होम /न्यूज /राष्ट्र /

दावा: अहमद पटेल ने दिया था कांग्रेस से फंड का भरोसा, तीस्ता सीतलवाड़ को मिले 30 लाख रुपए

दावा: अहमद पटेल ने दिया था कांग्रेस से फंड का भरोसा, तीस्ता सीतलवाड़ को मिले 30 लाख रुपए

तीस्ता सीतलवाड़ को 2002 के गुजरात दंगों के मामले में कथित तौर पर साक्ष्य गढ़ने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. (फाइल फोटो)

तीस्ता सीतलवाड़ को 2002 के गुजरात दंगों के मामले में कथित तौर पर साक्ष्य गढ़ने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. (फाइल फोटो)

Gujarat Riots Teesta Setalvad: गुजरात पुलिस की एसआईटी ने गुजरात की अदालत के समक्ष दावा किया कि तीस्ता सीतलवाड़ 2002 के दंगों के बाद राज्य में भाजपा सरकार को बर्खास्त करने के मकसद से दिवंगत कांग्रेस नेता अहमद पटेल के इशारे पर की गई 'बड़ी साजिश' का हिस्सा थीं.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. 2002 के दंगों से जुड़े सबूतों के गढ़ने के आरोपों की जांच कर रही गुजरात एसआईटी ने आरोपी को तत्कालीन राज्य सरकार को अस्थिर करने की एक बड़ी साजिश का हिस्सा बताते हुए कहा कि तीस्ता सीतलवाड़ को कांग्रेस नेता अहमद पटेल के जरिए ‘पहली बार में 5 लाख रुपये हासिल हुए थे’. अब सीतलवाड़ के पूर्व सहयोगी ने कहा है कि कांग्रेस नेता ने उन्हें “उनकी अपनी पार्टी (कांग्रेस) से और देश भर व विदेशों में एजेंसियों से धन मिलने का भरोसा दिया था’. कार्यकर्ता तीस्ता सीतलवाड़ के पूर्व सहयोगी रईस खान पठान ने कहा कि 2002 के गुजरात दंगों के बाद जब कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के तत्कालीन राजनीतिक सलाहकार अहमद पटेल ने सीतलवाड़ को फोन किया तो वह उनके साथ गए थे.

पठान ने कहा, “2002 के गुजरात दंगों के बाद, जब अहमद पटेल ने पहली बार तीस्ता को सर्किट हाउस में मिलने के लिए बुलाया, तो मैं भी उनके साथ गया था. अहमद पटेल ने तीस्ता को बताया कि वह बाबरी मस्जिद दंगों में उसकी भूमिका से परिचित हैं.” उसने कहा कि ‘पहले 5 लाख रुपये और बाद में 25 लाख रुपये सीतलवाड़ को सौंपे गए’.

पठान ने कहा, ‘अहमद पटेल ने तीस्ता को अपनी पार्टी और देश-विदेश की एजेंसियों से फंड देने का आश्वासन दिया था. शुरुआत में तीस्ता को 5 लाख रुपये की राशि दी गई थी. बाद में 25 लाख रुपये की राशि तीस्ता को सौंप दी गई.’ पठान ने इस साल की शुरुआत में अपने एक ट्वीट में कहा था कि उन्होंने नैतिक कारणों से सीतलवाड़ के साथ काम करना छोड़ दिया है.

पठान ने इस साल फरवरी में पोस्ट किए गए एक ट्वीट में कहा था. ‘मेरे अतीत में मैंने तीस्ता सीतलवाड़ के साथ काम किया था, उसके साथ काम छोड़ने का फैसला करना नैतिक कारणों से था. अब राशिद और अयूब जैसे नए युग के धोखेबाज उसी नैतिकता का पालन कर रहे हैं क्योंकि वे लोगों के लिए काम करने का दिखावा करते हैं, लेकिन वास्तविकता काफी अलग है.’

रईस खान ने कहा, ‘कांग्रेस की पूरी लॉबी उनके साथ थी, जिसमें कपिल सिब्बल, सलमान खुर्शीद और दिग्विजय सिंह जैसे नेता शामिल थे. अहमद पटेल सोनिया गांधी के सचिव थे और उनका कहा कांग्रेस मे पत्थर की लकीर होती थी. उन्होंने आश्वासन दिया था कि हमारी सरकार आ जाएगी, तो गुजरात को नरेंद्र मोदी मुक्त बनायेंगे और भाजपा की सत्ता को उखाड़ फेकेंगे.’

दरअसल, गुजरात पुलिस के विशेष जांच दल (एसआईटी) ने तीस्ता सीतलवाड़ की जमानत याचिका का विरोध करते हुए गुजरात की अदालत के समक्ष दावा किया कि वह 2002 के दंगों के बाद राज्य में भाजपा सरकार को बर्खास्त करने के मकसद से दिवंगत कांग्रेस नेता अहमद पटेल के इशारे पर की गई ‘बड़ी साजिश’ का हिस्सा थीं.

Tags: Congress, Gujarat

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर