Home /News /nation /

गुजरात: सड़क किनारे 'नॉन वेज फूड' स्टॉल पर प्रतिबंध की मांग; गंदगी, ट्रैफिक जाम को बताया कारण

गुजरात: सड़क किनारे 'नॉन वेज फूड' स्टॉल पर प्रतिबंध की मांग; गंदगी, ट्रैफिक जाम को बताया कारण

सड़क के किनारे नॉन वेज फूड के स्टॉल. (सांकेतिक तस्वीर)

सड़क के किनारे नॉन वेज फूड के स्टॉल. (सांकेतिक तस्वीर)

Gujarat Ban Roadside Non-Veg Food Stalls: गुजरात में अहमदाबाद, राजकोट और वडोदरा समेत अन्य शहरों में सड़क के किनारे मांसाहारी भोजन बेचने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने स्पष्ट करते हुए कहा कि राज्य में बीजेपी की सरकार को लोगों के विभिन्न प्रकार के खान-पान की आदत से कोई आपत्ति नहीं है. नगरीय निकाय अधिकारियों ने कहा कि सभी दुकानदार नॉन वेज फूड को पूरी तरह से ढंककर रखें या सड़क किनारे से दुकानें हटा दें.

अधिक पढ़ें ...

    अहमदाबाद. गुजरात के अहमदाबाद (Ahmedabad) में भी सड़क के किनारे मांसाहारी भोजन के स्टॉल (Non Veg Food Stalls) पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. इस मामले में मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने स्पष्ट करते हुए कहा कि राज्य में बीजेपी की सरकार (BJP Govt) को लोगों के विभिन्न प्रकार के खान-पान की आदत से कोई आपत्ति नहीं है. अहमदाबाद के साथ-साथ राज्य के अन्य शहर वडोदरा, राजकोट, जूनागढ़ और भावनगर में भी सड़क के किनारे नॉन वेज फूड के स्टॉल पर बैन लगा दिया गया है.

    नगरीय निकाय चाहता है कि मांसाहारी भोजन के स्टॉल पूरी तरह से सार्वजनिक न हों और इस पर कार्रवाई को लेकर उन्होंने कुछ कारण बताए हैं. इस संबंध में नॉन वेज फूड बेचने वाले सभी वेंडर्स को निर्देश दिया गया है कि या तो वे मांसाहारी भोजन बेचना बंद कर दें या फिर इस भोजन को पूरी तरह से कवर करके बेचें.

    Punjab Elections: पटियाला सीट से चुनाव लड़ेंगे कैप्टन अमरिंदर सिंह, कहा- भागेंगे नहीं

    हालांकि, इस संबंध में कोई आधिकारिक नोटिफिकेशन नहीं जारी हुआ है, लेकिन नगरीय निकाय के अधिकारियों ने मौखिक रूप से सड़क के किनारे मांसाहारी भोजन और अंडे बेचने वाले दुकानदारों को निर्देश दिये हैं.

    इन 5 कारणों की वजह से गुजरात में सार्वजनिक रूप से मांसाहारी भोजन बेचने पर प्रतिबंध:
    जमीन पर कब्जा और अतिक्रमण: राजकोट और वडोदरा में 19 नवंबर को नगरीय निकाय द्वारा सड़क किनारे नॉन वेज फूड पर प्रतिबंध लगाने के बाद, राज्य के राजस्व मंत्री राजेंद्र त्रिवेदी ने कहा था कि इस प्रकार के व्यवसाय जमीन पर कब्जा या अतिक्रमण करने की कोशिश होती है और इसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए. उन्होंने कहा कि ऐसे आदेश राज्य के अन्य शहरों में भी जारी होंगे. हालांकि गुजरात बीजेपी के अध्यक्ष सी आर पाटिल ने कहा कि यह जरूरी नहीं है कि इसे हर जगह दोहराया जाए.

    स्कूल, धार्मिक स्थलों के पास मांसाहारी भोजन न हो: बीजेपी शासित अहमदाबाद म्यूनिसिपल कॉर्पोरेशन ने स्कूल और धार्मिक स्थलों से 100 मीटर की दूरी के अंदर आने वाले मांसाहारी भोजन के स्टॉलों को हटाने का निर्णय लिया है.

    राफेल जेट की ताकत में होगा और इजाफा, भारतीय वायु सेना कर रही है अपग्रेड करने की तैयारी

    अस्वच्छता, बदबू और स्वास्थ्य के लिए हानिकारक: मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने कहा कि उन स्ट्रीट फूड की दुकानों के खिलाफ कार्रवाई की जा सकती है जो अस्वच्छ भोजन बेच रहे हैं और इसे लेकर कई बार इन दुकानों को सड़क के किनारे से हटाए जाने की मांग की जा चुकी है. हमारी चिंता सिर्फ यह है कि इन फूड स्टॉलों पर अस्वच्छ खाना नहीं बिकना चाहिए.

    ट्रैफिक जाम का कारण: सीएम भूपेंद्र पटेल ने कहा कि अगर ऐसे फूड स्टॉल व दुकान ट्रैफिक जाम का कारण बने, तो नगरीय निकायों को इनके खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए. ऐसे फूड स्टॉलों को सड़क के किनारे से हटाने का फैसला लेना चाहिए.

    धार्मिक भावनाएं होती हैं आहत: राजस्व मंत्री राजेंद्र त्रिवेदी ने कहा कि इस तरह के खाद्य पदार्थ से न केवल लोगों की भावनाओं को चोट पहुंचती है, बल्कि इसकी मसालेदार खूशबू भी आने-जाने वालों के लिए परेशानी का कारण बनती है. उन्होंने कहा कि यह जाति या धर्म से जुड़ा मुद्दा नहीं है. हालांकि जो भी व्यक्ति इस तरह का भोजन बेच रहा है उसे एक दुकान खरीदनी चाहिए और वहीं से अपना यह व्यवसाय करना चाहिए.

    Tags: Ahmedabad, Bhupendra Patel, BJP, Gujarat

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर