होम /न्यूज /राष्ट्र /

तीस्ता के जरिए अहमद पटेल ने PM मोदी के खिलाफ रची थी साजिश- SIT का दावा, कांग्रेस ने बताया बेबुनियाद

तीस्ता के जरिए अहमद पटेल ने PM मोदी के खिलाफ रची थी साजिश- SIT का दावा, कांग्रेस ने बताया बेबुनियाद

एसआईटी ने कोर्ट में कहा है कि कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने गुजरात दंगों के बाद तीस्ता सीतलवाड़ के जरिए नरेंद्र मोदी के खिलाफ साजिश रची थी. (File Photo)

एसआईटी ने कोर्ट में कहा है कि कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने गुजरात दंगों के बाद तीस्ता सीतलवाड़ के जरिए नरेंद्र मोदी के खिलाफ साजिश रची थी. (File Photo)

कोर्ट में दिए गए एसआईटी के हलफनामे में कहा गया है, 'इस बड़ी साजिश को अंजाम देते हुए आवेदक (सीतलवाड़) का राजनीतिक उद्देश्य निर्वाचित सरकार को बर्खास्त करना या अस्थिर करना था. उसने गुजरात में निर्दोष व्यक्तियों को गलत तरीके से फंसाने के अपने प्रयासों के बदले प्रतिद्वंद्वी राजनीतिक दल से अवैध वित्तीय और अन्य लाभ और पुरस्कार प्राप्त किए.'

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

तीस्ता सीतलवाड़ को अहमद पटेल की ओर 30 लाख रुपए मिले- कोर्ट में SIT
तीस्ता ने कांग्रेस नेता से पूछा था कि सिर्फ जावेद और शबाना को ही मौका क्यों?
'केंद्र की सत्ता में काबिज एक प्रमुख राष्ट्रीय पार्टी के नेताओं से मिलती थीं तीस्ता'

अहमदाबाद: गुजरात पुलिस ने शुक्रवार को एक्टिविस्ट तीस्ता सीतलवाड़ की जमानत याचिका का विरोध किया. पुलिस के विशेष जांच दल (Special Investigation Team) की ओर से सत्र अदालत के समक्ष दायर एक हलफनामे में दावा किया गया कि तीस्ता सीतलवाड़ 2002 के दंगों के बाद राज्य में भाजपा सरकार को अस्थिर करने के लिए दिवंगत कांग्रेस नेता अहमद पटेल के इशारे पर रची गई एक ‘बड़ी साजिश’ का हिस्सा थीं. अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश डीडी ठक्कर ने एसआईटी के हलफनामे को रिकॉर्ड में लिया और सीतलवाड़ की जमानत अर्जी पर सुनवाई सोमवार तक के लिए स्थगित कर दी.

गुजरात दंगों से जुड़े मामलों में निर्दोष लोगों को फंसाने के लिए झूठे सबूत गढ़ने के आरोप में तीस्ता सीतलवाड़ को पूर्व आईपीएस अधिकारियों आरबी श्रीकुमार और संजीव भट्ट के साथ गिरफ्तार किया गया है. कोर्ट में दिए गए एसआईटी के हलफनामे में कहा गया है, ‘इस बड़ी साजिश को अंजाम देते हुए आवेदक (सीतलवाड़) का राजनीतिक उद्देश्य निर्वाचित सरकार को बर्खास्त करना या अस्थिर करना था. उसने गुजरात में निर्दोष व्यक्तियों को गलत तरीके से फंसाने के अपने प्रयासों के बदले प्रतिद्वंद्वी राजनीतिक दल से अवैध वित्तीय और अन्य लाभ और पुरस्कार प्राप्त किए.’

कांग्रेस ने आरोपों को बताया बेबुनियाद
कांग्रेस नेता जयराम रमेश की ओर से जारी बयान में कहा गया है, ‘कांग्रेस पार्टी अहमद पटेल पर लगाए गए आरोपों का स्‍पष्‍ट रूप से खंडन करती है. राजनीतिक प्रतिशोध मशीन उन दिवंगत लोगों को भी नहीं बख्शती जो उनके राजनीतिक विरोधी थे. ऐसे व्यक्ति को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है जो इन दुनिया में नहीं हैं, और खुद इस झूठ का खंडन नहीं कर सकते.’

तीस्ता सीतलवाड़ को अहमद पटेल के कहने पर 30 लाख मिले
एक गवाह के बयानों का हवाला देते हुए एसआईटी ने अपने हलफनामे में कहा है कि यह साजिश दिवंगत अहमद पटेल के इशारे पर रची गई थी. एसआईटी ने आरोप लगाया गया है कि सीतलवाड़ को 2002 गुजरात दंगों के बाद पटेल की ओर से 30 लाख रुपये मिले थे. एसआईटी ने आगे दावा किया कि तीस्ता सीतलवाड़ गुजरात दंगों से मुकदमों में तत्कालीन भाजपा सरकार के वरिष्ठ नेताओं को फंसाने के लिए उस समय केंद्र की सत्ता में काबिज एक प्रमुख राष्ट्रीय पार्टी के नेताओं से दिल्ली में मिला करती ​थीं.

कांग्रेस कोटे से राज्यसभा जाने की चाहत रखती थीं सीतलवाड़
एसआईटी ने अपने हलफनामे में एक अन्य गवाह के हवाले से दावा किया है कि 2006 में तीस्ता सीतलवाड़ ने एक कांग्रेस नेता से पूछा था कि पार्टी ‘केवल शबाना और जावेद’ को ही क्यों मौका दे रही है और उन्हें राज्यसभा का सदस्य क्यों नहीं बना रही है. पिछले महीने, सुप्रीम कोर्ट द्वारा गुजरात दंगों के मामले में तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी और अन्य को एसआईटी जांच में दी गई क्लीन चिट को बरकरार रखने के एक दिन बाद, राज्य पुलिस ने तीस्ता सीतलवाड़ को गिरफ्तार कर लिया था.

SIT ने कोर्ट में तीस्ता के साथ अहमद पटेल का नाम भी लिया
आईपीएस आरबी श्रीकुमार और संजीव भट्ट के साथ, तीस्ता सीतलवाड़ पर पुलिस ने आईपीसी की धारा 468 (जालसाजी) और 194 (किसी को दोषी साबित करने के इरादे से झूठे सबूत देना या गढ़ना) के तहत मामला दर्ज किया है. गुजरात पुलिस की एसआईटी ने कोर्ट में तीस्ता की जमानत याचिका का विरोध करते हुए कहा कि वह गुजरात में बीजेपी सरकार को गिराने की साजिश का हिस्सा थीं. एसआईटी ने दिवंगत कांग्रेस नेता अहमद पटेल का नाम भी कोर्ट में लिया.

Tags: Ahmed Patel, Gujarat Riots, PM Modi

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर