गुजरात राज्यसभा चुनाव में जीत हासिल कर बोले अहमद पटेल- सत्यमेव जयते

गुजरात में राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने जीत हासिल कर ली है. इसे बीजेपी के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है.


Updated: August 9, 2017, 3:10 AM IST
गुजरात राज्यसभा चुनाव में जीत हासिल कर बोले अहमद पटेल- सत्यमेव जयते
गुजरात में राज्यसभा चुनाव में कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने जीत हासिल कर ली है. इसे बीजेपी के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है.

Updated: August 9, 2017, 3:10 AM IST
गुजरात में राज्यसभा चुनाव में नाक का सवाल बनी लड़ाई आखिरकार कांग्रेस ने जीत ली है. राज्यसभा चुनाव में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और स्मृति ईरानी की जीत तो पहले से ही तय थी, लेकिन तीसरी सीट पर भाजपा नेता बलवंत सिंह और कांग्रेस नेता अहमद पटेल में पेंच फंस गया था. देर रात पौने दो बजे वोटों की गिनती शुरू हुई जिसमें अहमद पटेल को विजेता घोषित कर दिया गया. इसे बीजेपी के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है. बीजेपी ने कहा है कि वे इस फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाएगी.

जीत के फौरन बाद अहमद पटेल ने ट्वीट किया सत्यमेव जयते. चुनाव में अहमद पटेल को 44 वोट मिले. वहीं भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और स्मृति ईरानी को भी 46-46 वोट मिले हैं. वहीं बलवंत सिंह ने 38 वोट हासिल किए हैं. चुनाव जीतने के फौरन बाद अहमद पटेल ने कहा कि वे अब गुजरात विधानसभा चुनाव में भी जीत हासिल करेंगे.

चुनाव जीतने के बाद न्यूज 18 से अहमद पटेल ने कहा कि यह जीत काफी सुखद है. हमें सबसे ज्यादा गर्व है अपने विधायकों पर, पार्टी कार्यकर्ताओँ पर और पार्टी नेतृत्व पर. पटेल ने कहा कि मेरी अकेले की जीत नहीं है, बल्कि पार्टी कार्यकर्ताओं की जीत है. ये मेरे लिए बेहद मुश्किल चुनाव साबित हुआ. शंकर सिंह वाघेला पर उन्होंने कहा कि हमारे लिए तो वे अजीज दोस्त ही हैं. अब ये तो वो ही बताएंगे कैसी दोस्ती उन्होंने निभाई.

Loading...
गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने देर रात तीन बजे मीडिया के सामने आकर कहा कि अहमद पटेल सिर्फ आधे वोट से जीते हैं. दो वोट का जो झगड़ा था, वो हमारा था. उन्होंने दावा किया कि अगर वो हमें मिल जाता तो हम डेढ़ वोट से जीत जाते. कांग्रेस की शिकायत में कोई आधार नहीं है. आने वाले दिनों में जो भी कानूनी रूप से लड़ाई होगी, वो हम लड़ेंगे.











वहीं कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा कि - गांधी की धरती गुजरात में सत्य की जीत हुई.  भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं वर्षगाँठ पर सबसे बेहतरीन तोहफ़ा है. अहंकार हारा और सच्चाई जीती.

देर रात दो बजे अहमद पटेल के जीतने का ऐलान हुआ. इससे पहले शाम को दोनों ही दल इस मामले को लेकर चुनाव आयोग पहुंच गए. आयोग ने कांग्रेस की मांग पर चुनाव की फुटेज मंगाई. देर रात आयोग ने कांग्रेस के दो विधायकों के वोट रद्द कर दिये. इन दोनों ने अपने वोट बीजेपी को दिखाए थे.

चुनाव में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और स्मृति ईरानी को 44-44 वोट मिले हैं.


वोटिंग के बाद से दो वोट को लेकर कांग्रेस-बीजेपी में ठनी थी. राघवजी पटेल की वोटिंग पर कांग्रेस ने आपत्ति जताई थी. पार्टी ने चुनाव आयोग से वोट रद्द करने की मांग करते हुए कहा कि राघवजी पटेल ने व्हिप के बावजूद वोट का खुलासा किया था.

इस बीच चुनाव आयोग के फैसले के बाद गांधीनगर में कांग्रेस कार्यकर्ताओं में उत्साह की लहर दौड़ गई है.



अहमद पटेल ने देर शाम भी खुद की जीत का दावा किया था. रात में इलेक्शन कमीशन पहुंचे भाजपा नेता मुख्तार अब्बास नकवी ने तत्काल काउंटिंग शुरू करने की मांग करते हुए कहा कि फ्री एंड फेयर चुनाव हुआ है. इससे पहले कांग्रेस के प्रतिनिधिनंडल ने भी चुनाव आयोग से मुलाकात की. कांग्रेस ने कहा कि उन्होंने आयोग को शिकायत के साथ सुबूत दिए हैं.

चुनाव आयोग से मिलने के बाद रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि हम न्याय की बात कह रहे हैं. हमें विश्वास है कि ईसी न्याय करेगा. सारे तथ्य रखे गये हैं. ईसी ने हमारी बात सुनी. कांग्रेस पार्टी ने सुप्रीम कोर्ट का कागज दिया है. हम तथ्यों की लड़ाई लड़ रहे हैं. बीजेपी कितना भी झुंझलाये, विनम्रता से बीजेपी को कहेंगे कि ये सच्चाई की लड़ाई है. गांधी जी ने अपना खून देकर सच्चाई की लड़ी है. भारत छोड़ो आंदोलन की 75वीं वर्षगांठ है. दो विधायक के वोट खारिज हो जाए तो दूध का दूध पानी का पानी सामने आ जाएगा. दोनों विधायकों ने दूसरे लोगों को अपने वोट दिखाए हैं. वहीं भाजपा नेता धर्मेद्र प्रधान ने कांग्रेस पर आरोप लगाया कि वो आयोग पर दबाव बना रही है.

देर रात भाजपा अध्यक्ष अमित शाह गांधीनगर स्थित काउंटिंग सेंटर पहुंच गए थे. उनके साथ गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी, नितिन पटेल, भूपेंद्र यादव समेत कई नेता साथ में थे.







राज्यसभा की यह लड़ाई इलेक्शन कमीशन पहुंच गई थी. क्रास वोटिंग पर कांग्रेस ने इलेक्शन कमीशन से दो वोट रद्द करने की मांग की थी. वहीं बीजेपी ने भी इलेक्शन कमीशन में अपने नेताओं की फौज भेज दी.





जेडीयू नेता केसी त्यागी ने दावा किया था कि उनकी पार्टी के विधायक छोटू भाई वसावा ने बीजेपी को वोट दिया है, जबकि खुद विधायक ने कहा कि उन्होंने अहमद पटेल को वोट दिया है.

 

बता दें कि विधानसभा में बीजेपी के 121 विधायक हैं. जबकि पार्टी को कांग्रेस के कई बागी विधायकों का समर्थन मिला है. एनसीपी ने भी बीजेपी को समर्थन दिया है. हालांकि जेडीयू ने कांग्रेस को अपना समर्थन दिया है. मतदान में कुल 176 विधायकों ने हिस्सा लिया.



कांग्रेस के 8 विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की
कांग्रेस के 8 विधायकों ने क्रॉस वोटिंग की है. अशोक गहलोत ने कहा, क्रॉस वोटिंग करने वाले 8 विधायकों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी. हालांकि उन्होंने यह भी दावा किया कि हर हाल में अहमद पटेल की जीत होगी. कांग्रेस से हाल ही में अलग हुए शंकर सिंह वाघेला ने कहा कि उन्होंने अहमद पटेल को वोट नहीं दिया है.

वाघेला पर दबाव था इसलिए नहीं दिया वोट
अशोक गहलोत ने कहा, शंकर सिंह वाघेला पर कोई दबाव जरूर है. कल तक कह रहे थे अहमद भाई को वोट देंगे. आज अचानक पलटा खाकर कह रहे हैं मैंने वोट नहीं दिया. उन्होंने कहा, ये अवसरवादिता है. बीजेपी मोदी और अमित शाह की हॉर्स ट्रेडिंग की वजह से चुनाव पूरे देश में चर्चा का विषय बन गया है.

ये भी पढ़ें

गुजरात: राज्यसभा चुनाव की वोटिंग खत्म, 8 कांग्रेसी विधायकों पर होगी कार्रवाई

क्‍या राज्‍यसभा चुनाव के नतीजों के बाद खत्‍म हो जाएगा अहमद पटेल का राजनीतिक करियर?

राहुल गांधी की कार पर फेंके गए पत्थर से कांग्रेस साधेगी बीजेपी पर निशाना!
राज्यसभा में BJP सबसे बड़ी पार्टी बनी, 57 सांसदों के साथ कांग्रेस नंबर 2 पर
बिहार के बाद मोदी-शाह के निशाने पर हो सकते हैं ये दो राज्य
राहुल का पहला प्रयोग नाकाम, अब 2019 में कैसे देंगे मोदी को चुनौती?

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर