SP सांसद के बिगड़े बोल, कहा- बीवी को गोली मारने से तलाक देना बेहतर

SP सांसद के बिगड़े बोल, कहा- बीवी को गोली मारने से तलाक देना बेहतर
समाजवादी पार्टी के सांसद एसटी हसन ने तीन तलाक को लेकर विवादित बयान दिया है.

एसटी हसन ने कहा कि सिर्फ हजरत अबू हनीफा को मानने वाले फिरके के लोग ही एक साथ तीन तलाक देते हैं. यह लड़की वालों पर छोड़ दिया जाए कि अबू हनीफा को मानने वालों के यहां शादी करें या नहीं.

  • Share this:
लोकसभा में तीन तलाक को लेकर चर्चा शुरू हो गई है. मोदी सरकार अपने पिछले कार्यकाल से इस बिल को पास कराने की कोशिश में लगी हुई है. तीन तलाक बिल को लोकसभा से मंजूरी मिलने के बाद राज्यसभा में पेश किया जाएगा. इस बीच समाजवादी पार्टी (सपा) के सांसद एसटी हसन ने तीन तलाक को लेकर विवादित बयान दिया है.

एसटी हसन ने संसद से बाहर निकलते हुए कहा, "बीवी को गोली मारने से अच्छा है कि उसे तलाक दे दें. सरकार को किसी भी मजहब के निजी मामले में दखल नहीं देना चाहिए. इसे सिर्फ एक फिरका मानता है. एक साथ तीन तलाक को सभी लोग नहीं मानते और एक महीने का गैप रखा जाता है."

उन्होंने आगे कहा, "कभी-कभी ऐसे हालात होते हैं कि अलग होना ही रास्ता होता है तो गोली मारने से बेहतर है कि तीन तलाक देकर महिला को निकाल दिया जाए."



एसटी हसन ने कहा कि सिर्फ हजरत अबू हनीफा को मानने वाले फिरके के लोग ही एक साथ तीन तलाक देते हैं. यह लड़की वालों पर छोड़ दिया जाए कि अबू हनीफा को मानने वालों के यहां शादी करें या नहीं.





मुस्लिमों को तीन साल की सजा क्यों?
एसटी हसन ने कहा कि मुस्लिम पर्सनल लॉ में बदलाव करना और शरीयत में बदलाव करना गलत है. उन्होंने सवाल पूछते हुए कहा कि अगर किसी पुरुष को तीन तलाक पर तीन साल की सजा देते हैं तो फिर वह परिवार का गुजारा भत्ता कैसे देगा. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हिन्दू और ईसाई पुरुषों को ऐसे मामले में महज एक साल की सजा है तो फिर मुस्लिमों को तीन साल की सजा क्यों?

ये भी पढ़ें: तीन तलाक बिल: JDU बोली- BJP का अपना एजेंडा और हमारा अपना
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading