गुजरात: हार्दिक पटेल की याचिका खारिज, बिना इजाजत राज्य के बाहर जाने पर जारी रहेगी रोक

गुजरात: हार्दिक पटेल की याचिका खारिज, बिना इजाजत राज्य के बाहर जाने पर जारी रहेगी रोक
अदालत ने उस शर्त को बरकरार रखा कि कांग्रेस नेता जब भी राज्य से बाहर जाना चाहें तो वह हमेशा अदालत से संपर्क कर सकते हैं. (File Photo)

गुजरात कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष हार्दिक पटेल (Gujarat Congress's Enterim President Hardik Patel) की जमानत की शर्त में संशोधन करने का अनुरोध वाली याचिका को कोर्ट ने खारिज कर दिया. इस शर्त के तहत अदालत की पूर्व अनुमति के बिना उनके राज्य से बाहर जाने पर रोक है.

  • Share this:
अहमदाबाद. अहमदाबाद (Ahmedabad) की एक सत्र अदालत (Session Court) ने गुरुवार को गुजरात कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष हार्दिक पटेल (Gujarat Congress's Enterim President Hardik Patel) की जमानत की शर्त में संशोधन करने का अनुरोध वाली याचिका को खारिज कर दिया. इस शर्त के तहत अदालत की पूर्व अनुमति के बिना उनके राज्य से बाहर जाने पर रोक है. गुजरात सरकार (Gujarat Government) की आपत्तियों को ध्यान में रखते हुए अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश बी जे गणात्रा ने पटेल की याचिका को खारिज कर दिया.

अदालत ने उस शर्त को बरकरार रखा कि कांग्रेस नेता जब भी राज्य से बाहर जाना चाहें तो वह हमेशा अदालत से संपर्क कर सकते हैं. वर्ष 2015 में पटेल के खिलाफ दर्ज राजद्रोह के मामले में सुनवाई के दौरान अनुपस्थित रहने के चलते इस अदालत ने उनके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया था. पटेल की गिरफ्तारी के बाद जनवरी में उन्हें जमानत दी गई थी. जमानत इस शर्त पर दी गई थी कि कांग्रेस नेता अदालत की पूर्व अनुमति के बिना गुजरात नहीं छोड़ेंगे.

ये भी पढ़ें- सोनिया गांधी ने की कांग्रेस सांसदों के साथ बैठक, फिर उठी राहुल को अध्यक्ष बनाने की मांग



नई जिम्मेदारी के चलते खटखटाया था अदालत का दरवाजा
हाल ही में प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किए जाने के बाद 26 वर्षीय पटेल ने अपनी जमानत के आदेश से शर्त हटाने की मांग करते हुए अदालत का दरवाजा खटखटाया. उन्होंने तर्क दिया कि नई जिम्मेदारी के चलते उन्हें अक्सर राज्य से बाहर जाना पड़ेगा.

ये भी पढ़ें :- नेहरू सरकार का वो मंत्री, जिसने सोमनाथ मंदिर बनाने में मुख्य भूमिका निभाई

हालांकि, राज्य सरकार ने पटेल की याचिका का विरोध करते हुए कहा कि उनके कारण पहले ही राजद्रोह के मामले की सुनवाई में देरी हुई.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading