'लव जिहाद' कानून पर दहाड़े गुजरात के गृह मंत्री, बेटियों को जिहादियों के हाथों में नहीं आने देना चाहिए

गुजरात विधानसभा

गुजरात विधानसभा

Gujarat Assembly Anti Love Jihad Bill: गृह मंत्री ने कहा, "राज्य सरकार ने उन तत्वों के खिलाफ सख्ती से निपटने का फैसला किया है. जो लव जिहाद के नाम पर हिंदू लड़कियों का धर्म परिवर्तन करने, उनसे शादी करने और कई बेटियों के जीवन को नरक बनाने की मानसिकता रखते हैं."

  • Share this:
अहमदाबाद. गुजरात विधानसभा (गुजरात विधानसभा) के बजट सत्र का आज आखिरी दिन है. आखिरी दिन विधानसभा में 2 बैठक होंगी. पहली बैठक में 4 सरकारी विधेयक पेश किए जाएंगे. पहली बैठक में, एक एंटी-लव जिहाद बिल पेश किया जा रहा है और इस पर चर्चा की जा रही है. उल्लेखनीय है कि यह कानून उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, झारखंड, ओडिशा, हिमाचल प्रदेश और मध्य प्रदेश में पहले ही लागू किया जा चुका है.

'बेटी को जिहादी हाथों में नहीं आने देना चाहिए'

गुजरात के गृहमंत्री प्रदीपसिंह जडेजा ने सदन में विधेयक पेश करते हुए एक बयान में कहा, "मैं आज अपने जीवन का सबसे बड़ा काम करने जा रहा हूं. हिंदू समाज बेटी को दिल का टुकड़ा समझकर रखते है. बेटी हमारा अंग है, बेटी को पार्की डिपॉजिट कहा जाता है, लेकिन बेटी को जिहादियों के हाथों में नहीं आने देना चाहिए. हम अपनी बेटी को कसाइयों के हाथों से बचाने के लिए सदन में एक कानून लाए हैं. एक मुस्लिम संगठन है जिसका काम धर्मान्तरण करना है. हम सभी को इसके बारे में जागरूक होने की आवश्यकता है."

'हम जिहादी तत्वों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेंगे'
इसके साथ ही उन्होंने कहा, "इस तरह के तत्वों को काबू में लाने के लिए यह कानून है. बिल आज समाज द्वारा विभिन्न अभ्यावेदन के आधार पर पेश किया जाएगा. राज्य सरकार ने इन जिहादी तत्वों के खिलाफ सख्ती से निपटने का फैसला किया है. जो लव जिहाद के नाम पर हिंदू लड़कियों का धर्म परिवर्तन करने, उनसे शादी करने और कई बेटियों के जीवन को नरक बनाने की मानसिकता रखते हैं. जिसके तहत वे गलत नाम बताकर हिंदू लड़कियों से शादी करते हैं. ऐसा करने वालों को अब बक्शा नही जाएगा."

नडियाद में मेडिकल छात्रा को विधर्मी द्वारा फंसाया गया था

प्रदीप सिंह ने सदन में कहा कि इलैया माल्या जमाल्या ने बेटियों का शोषण किया है. युवक अपना नाम बदलता है और दिखाता है कि वह हिंदू धर्म में विश्वास करता है. नडियाद में एक 20 वर्षीय मेडिकल छात्रा को 44 वर्षीय विधर्मी द्वारा फंसाया गया था. इसी तरह की घटना पालनपुर और खेड़ा और बनासकांठा में 17 वर्षीय बेटी के साथ हुई. इसी तरह का मामला अहमदाबाद के वस्त्रापुर में भी सामने आया था. शादी करवाने वाले धार्मिक गुरु मौलवी भी लड़की के सहमत ना होने पर निकाह करवा देते हैं. ऐसे जिहादी तत्वों के साथ धार्मिक गुरु भी ​​बेटियों के साथ धोखा करते हैं. अहमदाबाद के जुहापुरा के मरज़ान इक़बाल घांची ने पिंटू ठाकोर नाम बताकर निजी पलों के वीडियो वायरल किए और उन्हें जबरन शादी करने के लिए मजबूर किया और जबरदस्ती धर्म परिवर्तन करवाया था.



'मदद करने वाले मुल्ला मौलवी पर होगी कार्रवाई'

उन्होंने कहा कि आतंकवादियों ने भारत को आंतरिक रूप से खोखला करने के लिए लव जिहाद का सहारा लिया है. केवल भारत ही नहीं, बल्कि अमेरिका समेत पूरी दुनिया लव जिहाद से पीड़ित है. लव जिहाद शब्द कर्नाटक में 2009 में आया था जब एक युवती अपने मुस्लिम प्रेमी के साथ भाग गई थी. नए कानून के तहत, न केवल पीड़ित द्वारा बल्कि परिवार द्वारा भी शिकायत की जा सकती है. जिन व्यक्तियों के पीड़ित के साथ रक्त संबंध हैं, वे भी शिकायत कर सकेंगे. उन्होंने कहा, "लव जिहाद के लिए फंडिंग अरब देशों से हवाला के जरिए भारत पहुंचता है. जो लोग ऐसा करते हैं वे हमें भगवान रामचंद्र के दर्शन से वंचित करते हैं और सीमा पार आतंकवाद करते हैं. ये धार्मिक कट्टरता वाले लोग हैं. टुकड़े टुकड़े गिरोह वाले लोग हैं. मुल्ला मौलवी जिन्होंने भी मदद की उन पर कार्रवाई की जाएगी. इसके साथ ही सोशल मीडिया के मामले में भी कार्रवाई की जाएगी."

यह कोई राजनीतिक एजेंडा नहीं, बल्कि हमारा दुख है

उन्होंने आगे कहा, "केरल में 2006 से 2009 के बीच लव जिहाद की 4500 घटनाएं हुईं. यह केरल के सीएम द्वारा हाउस फ्लोर पर कही गई बात है. कुछ युवतियों को फंसाकर जिहादी आतंकवादी गतिविधियों में ऐसी बेटियों के इस्तेमाल की साजिश के मामले हैं. मैंने देश में उदाहरण दिए हैं, राज्य में उदाहरण और शहर में मामले बताए हैं. यह हमारा राजनीतिक एजेंडा नहीं है. यह हमारा दुख है. बेटियों को बचाने की कोशिश है. यूपी, एमपी, उत्तराखंड, झारखंड, ओडिशा, हिमाचल प्रदेश में भी इस संबंध में कानून हैं."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज