लाइव टीवी

राहुल की 29वीं हार, गुजरात के 'युवा तुर्क' भी नहीं बचा पाए कांग्रेस की 'लाज'

News18Hindi
Updated: December 18, 2017, 4:20 PM IST
राहुल की 29वीं हार, गुजरात के 'युवा तुर्क' भी नहीं बचा पाए कांग्रेस की 'लाज'
राहुल गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस को मिली यह 29वीं हार थी.

देश में एक वक्त सबसे बड़ी पार्टी रही कांग्रेस लगातार सिकुड़ती जा रही है. राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद भी कांग्रेस के लिए कोई खुशखबरी नदारद रही. गुजरात और हिमाचल प्रदेश के चुनावी नतीजों और रुझानों को देखें तो इन दोनों ही राज्यों में कांग्रेस के लिए खबर बुरी ही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 18, 2017, 4:20 PM IST
  • Share this:
देश में एक वक्त सबसे बड़ी पार्टी रही कांग्रेस लगातार सिकुड़ती जा रही है. राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद भी कांग्रेस के लिए खुशखबरी नदारद रही. गुजरात और हिमाचल प्रदेश के चुनावी नतीजों और रुझानों को देखें तो इन दोनों ही राज्यों में कांग्रेस के लिए ख़बर बुरी ही है.

राहुल गांधी ने गुजरात चुनावों पर पूरा ज़ोर लगा रखा था. यहां राहुल की कोशिश सॉफ्ट हिन्दुत्व के अलावा हार्दिक पटेल, जिग्नेश मेवाणी और अल्पेश ठाकोर जैसे युवाओं नेताओं के सहारे कांग्रेस की नैया पार करने की थी. यहां उन्होंने इन युवा तुर्कों के साथ रणनीतिक साझेदारी की. अल्पेश ठाकोर को कांग्रेस में शामिल कराते हुए अहम भूमिका दी गई. वहीं हार्दिक पटेल के साथ डील में पाटीदारों को टिकट बंटवारे में खासी अहमियत दी गई. तो अपनी परंपरागत सीट रही वडगाम को जिग्नेश मेवाणी के लिए खाली छोड़ दिया. हालांकि राहुल की ये रणनीति काम नहीं आई. गुजरात में 22 साल पुराना वनवास ख़त्म करने का उनका सपना साकार नहीं हो सका.

राहुल गांधी के नेतृत्व में लड़ी कांग्रेस की ये 29वीं हार थी. इससे पहले लोकसभा चुनावों में कांग्रेस बुरी तरह हारते हुए महज़ 44 सीटों पर सिमट गई. इसके अलावा दिल्ली, अरुणाचल प्रदेश, असम, छत्तीसगढ़, गोवा, हरियाणा, झारखंड, मध्य प्रदेश, मणिपुर, महाराष्ट्र, राजस्थान, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश में भी कांग्रेस को मुंह की खानी पड़ी.

इस दौरान कांग्रेस की बस एक खुशखबरी पंजाब से आई, जहां पार्टी ने अकाली-बीजेपी गठबंधन के खिलाफ जीत दर्ज़ की. हालांकि वो जीत राहुल से ज्यादा कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व की जीत मानी गई, क्योंकि तब विधानसभा चुनावों के वक्त राहुल का पूरा ध्यान उत्तर प्रदेश की तरफ था.

इस वक्त अगर देखें तो पंजाब के अलावा कर्नाटक, मेघालय और मिजोरम में ही कांग्रेस की सरकार बची है. इन तीनों ही राज्यों में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं और बीजेपी ने इन्हें भी कांग्रेस के हाथ से छीनने की कोशिशें शुरू कर दी हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Gandhinagar से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 18, 2017, 2:50 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर