होम /न्यूज /राष्ट्र /Navsari Assembly Election 2022: नवसारी सीट पर BJP 27 साल से नहीं हारी चुनाव, 1985 के बाद कांग्रेस नहीं खोल पाई खाता, जानें स‍ियासी समीकरण

Navsari Assembly Election 2022: नवसारी सीट पर BJP 27 साल से नहीं हारी चुनाव, 1985 के बाद कांग्रेस नहीं खोल पाई खाता, जानें स‍ियासी समीकरण

नवसारी ज‍िला के अंतर्गत नवसारी व‍िधानसभा सीट को भाजपा के बड़े गढ़ के रूप में देखा जा रहा है. इस सीट पर भाजपा का 27 साल से वर्चस्‍व कायम है. (News18Hindi)

नवसारी ज‍िला के अंतर्गत नवसारी व‍िधानसभा सीट को भाजपा के बड़े गढ़ के रूप में देखा जा रहा है. इस सीट पर भाजपा का 27 साल से वर्चस्‍व कायम है. (News18Hindi)

Navsari Assembly Election: नवसारी व‍िधानसभा सीट को भाजपा के बड़े गढ़ के रूप में देखा जा रहा है. इस सीट पर भाजपा का 27 स ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

कांग्रेस को 1985 के बाद हर चुनाव में भाजपा के हाथों म‍िली करारी हार
इस बार कांग्रेस और भाजपा के अलावा आम आदमी पार्टी भी दमखम के साथ उतरी
इस सीट पर त्र‍िकोणीय मुकाबला होने के आसार

नवसारी. गुजरात व‍िधानसभा (Gujarat Assembly Elections) की 182 सीटों पर चुनाव होने जा रहा है. इनमें नवसारी ज‍िला (Navsari District) और लोकसभा सीट (Navsari Parliamentary Constituency) के अंतर्गत नवसारी व‍िधानसभा सीट (Navsari Assembly Seat) भी बेहद खास मानी जा रही है. इस सीट को भाजपा के बड़े गढ़ के रूप में देखा जा रहा है. इस सीट पर भाजपा का 27 साल से वर्चस्‍व कायम है. प‍िछला 2017 का चुनाव भाजपा प्रत्‍याशी पियुषभाई दिनकरभाई देसाई ने अपने पक्ष में क‍िया था. लेक‍िन इस बार क‍िस पार्टी का यहां पर कब्‍जा होगा, यह आने वाले समय में ही तय होगा. कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (AAP) ने भी पूरी ताकत झोंकी हुई है.

इस सीट पर भाजपा ने सीट‍िंग व‍िधायक पियुषभाई दिनकरभाई देसाई की जगह राकेश गुणवंतराय देसाई (Rakesh Gunvantray Desai) को ट‍िकट देकर मैदान में उतारा है. वहीं कांग्रेस ने दीपक बरोठ (Deepak Baroth) और आम आदमी पार्टी ने उपेश पटेल (Upesh Patel) पर बड़ा दांव लगाते हुए चुनावी समर में उतारा है. इस सीट पर आगामी 1 द‍िसंबर को पहले चरण में चुनाव होगा.

Mangrol Assembly Election 2022: मांगरोल (ST) सीट पर BJP का कब्‍जा, कांग्रेस से झटकी थी ये, ट्राइबल पार्टी और AAP ने भी ठोकी ताल

साल 2017 के चुनाव में भाजपा के पियुषभाई दिनकरभाई देसाई को 100,060 वोट हास‍िल हुए थे जबक‍ि कांग्रेस की भावनाबेन अनिलभाई पटेल को 60,747 मत प्राप्‍त हुए थे. दोनों के बीच जीत हार का बड़ा अंतराल 46,095 वोटों का र‍िकॉर्ड क‍िया गया था. वहीं, 2012 का चुनाव भी भाजपा के पियुषभाई ने जीता था. इस सीट पर भाजपा के ट‍िकट पर मंगुभाई छगनभाई पटेल ने 1990, 1995, 1998, 2002 और 2007 तक के 5 चुनाव लगातार जीते थे. कांग्रेस पार्टी के ट‍िकट पर यहां से 1985 में तालाविया मोहनभाई राधनध्व ने चुनाव जीता था. इसके बाद कांग्रेस को हर चुनाव में श‍िकस्‍त ही हास‍िल हुई.

नवसारी सीट पर 2.50 लाख से ज्‍यादा मतदाता
नवसारी व‍िधानसभा सीट (Navsari Assembly Seat) पर कुल मतदाताओं की संख्‍या 250061 है. इनमें 125240 पुरूष और 124807 मह‍िला मतदाता हैं. इस सीट पर अन्‍य मतदाताओं की संख्‍या 14 है. गुजरात में कुल वोटरों की संख्‍या पर नजर डाली जाए तो यह 4,90,89,765 है. इनमें 2,53,36,610 पुरूष, 2,37,51,738 मह‍िला और 1,417 ट्रांसजेंडर मतदाता हैं. इस बार कुल 27,943 सर्व‍िस वोटर भी हैं. इससे कुल मतदाता इस बार 4,91,17,308 हैं.

नवसारी लोकसभा सीट पर BJP लगा चुकी जीत की हैट्र‍िक
नवसारी व‍िधानसभा सीट (Navsari Assembly Seat) नवसारी ज‍िला (Navsari District) और लोकसभा सीट के तहत आती है. गुजरात की नवसारी लोकसभा सीट (Navsari Parliamentary Constituency) पर भाजपा 15 साल से काब‍िज है. इस संसदीय सीट से 2019 में भाजपा के चंद्रकांत रघुनाथ पाटि‍ल (C. R. Patil) ने कांग्रेस के धर्मेशभाई भीमभाई पटेल को 6,89,668 मतों के बड़े अंतराल से श‍िकस्‍त देकर तीसरी बार जीत दर्ज की थी.

2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा के चंद्रकांत रघुनाथ पाटि‍ल को 9,72,739 वोट म‍िले थे जबक‍ि कांग्रेस के धर्मेशभाई भीमभाई पटेल को मात्र 2,83,071 मत ही हास‍िल हुए थे. चंद्रकांत रघुनाथ पाटि‍ल ने 2014 और 2009 के चुनाव भी लगातार जीते थे.

गुजरात की 182 सीटों पर दो चरणों में होंगे चुनाव
बताते चलें क‍ि गुजरात की कुल 182 विधानसभा सीटों में से पहले चरण में 89 सीटों पर 1 दिसंबर को चुनाव होगा. वहीं बाकी 93 व‍िधानसभा सीटों पर 5 दिसंबर को वोट डाले जाएंगे. आगामी 8 दिसंबर को चुनाव पर‍िणाम घोष‍ित क‍िए जाएंगे. अहम बात यह है क‍ि इस बार भाजपा और कांग्रेस के अलावा चुनावी दंगल में आम आदमी पार्टी (AAP) भी मजबूती के साथ ताल ठोंके हुए है.

Tags: Assembly election, Gujarat Elections

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें