गुजरात के स्कूल-कॉलेज में ऑनलाइन क्लास से पढ़ाई शुरू, अहमदाबाद के 30 से अधिक स्कूलों में आई परेशानी

गुजरात के स्कूलों में ऑनलाइन क्लास के जरिए छात्रों को पढ़ाते शिक्षक.

गुजरात के स्कूलों में ऑनलाइन क्लास के जरिए छात्रों को पढ़ाते शिक्षक.

Gujarat School College Open: गुजरात के स्कूलों में नया शैक्षणिक सत्र शुरू हो गया है. स्कूल शत-प्रतिशत स्टाफ के साथ काम कर रहे हैं.

  • Share this:

अहमदाबाद. गर्मी की छुट्टी पूरी होने के साथ ही राज्य भर के स्कूल- कॉलेजों में सोमवार से शैक्षणिक सत्र शुरू हो गए हैं. शिक्षकों द्वारा ऑनलाइन अध्ययन की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है, लेकिन अहमदाबाद के 30 से अधिक स्कूलों में यह शैक्षणिक कार्य अटका हुआ है. इसका मुख्य कारण यह है कि अहमदाबाद नगर निगम द्वारा बीयू की अनुमति के अभाव में स्कूलों को सील करने से स्कूल बंद हैं और 10वीं और 12वीं की मार्किंग और रिजल्ट बनाने की प्रक्रिया अटकी हुई है.

कोरोना महामारी के चलते एक बार फिर आज से ऑनलाइन शिक्षा की शुरुआत हो गई है. स्कूलों में नया शैक्षणिक सत्र शुरू हो गया है. स्कूल शत-प्रतिशत स्टाफ के साथ काम कर रहे हैं. वहीं शिक्षा विभाग ने किसी भी बच्चे को स्कूल नहीं बुलाने और नए निर्देश मिलने तक अनिवार्य ऑनलाइन पढ़ाई जारी रखने का निर्देश दिया है. हालांकि, नया शैक्षणिक सत्र शुरू होने के बावजूद अहमदाबाद शहर के 30 से अधिक स्कूलों में विभिन्न गतिविधियां ठप पड़ी हैं.

अहमदाबाद नगर निगम ने बीयू की अनुमति के अभाव में 30 से अधिक स्कूलों को सील कर दिया है. सुमन विद्यालय नारनपुरा के प्राचार्य हर्षितभाई पटेल का कहना है कि स्कूलों में नया शैक्षणिक सत्र शुरू होते ही दाखिले की प्रक्रिया शुरू हो जाती है. साथ ही 10वीं और 12वीं की मार्किंग और रिजल्ट बनाने की प्रक्रिया अटकी हुई है. वहीं बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाने का काम भी अटका हुआ है.


इस मामले में राज्य के आचार्य मंडल के महासचिव विष्णुभाई पटेल ने सरकार से स्कूलों को खोलने की अनुमति देने के लिए आवेदन देने को कहा है. निदेशक मंडल के अध्यक्ष भास्कर पटेल ने कहा, 'जहां तक ​​बीयू की अनुमति का सवाल है, जो 1984 के बाद अमली है, पहले निर्माण अवकाश चिट्ठी लागू था. ऐसे में अगर मकान मालिक बदलता है या किराएदार बदलता है तो यह समस्या खड़ी हो गई है. सिस्टम को स्कूल के मालिक को 3 महीने या 6 महीने का समय देना चाहिए और माध्यमिक शिक्षा बोर्ड में नए स्कूल को मंजूरी देने के समय संरचनात्मक अभियंता द्वारा स्थिरता प्रमाण पत्र जारी किया गया है, तो निगम को प्रमाण पत्र मान्य रखना चाहिए. सील किए स्कूल वर्तमान में छात्रों और अभिभावकों के हित में खोले जाने चाहिए.'

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज