लाखों की नौकरी छोड़कर भारत लौटा कपल, पर्यावरण के लिए कर रहे हैं ऑर्गेनिक खेती

खेत में एक रेनवॉटर हार्वेस्टिंग प्लांट भी लगा है, जिसकी क्षमता 20 हजार लीटर है. विवेक ने बताया कि एक बार जब यह पूरी तरह भर जाएगा तो तीन साल तक सिंचाई की जरूरत इसी से पूरी होगी.

News18Hindi
Updated: July 28, 2019, 9:14 AM IST
लाखों की नौकरी छोड़कर भारत लौटा कपल, पर्यावरण के लिए कर रहे हैं ऑर्गेनिक खेती
अमेरिका में लाखों की नौकरी छोड़कर ऑर्गेनिक खेती करने के लिए भारत लौटा ये कपल.
News18Hindi
Updated: July 28, 2019, 9:14 AM IST
गुजरात के एक दंपत्ति ने पर्यवारण संरक्षण के लिए अनोखी मिशाल पेश की है. पर्यावरण संरक्षण के अपने सपने को पूरा करने के लिए दोनों ने सिलिकॉन वैली में अपनी लाखाों की नौकरी छोड़ दी और अब नाडियाड में ऑर्गेनिक खेती कर रहे हैं.

ऑर्गेनिक खेती नाडियाड में हाईवे के निकट 10 एकड़ जमीन में फैली हुई है, जहां गेंहू, केला, आलू और जामुन के साथ कई अन्य फसले उगाई जा रही हैं. अपनी टेक जॉब छोड़ने के बाद दंपत्ति ने अपने देश आकर किसानी में करियर बनाने का निर्णय लिया. दोनों ने खेती-बाड़ी के लिए डेढ़ महीने का कोर्स किया और ऑर्गेनिक खेती शुरू कर दी.

अगर उत्पादन अधिक हुआ तो ऑर्गेनिक फल और सब्जियों के अलावा 'केले के ऑर्गेनिक चिप्स' का भी उत्पादन किया जाएगा. चिप्स को केवल ऑर्गेनिक तेल से तैयार किया जाएगा.

विवेक शाह ने कहा, 'हम अपने खेत में बाजरा, गेंहू, आलू, केला, पपीता, जामुन, धनिया और बैंगन जैसी फसलें उगाते हैं. हमने अपने खेतों में तालाब भी बनाए हैं और वहां खास पौधे उगाते हैं जो पानी को साफ करते हैं. इस तरह हमारे खेतों की सिंचाई साफ पानी से होती है.'



वैज्ञानिक तरीके से कर रहे हैं खेती

खेत में एक रेनवॉटर हार्वेस्टिंग प्लांट भी लगा है, जिसकी क्षमता 20 हजार लीटर है. विवेक ने बताया कि एक बार जब यह पूरी तरह भर जाएगा तो तीन साल तक सिंचाई की जरूरत इसी से पूरी होगी.
Loading...

खेती में सबसे बड़ी चुनौती कीटों से बचाव की होती है, इस खतरे से निपटने के लिए दंपत्ति ने इंटरक्रॉपिंग और मल्टी-क्रॉपिंग पद्धति अपनाई है. इसके लिए वे तुलसी और नींबू घास (लेमनग्रास) भी उगाते हैं.

अब बनाएंगे ऑर्गेनिक घर
खेतों से निकलने वाले कचरे के निपटान के बारे में पूछे जाने पर दंपत्ति ने बताया कि वे इससे खाद बनाते हैं, जो पौधों के काम आती है. अब यह दंपत्ति किचन गार्डेनिंग और ऑर्गेनिक खेती पर सेमिनार आयोजित कर अन्य लोगों को भी इसे अपनाने के लिए प्रेरित कर रहा है.

गुजरात के इस दंपत्ति की अगली योजना खतों में एक घर बनाने की है जो पूरी तरह प्राकृतिक होगा. यह घर मिट्टी, गाय के गोबर और पत्थरों से बनाया जाएगा. उन्होंने बताया कि इसके लिए उस मिट्टी का इस्तेमाल होगा जो तालाब को खोदते वक्त निकाली गई है.

ये भी पढ़ें: जैविक खेती ने बदली किसान की तकदीर, 20 हजार से 13 लाख रुपये हुई कमाई!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 28, 2019, 8:47 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...