1 जून से ट्रेनों में TTE नहीं पहन सकेंगे काला कोट और टाई, जानें नई गाइडलाइन

रेलवे ने 1 जून से चलने वाली 200 ट्रेनों के TTE के लिए जारी किए दिशा-निर्देश (प्रतीकात्मक तस्वीर)
रेलवे ने 1 जून से चलने वाली 200 ट्रेनों के TTE के लिए जारी किए दिशा-निर्देश (प्रतीकात्मक तस्वीर)

रेलवे (Railway) की ओर से जारी दिशा निर्देशों के अनुसार, 'कोरोना संक्रमण को रोकने और उसके खतरे को कम करने के मद्देनजर टिकट जांच करने वाले कर्मचारियों के लिए काला कोट एवं टाई की अनिवार्यता समाप्त की जा सकती है.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय रेल (Indian Railway) के 167 के इतिहास में यह पहला मौका होगा जब रेलगाड़ियों में टिकट की जांच करने वाले कर्मचारी (TTE) अपने पारंपरिक काले कोट एवं टाई नहीं पहनेंगे. एक जून से शुरू होने वाले 100 जोड़ी ट्रेनों में सवार टिकट जांच करने वाले कर्मचारियों के लिए कोरोना वायरस संक्रमण के मद्देनजर रेलवे ने दिशा निर्देश जारी किए हैं. जिसके अनुसार उन्हें मास्क, दस्ताने और साबुन के अलावा आतिशी शीशा दिया जायेगा.

रेलवे (Railway) की ओर से जारी दिशा निर्देशों के अनुसार, 'कोरोना संक्रमण को रोकने और उसके खतरे को कम करने के मद्देनजर टिकट जांच करने वाले कर्मचारियों के लिए कोट एवं टाई की अनिवार्यता समाप्त की जा सकती है. हालांकि, वह इस दौरान अपने नाम ओर पद अंकित बैज पहने रहेंगे.' इसमें यह भी कहा गया है कि ट्रेनों में टिकटों की जांच करने वाले सभी टीटीई कर्मचारियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिये उन्हें पर्याप्त संख्या में मास्क, फेस शील्ड, दस्ताने, सिर ढंकने का कवर, सेनेटाइजर, साबुन समेत अन्य वस्तुएं मुहैया करायी जायेंगी.

सुरक्षात्मक उपकरणों का इस्तेमाल कर रहे हैं या नहीं इसकी होगी जांच



इसमें यह भी कहा है कि यह सुनिश्चित करने के लिए जांच की जा सकती है कि टीटीई वास्तव में सुरक्षात्मक उपकरणों का इस्तेमाल कर रहे हैं या नहीं. इसमें कहा गया है कि ट्रेन में सवार टिकट जांच कर्मचारियों को अगर संभव हुआ तो आतिशी शीशा (मैग्निफाइंग ग्लास) दिया जायेगा, ताकि वह दूर से ही टिकटों का विवरण देख सकें और शारीरिक संपर्क से बच सकें.
ये भी पढ़ें- 

जानिए कैसे फ्लाइट्स के लैंडिंग और टेक-ऑफ के दौरान खतरा बन सकती हैं टिड्डियां

अहमदाबाद: इमारत में आग लगी, घबरा कर चौथी मंजिल से कूदा शख्स, मौत
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज