लाइव टीवी

वोट गिनती में गड़बड़ी पर प्रत्याशी के पास होते हैं ये विकल्प

Salman Faheem | News18Hindi
Updated: December 18, 2017, 5:39 PM IST
वोट गिनती में गड़बड़ी पर प्रत्याशी के पास होते हैं ये विकल्प
वोट गिनती में गड़बड़ी पर प्रत्याशी के पास होते हैं ये विकल्प

वोट गिनती में गड़बड़ी पर प्रत्याशी के पास होते हैं ये विकल्प

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 18, 2017, 5:39 PM IST
  • Share this:
गुजरात चुनावों में बीजेपी की जीत पर पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने गंभीर सवाल खड़े किए हैं. हार्दिक पटेल ने सीधे ईवीएम की विश्वसनियता पर ही सवाल खड़े कर दिए. हार्दिक का आरोप है कि सूरत, राजकोट और अहमदाबाद में ईवीएम मशीनों में टेंपरिंग हुई है.

हार्दिक के अनुसार इन सीटों पर हार और जीत का अंतर बेहद कम है और बीजेपी ने यहां पैसों के बल पर जीत हासिल की है. हार्दिक ने कहा, 'चुनाव परिणाम के बाद भी ईवीएम एक बड़ा मुद्दा रहेगा. इस मुद्दे पर सभी विपक्षी दलों को एकसाथ खड़ा होना होगा. मेरी दादागिरी आगे भी जारी रहेगी.'

न्यूज़18 ने हार्दिक के इन आरोपों पर पूर्व चुनाव आयुक्त के जे राव से बात की और जाना कि ऐसे आरोपों और ज़मीनी हकीकत में अंतर क्या है. साथ ही हमने जाना कि वोटों की गिनती में गड़बड़ी के आरोपों के बीच किसी प्रत्याशी के पास क्या विकल्प होते हैं.

रिकाउंटिग का विकल्प
Loading...

पूर्व चुनाव आयुक्त के जे राव ने बताया कि गिनती में गड़बड़ी पर प्रत्याशी वोटों की रिकाउंटिंग (दुबारा गिनती) करवा सकता है. रिकाउंटिंग कराने का निर्णय, पोलिंग बूथ पर मौजूद रिटर्निंग ऑफिसर (पीठासीन अधिकारी) के हाथ में होता है. प्रत्याशी चाहे तो वो रिटर्निंग ऑफिसर से रिकाउंटिंग कराने का आवेदन कर सकता है.

इस प्रक्रिया में प्रत्याशी या प्रत्याशी का इलेक्शन एजेंट एक लिखित आवेदन करता है, जिसमें रिकाउंटिंग कराने के कारणों का उल्लेख किया जाता है. रिटर्निंग ऑफिसर के इन कारणों से संतुष्ट होने के बाद ही रिकाउंटिंग का आदेश दिया जाता है.

बता दें कि रिटर्निंग ऑफिसर के रिजल्ट शीट अपडेट करने और उसपर हस्ताक्षर करने के बाद प्रत्याशी के पास रिकाउंटिग का विकल्प नहीं रहता.

कोर्ट जाने का विकल्प
रिकाउंटिंग के बाद भी अगर किसी प्रत्याशी को वोटों की गिनती में गड़बड़ी का अंदेशा होता है तो वो इस बाबत कोर्ट में याचिका दायर कर सकता है. इस मामले में फिर अंतिम निर्णय कोर्ट का होता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 18, 2017, 5:39 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...