रैलियों की तैयारी
शहीद को श्रद्धांजलि देने जा रहे सरकार को ‘कुछ अधिकारियों द्वारा इंतजार कराए जाने’ के विवाद के सदर्भ में धनखड़ ने कहा कि ऐसे व्यवहार के बारे में जानकर कोई भी हैरान हो सकता है.

ममता ने कहा-दूसरे राज्यों से ला रहे गुंडे
वहीं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (West Bengal's CM Mamata Banerjee) ने किसी का नाम लिए बगैर बुधवार को कहा कि ‘‘कुछ लोग दूसरे राज्यों से गुंडे’’ लेकर आ रहे हैं ताकि 2021 के विधानसभा चुनावों से पहले राज्य की शांति भंग की जा सके.

बनर्जी के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए भाजपा ने कहा, ‘‘देश के बाकी हिस्सों से आने वाले भारतीयों का तृणमूल कांग्रेस सरकार स्वागत नहीं करती है, लेकिन बांग्लादेशी घुसपैठियों का दिल खोलकर स्वागत किया जाता है.’’

बनर्जी ने लोगों से की ये अपील
हिन्दी भाषी बहुल क्षेत्र पोस्ता बाजार में जगधात्री पूजा के शुभारंभ के अवसर पर बनर्जी ने लोगों से कहा कि वे राज्य में अशांति फैलाने वाले ‘‘गुंडों और बाहरी लोगों’’ का प्रतिकार करें. उन्होंने कहा, ‘‘अगर बाहर से कुछ गुंडे हमारे राज्य में आकर आपको आतंकित करते हैं तो आप सभी को एकजुट होकर उनका प्रतिकार करना चाहिए. मैं वादा करती हूं कि हम आपके साथ होंगे. हम शांति में विश्वास करते हैं. लेकिन कुछ लोग सिर्फ चुनाव के दौरान दूसरों को आतंकित करने आते हैं. हम उन्हें यहां मनमर्जी नहीं करने देंगे.’’

ये भी पढ़ें- ममता का PM मोदी को पत्र, कहा- नेताजी की जयंती को राष्ट्रीय अवकाश घोषित करें

इन बाहरी लोगों को ‘‘विभाजनकारी ताकत’’ बताते हुए बनर्जी ने कहा कि उन्हें हराने की आवश्यकता है. बनर्जी ने इससे पहले भी कई मौकों पर भाजपा को ‘‘बाहरी लोगों की पार्टी’’ बताया है.

बनर्जी के बयान पर भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और पार्टी के बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस प्रमुख का बयान राज्य में भाजपा की बढ़ती पकड़ पर पार्टी की हताशा व्यक्त कर रहा है. उन्होंने कहा, ‘‘ऐसे बयान तृणमूल कांग्रेस और उसके नेतृत्व के गुस्से और हताशा को दर्शाते हैं.’’
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज